झामुमो में हिम्मत है तो हेमंत सोरेन के दिल्ली से रांची भागकर आने का श्वेतपत्र जारी करे : अरुण उरांव

रांची, 3 फरवरी (हि.स.)। भाजपा प्रदेश प्रवक्ता एवं पूर्व आईपीएस अधिकारी अरुण उरांव ने शनिवार को झामुमो प्रवक्ता सुप्रियो भट्टाचार्य के बयान पर कड़ी प्रतिक्रिया दी। उन्होंने कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन अपने कर्मों से जेल गए हैं। झामुमो को हिम्मत है तो बताए कि मुख्यमंत्री दिल्ली आवास से फरार क्यों हुए। चार्टर्ड प्लेन से गए थे और भगोड़े की तरह भागते-भागते रांची क्यों पहुंचे?

झामुमो को बताना चाहिए कि दिल्ली से रांची भागकर आने के दौरान तत्कालीन मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन का रूट चार्ट क्या था। कौन-कौन सुरक्षा अधिकारी उनके साथ थे। झामुमो बताए कि आखिर 48 घंटे तक हेमंत सोरेन ने राज्य को किसके भरोसे छोड़ा था। आखिर कौन सी मजबूरी थी कि राज्य की जनता को मुख्यमंत्री के गायब होने की खबर पर स्पष्ट जानकारी नहीं दी गई। उन्होंने कहा कि झामुमो अपनी नाकामियों और विफलताओं पर श्वेत पत्र जारी करे। झारखंड में जल, जंगल जमीन की लूट पर श्वेत पत्र जारी करे। महिलाओं के साथ हुए छह हजार से अधिक दुष्कर्म की घटनाओं पर श्वेत पत्र जारी करे।

उरांव ने कहा कि भाजपा प्रदेश अध्यक्ष बाबूलाल मरांडी ने हेमंत सोरेन को कई बार पत्र लिखकर सचेत भी किया। दोषियों पर कार्रवाई की सलाह दी लेकिन सत्ता के अहंकार में कोई ध्यान नहीं दिया। उन्होंने कहा कि ईडी की कार्रवाई विधि सम्मत कार्रवाई है। लूट और भ्रष्टाचार करने वालों के खिलाफ कार्रवाई के लिए ही ईडी सीबीआई जैसी संस्थाएं इस देश में काम कर रही हैं।