बिहार में नीतीश सरकार बहुमत की लड़ाई में पास, पक्ष को 129 और विपक्ष को शून्य वोट

पटना: बिहार विधानसभा में नीतीश सरकार ने फ्लोर टेस्ट पास कर लिया है. ध्वनि मत से सरकार की जीत हुई है. लेकिन नीतीश कुमार ने कहा कि वोटिंग भी करायी जाये, जिस पर विभिन्न नेताओं ने अपनी राय रखी. मुख्यमंत्री ने जब बोलना शुरू किया तो विपक्षी दलों ने हंगामा शुरू कर दिया. उस पर नीतीश कुमार ने कहा कि अगर वे नहीं सुनना चाहते तो वोट करा लें. हमने सबकी बात सुन ली है. 2005 में हमें काम करने का मौका मिला. उनसे पहले उनके पिता और मां को सरकार चलाने का मौका मिला था. क्या आपको याद है अगर कोई सड़क होती तो क्या आप शाम के बाद घर से निकल पाते?

बिहार विधानसभा में फ्लोर टेस्ट पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि हमने सदन में विश्वास मत का प्रस्ताव रखा, जिस पर विभिन्न नेताओं ने अपनी बात रखी. मुख्यमंत्री ने जब बोलना शुरू किया तो विपक्षी दलों ने हंगामा शुरू कर दिया. उस पर नीतीश कुमार ने कहा कि अगर आप सुनना नहीं चाहते तो सीधे वोट कर दीजिए. हमने सबकी बात सुन ली है. हमें 2005 से काम करने का अवसर मिला। उनसे पहले उनके पिता और मां को सरकार चलाने का मौका मिला था. याद रखें, कहीं कोई रास्ता नहीं था, क्या शाम होने के बाद कोई घर से बाहर निकल पाता था? वे मुसलमानों की बात करते हैं, आए दिन हिंदू-मुस्लिम झगड़े होते थे।’ हमने हिंदू-मुस्लिम विवाद रोका. 15 साल में मुसलमानों को न्याय नहीं मिला, हमने आकर कार्रवाई की. कितना विकास हुआ है.

नीतीश कुमार ने कहा कि जो हमारे लोगों के पक्ष में हैं उनका वोट ले लीजिए और जो विपक्ष में हैं उनका वोट ले लीजिए. इस पर उपसभापति ने कहा- हां, ध्वनि मत से बहुमत पारित करने की घोषणा की गई थी. विपक्षी सदस्यों ने सदन से वॉकआउट किया.