राष्ट्रगानः UAE लौटा भारतीय राष्ट्रगान बजने पर एयरपोर्ट पर गिरा बांग्लादेशी

बांग्लादेशी कोयम्बटूर एयरपोर्ट: कोयंबटूर एयरपोर्ट पर सोमवार को एक बांग्लादेशी नागरिक को गिरफ्तार किया गया . भारतीय आव्रजन अधिकारियों ने इस व्यक्ति को भारतीय राष्ट्रगान गाने के लिए कहा। लेकिन इसे भारत का राष्ट्रगान नहीं कहा जा सका। इससे यह साफ हो गया कि यह शख्स विदेशी था और उसे गिरफ्तार कर लिया गया।

यह व्यक्ति कौन है?

शारजाह के अधिकारी जी. अनवर हुसैन (27) को पूछताछ के लिए रोका गया। अधिकारियों द्वारा पूछे गए कई सवालों का वह जवाब नहीं दे पाए। बांग्लादेशी नागरिक के पास भारतीय पासपोर्ट और आधार कार्ड भी था। अनवर हुसैन बांग्लादेश के बालमपुर के मूल निवासी हैं। वह शारजाह से एयर अरेबिया की फ्लाइट से कोयम्बटूर एयरपोर्ट पहुंचे थे। प्रारंभिक पूछताछ के दौरान जब उनसे पासपोर्ट के बारे में पूछा गया तो उन्होंने पासपोर्ट पेश कर दिया।

पासपोर्ट पर पता कोलकाता से कोयम्बटूर क्यों आया?

पासपोर्ट में मिली जानकारी के आधार पर अनवर कोलकाता का रहने वाला पाया गया। लेकिन इमिग्रेशन अधिकारियों ने कोलकाता की बजाय कोयम्बटूर में उतरने को लेकर सवाल पूछे. पुलिस ने अनवर से कुछ सवाल पूछे कि उसने ऐसा क्यों किया। लेकिन अनवर यह नहीं बता सका कि वह कोलकाता के बजाय कोयम्बटूर क्यों आया। 

 

अधिकारियों ने राष्ट्रगान बजाने को कहा…

अधिकारियों ने जब अनवर से पूछताछ की तो वह परस्पर विरोधी जवाब देने लगा। उसने अपना आधार कार्ड और जन्म प्रमाण पत्र भी दिखाया। इन दोनों दस्तावेजों पर भारत सरकार की मुहर लगी हुई थी और यह संकेत देने के लिए सब कुछ था कि वे सरकारी दस्तावेज थे। लेकिन साथ ही इमिग्रेशन अधिकारियों की टीम में एम. कृष्णाश्री ने अनवर से भारत का राष्ट्रगान सुनने को कहा। लेकिन अनवर को राष्ट्रगान गाना नहीं आता। इसके बाद उसने खुद अधिकारियों के सामने कबूल किया कि वह भारतीय नहीं बल्कि बांग्लादेशी है।

2018 से इतिहास मिला

अधिकारियों ने अनवर को पिलामेडु थाने की पुलिस को सौंप दिया। पुलिस ने उनके खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। विदेशी नागरिकों की घुसपैठ अधिनियम के साथ पासपोर्ट अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया गया है। अनवर पहली बार 2018 में तमिलनाडु के तिरुपुर जिले के अविनाशी कस्बे में आया था। उसके बाद उसने झूठी सूचना के आधार पर 2020 तक वहां काम किया। इसके बाद उनकी मुलाकात कुछ एजेंटों से हुई। उसने फर्जी जन्म प्रमाण पत्र बनवाया। उसकी मदद से ही उसने आधार कार्ड और भारतीय पासपोर्ट बनवाया था।

फर्जी दस्तावेजों के सहारे गए थे विदेश लेकिन…

इन दस्तावेजों को तैयार करने के बाद अनवर संयुक्त अरब अमीरात चला गया। वहां उन्होंने दर्जी का काम किया। सोमवार को वह फिर अविनाशी में स्थायी रूप से बसने के इरादे से भारत लौटा। लेकिन अधिकारियों ने उसे रंगे हाथ पकड़ लिया। इस मामले में खुफिया एजेंसियों ने भी जांच शुरू कर दी है। अनवर हुसैन को मंगलवार को एक स्थानीय मजिस्ट्रेट के सामने पेश किया गया। उन्हें चेन्नई के पुजल सेंट्रल जेल में न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है। 

Check Also

MNS Vs Aaditya Thackeray : मनसे विधायक राजू पाटिल ने आदित्य ठाकरे पर निशाना साधा।

कल्याण : नासिक दौरे के दौरान आदित्य ठाकरे ने भाजपा शिंदे समूह के साथ मनसे …