हिसार: गुरू जम्भेश्वर विवि. में 1.10 करोड़ की लागत से बनेगी आईडिया लैब

हिसार, 23 जून (हि.स.)। यहां के गुरु जम्भेश्वर विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय में स्थापित होने जा रही आइडिया लैब की रूपरेखा और कार्यशैली बारे अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद् (एआईसीटीई) एवं गुजविप्रौवि हिसार के बीच गहन विचार विमर्श हुआ।

बैठक में एआईसीटीई, दिल्ली के इंस्टीट्यूशनल डेवलपमेंट सैल के सलाहकार डॉ.नीरज सक्सेना, आइडिया लैब के चीफ मेंटर एवं मैकेनिकल विभाग के प्राध्यापक प्रो.पंकज खटक, आइडिया लैब के समन्वयक इलेक्ट्रिकल विभाग के सहायक प्राध्यापक डॉ.सुमित सरोहा व इलेक्ट्रोनिक्स एंड कम्युनिकेशन विभाग के सहायक प्राध्यापक डॉ. विजयपाल, सभी इंजीनियरिंग विभागों के अध्यक्ष, शहर के स्कूलों और कल-कारखानों के प्रतिनिधि भी उपस्थित रहे।

विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. बलदेव राज कम्बोज ने आइडिया लैब की स्थापना के लिए खुशी व्यक्त की और इसकी स्थापना के लिए कार्य में जुटी टीम को शुभकामनाएं दी। उन्होंने कहा कि जल्द ही विश्वविद्यालय में आइडिया लैब की स्थापना हो जाएगी जिसका सीधा फायदा विश्वविद्यालय व आसपास के महाविद्यालयों, स्कूलों के साथ-साथ मध्यम एवं लघु उद्योगों को होगा। इससे नई शिक्षा नीति के अनुसार विद्यार्थियों को प्रेक्टिकल ज्ञान पर आधारित शिक्षा मिल सकेगी।

विश्वविद्यालय के कुलसचिव प्रो. अवनीश वर्मा ने बताया कि विश्वविद्यालय पिछले कई वर्षों से विद्यार्थियों को गुणवत्तापूर्ण तकनीकी शिक्षा प्रदान करने में लगा हुआ है। विश्वविद्यालय में भौतिकी, रसायन विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग हैं। ये विभाग व्यापक क्षेत्र में अनुसंधान एवं विकास से संबंधित प्रयोगशालाओं और उपकरणों से सुसज्जित हैं।

बैठक में आइडिया लैब पर अपनी प्रस्तुति में डा. नीरज सक्सेना ने एआईसीटीई व उससे जुड़े नियमों व शर्तों के बारे मेें अवगत करवाया और आइडिया लैब के आइडिया से रुबरु करवाया। उन्होंने विशेषकर बच्चों के प्रैक्टिकल नॉलेज एवं कौशल विकास पर जोर देने के बारे में बताया। उन्होंने बताया कि बच्चों की रुचि बढ़ाने के लिए विश्वविद्यालय और शिक्षकों को आगे आना होगा और पढ़ाई को रोमांचक बनाना होगा। इससे बच्चे पढ़ाई के प्रति आकर्षित हो सकेंगे और रोमांचित ढंग से सब कुछ सीख सकेंगे। उन्होंने बताया कि आइडिया लैब की स्थापना में 1.10 करोड़ की लागत आएगी, जिसमें आधा खर्च विश्वविद्यालय और आधा खर्च एआईसीटीई वहन करेगी।

Check Also

चावल की खेती : अब बाढ़ के पानी में बचेगी धान की फसल, जानें ‘सह्याद्री पंचमुखी’ किस्म के बारे में

धान की बाढ़ प्रतिरोधी किस्म: वर्तमान में किसान विभिन्न संकटों का सामना कर रहे हैं। कभी असमानी तो कभी …