7hshi80ETE5qUedhC5z8b3fkVkf1KGYRUP3og1ul

जम्मू-कश्मीर के स्कूलों में ‘रघुपति राघव’ गाना गाने को लेकर विवाद जारी है. जहां पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती ने बीजेपी नीत केंद्र सरकार पर निशाना साधा है. साथ ही पूर्व सीएम और नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता फारूक अब्दुल्ला का रवैया महबूबा मुफ्ती से अलग है. अब्दुल्ला ने कहा कि वह भजन भी गाते हैं। इसमें गलत क्या है?’

 

 

महबूबा मुफ्ती ने 19 सितंबर को एक वीडियो शेयर किया था. जिसमें एक स्कूल में बच्चे रघुपति राघव राजा राम गाते नजर आए। इसे लेकर महबूबा मुफ्ती ने केंद्र सरकार पर निशाना साधा है. उन्होंने कहा कि कश्मीर में भारत सरकार के असली हिंदुत्व के एजेंडे का पर्दाफाश धार्मिक नेताओं को जेल में डालने, जामा मस्जिद को बंद करने और स्कूली बच्चों को हिंदू गीत गाने की हिदायत देकर किया गया है.

अब इस मामले में फारूक अब्दुल्ला ने अपनी प्रतिक्रिया दी है. हम 2 राष्ट्र सिद्धांत में विश्वास नहीं करते थे। भारत सांप्रदायिक नहीं है और धर्मनिरपेक्ष है। मैं भी भजन गाता हूं। इसमें गलत क्या है? अगर कोई हिंदू अजमेर दरगाह जाता है, तो क्या वह मुसलमान बन जाएगा?

 महबूबा फैलाती हैं झूठ – बीजेपी

पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती के आरोपों को खारिज करते हुए भाजपा ने उन पर बिना तथ्यों के झूठ फैलाने का आरोप लगाया। जम्मू-कश्मीर शिक्षा विभाग ने स्कूलों में भजन गाने का निर्देश जारी किया था. वास्तव में, बच्चों को स्कूलों में भजन गाने का निर्देश देना गांधी जयंती समारोह का हिस्सा था। आदेश में कहा गया है कि राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 153वीं जयंती के मौके पर शुरू होने वाले कार्यक्रमों में रघुपति राघव के गीत को स्कूलों में शामिल किया जाए. रघुपति राघव गांधीजी का प्रिय भजन था, इसलिए इसे इन कार्यक्रमों में शामिल किया गया।