अगर आप ये जान लेंगे तो आप चेरी खाने से नहीं बच पाएंगे

बाहर बाजार में कई तरह के फल मिलते हैं। प्रत्येक फल की अपनी विशेषता होती है। खासकर मौसमी फल हमारी सेहत के लिए कई तरह से अच्छे होते हैं। ये रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाते हैं। फ्लू और संक्रमण से दूर रहें। चेरी एक ऐसा फल है। चेरी के फल आमतौर पर बहुत से लोग नहीं खाते हैं। क्योंकि यह खट्टा होता है। लेकिन हेल्थ एक्सपर्ट्स का कहना है कि छोटे बच्चों से लेकर बूढ़ों तक सभी को इस फल का सेवन करना चाहिए। इस फल में पोषक तत्व अच्छे होते हैं। खासकर चेरी का फल विटामिन और खनिजों से भरपूर होता है। चेरी हमारी सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होती है।

चेरी आकार में बहुत छोटी होती है। लेकिन इस फल में आश्चर्यजनक पोषक मूल्य हैं। लेकिन चेरी दो फ्लेवर में आती है। एक मीठा नहीं है। दूसरी है तीखी चेरी। मीठी चेरी भारत में आम हैं। तीखी चेरी तीखी होती है। चेरी फल फाइबर, पॉलीफेनोल्स, कैरोटीनॉयड, विटामिन सी और पोटेशियम जैसे पोषक तत्वों से भरपूर होता है। 

चेरी फल के गुण

एंटीऑक्सीडेंट गुण: एंटीऑक्सीडेंट हमारे शरीर में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। ये हमारे शरीर को फ्री रेडिकल्स से बचाने में मदद करते हैं। क्या आप जानते हैं कि मुक्त कण ऑक्सीडेटिव तनाव का कारण बनते हैं? यह हृदय रोग, कैंसर, मधुमेह, पार्किंसंस रोग, मोतियाबिंद आदि नेत्र रोगों के खतरे को बढ़ाता है। रोजाना एक मुट्ठी चेरी खाने से ऑक्सीडेटिव तनाव कम हो सकता है।

अनिद्रा के लिए असरदार: अनिद्रा से हृदय संबंधी समस्याएं, अवसाद जैसी कई स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं। नींद की कमी भी आपके जीवन काल को कम करती है। लेकिन चेरी खाने से अनिद्रा को कम किया जा सकता है। चेरी का जूस बेहतर नींद में मदद करता है। चेरी के जूस में मौजूद मेलाटोनिन नींद को बेहतर बनाने में मदद करता है।

एंटी-इंफ्लेमेटरी राहत के लिए: चेरी सूजन की समस्या को कम करने में कारगर होती है। कई शोधों के अनुसार.. इंफ्लेमेटरी प्रॉब्लम से एक्यूट इंफ्लेमेशन, आर्थराइटिस, दिल की बीमारियां, डायबिटीज, कैंसर जैसी बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है। चेरी का सेवन करने से सूजन की यह समस्या कम हो सकती है।

Cherries for Heart health: हमारा जीवन काल हृदय के स्वास्थ्य पर निर्भर करता है। इसलिए दिल को स्वस्थ रखना चाहिए। ह्रदय को स्वस्थ रखने वाले भोजन का सेवन करें। लेकिन चेरी दिल को स्वस्थ रखने में भी मदद करती है। इन फलों में पोटेशियम और पॉलीफेनोल जैसे एंटीऑक्सीडेंट होते हैं। ये हृदय की रक्षा करने में उपयोगी होते हैं। 

सिरदर्द कम करता है: चेरी खाने से माइग्रेन सहित सभी प्रकार के सिरदर्द कम हो सकते हैं। एक स्टडी के मुताबिक, 24 साल की एक महिला माइग्रेन से पीड़ित थी। लेकिन रिपोर्ट्स बताती हैं कि चेरी खाने के बाद उनका माइग्रेन का दर्द काफी कम हो गया था।

आंखों के स्वास्थ्य में सुधार: ग्लूकोमा बुजुर्गों में सबसे आम आंखों की बीमारियों में से एक है। इससे अंधेपन का खतरा बढ़ जाता है। यह समस्या ऑप्टिक तंत्रिका क्षति का कारण बन सकती है। चेरी के फल में लॉगानिक एसिड होता है। यह अंतर्गर्भाशयी दबाव को कम करने में मदद करता है।

कब्ज कम करता है: कब्ज पाचन तंत्र से जुड़ी एक समस्या है। लेकिन चेरी इस समस्या के लिए एक अच्छी दवा की तरह काम करती है। क्योंकि चेरी में फाइबर की मात्रा अधिक होती है। यह कब्ज को कम करने में बहुत मददगार होता है। 

व्यायाम: स्वास्थ्य विशेषज्ञ व्यायाम के बाद चेरी खाने की सलाह देते हैं। तीखा चेरी का रस, या पाउडर एथलीटों के लिए बहुत अच्छा है। यह व्यायाम के बाद दर्द और मांसपेशियों की जकड़न को कम करता है।

Check Also

High Cholesterol: हाई कोलेस्ट्रॉल की ये चेतावनी आपके चेहरे पर दिखती है, इसे बिल्कुल भी इग्नोर न करें

 उच्च कोलेस्ट्रॉल: शरीर में यकृत द्वारा निर्मित वसा को कोलेस्ट्रॉल या लिपिड कहा जाता है। शरीर के …