घर में छोटी बहन ने ब्वॉयफ्रेंड से दिखाई वो चैट, जो हुआ वह हैरान रह गया

527165-older-sister-ends-up-younger-sister-for-boyfriend

कोपरगांव  में एक बड़ी बहन द्वारा अपनी छोटी बहन को उसके प्रेमी के लिए मारने की एक चौंकाने वाली घटना हुई है। हैरानी की बात यह है कि छोटी बहन की हत्या करने के बाद बड़ी बहन ने खुदकुशी कर ली। लेकिन जांच के बाद पता चला है कि बड़ी बहन ने छोटी बहन की हत्या कर दी. (बड़ी बहन ने प्रेमी के लिए छोटी बहन को खत्म कर दिया)

अहमदनगर जिले में एक हैरान कर देने वाली घटना सामने आई है जहां एक बड़ी बहन ने प्रेम प्रसंग के बारे में परिवार को बताने पर गुस्से में अपनी छोटी बहन की हत्या कर दी. पुलिस ने आरोपी बहन को हथकड़ी लगा दी है। इस घटना से इलाके में सनसनी फैल गई है.

30 सितंबर को कोपरगांव तालुका के कोकमथान शिवारा में एक 16 वर्षीय लड़की का शव उसके ही घर में लटका मिला था। प्रथम दृष्टया मामला आत्महत्या का लग रहा है। लेकिन जांच में सामने आया है कि यह आत्महत्या नहीं बल्कि हत्या थी। पुलिस ने जांच के बाद चौंकाने वाला खुलासा किया है कि हत्या उसकी बड़ी बहन ने की थी। 

 

पोस्टमार्टम रिपोर्ट मिलते ही मृतक बच्ची की मां की ओर से तहरीर दी गई है. उसके बाद आरोपी की बड़ी बहन के खिलाफ धारा 302 के तहत हत्या का मामला दर्ज किया गया है. एक बड़ी बहन ने अंध प्रेम के कारण अपनी छोटी बहन की हत्या कर दी, जिससे हड़कंप मच गया।

इसी बीच 19 साल की बहन का एक लड़के से अफेयर चल रहा था। लड़के ने आरोपी लड़की को मोबाइल फोन दिया था। उसके बाद यह मोबाइल फोन छोटी बहन के हाथ में आ गया। उसने वह मोबाइल अपने माता-पिता को दे दिया। उसके बाद लड़की के माता-पिता ने उसे कॉलेज जाने से रोक दिया। यह बड़ी बहन का गुस्सा था। तभी बड़ी बहन जो अपने प्रेमी के साथ भाग रही थी, उसे छोटी बहन ने रोक लिया। इसके बाद गुस्से में आकर बड़ी बहन ने छोटी बहन की हत्या कर आत्महत्या का झांसा दिया।

लेकिन बहन की मौत के पांच दिन के भीतर ही यह जानकारी सामने आई कि आरोपी बहन ने अपने प्रेमी से शादी कर ली है. इसके बाद पुलिस ने जांच का पहिया घुमाकर आरोपी युवती को गिरफ्तार कर लिया है।

Check Also

भगवान शंकराचार्य ज्योतिर्मठ प्रयागराज में संजय शेरपुरियाजी की पुस्तक ‘दिव्यादर्शी मोदी’ का भव्य शुभारंभ

प्रयागराज में श्री भगवान शंकराचार्य ज्योतिर्मठ प्रयागराज में प्रसिद्ध लेखक और सामाजिक उद्यमी संजय शेरपुरियाजी …