अगर आप गठिया से पीड़ित हैं तो आज से ही यह नियम अपनाएं और दर्द से निजात मिल जाएगी

तांबे के बर्तन में पानी रखने या पीने का पानी प्राचीन काल से चला आ रहा है। लेकिन तांबे के बर्तन में पानी पीने का चलन अब नहीं रहा। प्लास्टिक की बोतलों और आंखों को लुभाने वाली डिजाइनर बोतलों के इस्तेमाल की वजह से हर कोई पानी पीता है। लेकिन प्लास्टिक की बोतल से पानी पीना कितना खतरनाक होता है ये तो सभी जानते हैं। और तांबे की बोतलें फैशन में वापस आ गई हैं। शरीर को ध्यान में रखते हुए कई लोग तांबे की बोतल या गिलास में पानी पीते हैं। 

प्लास्टिक की बोतलों के इस्तेमाल से तांबे के बर्तन में पानी पीने का चलन लगभग बंद हो गया है। लेकिन समय बीतने के साथ लोगों की पुरानी आदतें भी वापस आ रही हैं। तांबे की बोतलें वापस फैशन में हैं। शरीर को ध्यान में रखते हुए कई लोग तांबे की बोतल या गिलास में पानी पीते हैं। कॉपर में एंटी-माइक्रोबियल, एंटी-इंफ्लेमेटरी, एंटी-ऑक्सीडेंट गुण होते हैं। जो शरीर के लिए बहुत फायदेमंद होता है। तांबे के बर्तन में पानी रखने से भी आयरन का परिवहन होता है। इसके अलावा तांबे में मौजूद अन्य तत्व भी शरीर के लिए अच्छे होते हैं। तांबे का पानी नियमित रूप से पीने से खून की कमी दूर होती है। इसका मुख्य कारण यह है कि कॉपर आयरन को पानी में पहुंचाता है, जिससे रक्त में आयरन का स्तर बढ़ सकता है। इसलिए तांबे का पानी पीने से एनीमिया की समस्या कम हो सकती है।

 

 

गठिया का दर्द कमोबेश बहुत से लोग जोड़ों के दर्द की समस्या से परेशान रहते हैं। हड्डी के कमजोर हिस्से पर अतिरिक्त दबाव पड़ने से दर्द दोगुना हो जाता है। गठिया के दर्द से पीड़ित लोग भी नियमित रूप से तांबे के बर्तन में पानी पीते हैं। कॉपर गठिया को कम करने में मदद करता है। इसके एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण आंत के दर्द को कम करने में मदद करते हैं। कॉपर थायरॉयड ग्रंथि से अतिरिक्त हार्मोन स्राव को रोकता है। शरीर में कॉपर की सही मात्रा होने पर संतुलन बना रहता है। शरीर में तांबे का निम्न स्तर रक्तचाप में बदलाव का कारण बनता है। और इससे हाई ब्लड प्रेशर की समस्या हो जाती है। कॉपर कोलेस्ट्रॉल को कंट्रोल में रखता है। इसलिए उच्च रक्तचाप को रोकने के लिए इसकी कई आवश्यकताएं हैं। शरीर में तांबे की उचित मात्रा बनाए रखने के लिए नियमित रूप से तांबे का पानी पिएं। दिल को सुरक्षित और स्वस्थ रखने के लिए पिएं तांबे की बोतल का पानी कॉपर रक्त परिसंचरण को बनाए रखने में मदद करता है। ब्लड सर्कुलेशन अच्छा हो तो हार्ट की समस्या नहीं होती है। कॉपर एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होता है, जो नई कोशिकाओं के निर्माण में मदद करता है। इससे त्वचा पर झुर्रियां नहीं पड़ती और त्वचा स्वस्थ रहती है।

 

Check Also

विंटर केयर: सर्दियों में घर पर ही बनाएं नाइट क्रीम…त्वचा रहेगी रूखी

विंटर केयर: सर्दियों में सबसे ज्यादा नुकसान त्वचा को होता है, बाहर की हवा में एक …