संक्रमण का उलटफेर:बस्तर में घटे तो बिलासपुर-रायपुर में बढ़ गए कोरोना के नए मरीज, जांजगीर-चांपा में मौत का सिलसिला जारी

 

प्रदेश के अस्पतालों में सुविधाएं बढ़ाने का काम जारी है। सरकार का जोर अधिक से अधिक बिस्तरों को ऑक्सीजन आपूर्ति से जोडने पर है।

छत्तीसगढ़ में कोरोना संक्रमण की दर घटकर 0.6% हो गई है। पिछले सप्ताह की तुलना में कम केस आने के बाद एक बड़ा उलटफेर देखने को मिल रहा है। दूसरी लहर के बाद जिस बस्तर क्षेत्र से सबसे अधिक नए मामले रिपोर्ट हो रहे थे, अब वहां मरीज कम हो रहे हैं। लेकिन रायपुर, बिलासपुर, बलौदाबाजार जैसे जिलों में नए मरीजों की संख्या बढ़ गई है। जांजगीर-चांपा में तो लगभग हर रोज मरीजों की मौत भी हो रही है।

188 लोग कोरोना संक्रमित
स्वास्थ्य विभाग की देर रात जारी रिपोर्ट के मुताबिक, बुधवार को दिन भर में कोरोना के 31 हजार 77 नमूनों की जांच हुई है। इस बीच 188 लोगों में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई है। प्रदेश में सबसे अधिक 22 संक्रमित जांजगीर-चांपा जिले में सामने आए हैं। उसके बाद बिलासपुर में 18 और रायपुर में 15 मरीज मिले। बलौदाबाजार-भाटापारा जिले में भी 13 नए मरीजों की पुष्टि हुई है। इन मैदानी जिलों की तुलना में बस्तर जिले में 11, सुकमा में 8 और बीजापुर में 2 नए मरीज मिले हैं। कुछ अरसा पहले तक इन तीन जिलों में सर्वाधिक संक्रमित मिल रहे थे।

एक दिन पहले के आंकड़ों से तुलना करें तो स्थिति थोड़ी और साफ होगी। मंगलवार की रिपोर्ट के मुताबिक, प्रदेश में सर्वाधिक संक्रमित जिलों में से अधिकतर बस्तर संभाग के ही थे। प्रदेश के सबसे अधिक 21 मरीज बीजापुर जिले में मिले थे। बस्तर में नए मरीजों की संख्या 20 रही है। कांकेर में 13 और दंतेवाड़ा में 10 नए मरीज मिले। सबसे अधिक संक्रमित मरीजों वाले सुकमा में मंगलवार को केवल 7 नए मरीज मिले। बस्तर के बाहर रायपुर में सबसे अधिक 18 मरीज मिले हैं। उसके बाद जशपुर में 13, महासमुंद में 10 और दुर्ग जिले में 9 नए मरीजों की पुष्टि हुई थी। जांजगीर-चांपा में भी केवल 7 मरीज मिले थे।

बिलासपुर ने फिर बढ़ाई चिंता
बुधवार कीे रिपोर्ट में बिलासपुर जिले के आंकड़ों ने स्वास्थ्य विभाग की चिंता को बढ़ा दिया है। कुछ दिन पहले तक वहां की स्थिति काफी नियंत्रित दिख रही थी। मंगलवार को बिलासपुर में केवल 3 नए मामले सामने आए थे। बुधवार को वहां 18 मरीज हो गए। इससे पहले 19 जुलाई को 9, 18 जुलाई को 6 और 17 जुलाई को 15 मरीज मिले थे।

जांजगीर-चांपा में हर रोज मौत
प्रदेश में बुधवार को 2 मरीजों की कोरोना की वजह से मौत हुई है। दोनों मामले जांजगीर-चांपा जिले से आए हैं। चिंताजनक यह है कि मृत्यु दर काफी घट जाने के बाद भी जांजगीर-चांपा जिले में मरीजों की मौत रोज ही हो रही है।18, 19 और 20 जुलाई को भी यहां एक-एक मरीज की मौत हुई थी। 17 जुलाई को दो मरीजों की मौत हुई। जुलाई के इन 21 दिनों में जांजगीर-चांपा जिले से ही 14 मरीजों की मौत हो चुकी है। जबकि इस दौरान प्रदेश भर में मरने वालों की संख्या 67 है।

 

खबरें और भी हैं…

Check Also

Delhi में स्कूली शिक्षा

Delhi में स्कूली शिक्षा को लगेंगे पंख, अंतरराष्ट्रीय स्तर के 20 नए स्कूल खोलने जा रही केजरीवाल सरकार

नई दिल्ली: दिल्ली (Delhi) सरकार ने स्कूली शिक्षा को और बेहतर बनाने के लिए नया कदम …

");pageTracker._trackPageview();