दांतों की सड़न से बचाव: अगर आप दांतों की समस्या से परेशान हैं तो अपनाएं ये 3 घरेलू नुस्खे

नई दिल्ली : दांतों की समस्या आम है, यह अक्सर मिठाई खाने से होता है, जैसे चॉकलेट, बिस्कुट, केक या पिज्जा, बर्गर, कोल्ड ड्रिंक, खाने में सफेद चीनी का ज्यादा सेवन। आमतौर पर छोटे बच्चों या किशोरों में दांतों की समस्या के मामले देखने को मिलते हैं लेकिन कई मामलों में यह वयस्कों में भी पाया जाता है। जानकारों के मुताबिक यह बहुत ज्यादा कार्बोहाइड्रेट युक्त खाना खाने से होता है, जो दांतों से चिपक जाता है और वहां बैक्टीरिया पनपने लगते हैं। ये बैक्टीरिया प्लाक बनाते हैं। प्लाक में मौजूद एसिड की वजह से दांत की ऊपरी परत प्रभावित होने लगती है, जिससे दांतों की समस्या होने लगती है। अगर पीरियोडोंटाइटिस की समस्या लंबे समय से चल रही है, तो डॉक्टर सड़े हुए दांतों को हटा देंगे, लेकिन अगर समस्या अभी शुरू हुई है, तो इसे रोका जा सकता है।

अगर आपको दांतों की समस्या होने लगी है तो आप इन घरेलू नुस्खों की मदद से इसका सेवन कर सकते हैं

खारा पानी

दांतों की समस्या को दूर करने के लिए एक गिलास पानी में नमक मिलाकर उससे गरारे करें। आयुर्वेद में दांतों की समस्या को दूर करने के लिए नमक के पानी से कुल्ला करना बहुत कारगर माना गया है। खासतौर पर रात को सोने से पहले नमक के पानी से गरारे करने से दांतों की समस्या कुछ हद तक कम हो सकती है।

लौंग

लौंग हर घर में आसानी से मिल जाती है। एंटीसेप्टिक, एंटी-फंगल और एंटी-बैक्टीरियल गुणों से भरपूर लौंग दांत दर्द, दर्द या दोनों ही मामलों में फायदेमंद साबित होती है। लौंग के तेल को दांतों पर लगाने से इस समस्या से छुटकारा मिल सकता है।

निम

पुराने जमाने में नीम का इस्तेमाल दांत साफ करने के लिए किया जाता था। गौरतलब है कि नीम में जीवाणुरोधी गुणों के साथ-साथ फाइबर भी होता है, जो दांतों पर प्लाक बनने से रोकता है। दांत दर्द और दर्द को कम करने के लिए आप नीम के तेल का इस्तेमाल कर सकते हैं।

Check Also

egg-12-960x507

उबले अंडे साइड इफेक्ट: जिम जाने वालों से रहें सावधान, ज्यादा उबले अंडे खाने से भी हो सकते हैं साइड इफेक्ट

उबले अंडे का साइड इफेक्ट: अंडे को प्रोटीन का एक समृद्ध स्रोत माना जाता है, एक …