Human Web Series Review : ह्यूमन ट्रायल के बाजार से रू-ब-रू कराती शेफाली शाह-कीर्ति कुल्हारी की सीरीज

स्टार कास्ट – शेफाली शाह (Shefali Shah), कीर्ति कुल्हारी (Kirti Kulhari), विशाल जेठवा (Vishal Jethwa) निर्देशक –विपुल अमृतलाल शाह  (Vipul Amrutlal Shah) और मोजेज सिंह (Mozez Singh) कहां देख सकते हैं – डिज्नी प्लस हॉटस्टार (Disney Hotstar Plus) रेटिंग –3.5

सीरीज में आखिर है क्या

शेफाली शाह और कीर्ति कुल्हारी की मेडिकल ड्रामा वेब सीरीज (Medical Drama Web Series) ह्यूमन (Human) डिज्नी हॉट स्टार प्लस (Disney Hotstar Plus) पर रिलीज कर दी गई है. दुनिया में जहां हर जगह फरेब, धोखा-धड़ी, बदमाशी और भ्रष्टाचार है, इस सीरीज में दिखाया गया है कि मेडिकल फील्ड में कुछ जगह ऐसी हैं जो इन चीजों से अछूती नहीं है. आलम ये है कि इंसान की जान की कीमत भी इनके लिए कुछ नहीं है, डिज्नी हॉटस्टार (Hotstar) पर रिलीज हुई वेब सीरीज ह्यूमन (Web Series Human) इसी अमानवीयता का एक पक्ष दर्शकों के सामने रखती है.

कहानी में एक महिला डॉक्टर है-डॉ गौरी नाथ. वह अपने काम को लेकर बहुत पैशनिट है. वह साथ ही साथ एक महत्वाकांक्षी महिला भी है. जो अपनी चीजों के लिए किसी भी सनक तक जा सकती है. भोपाल के एक बड़े अस्पताल (मंथन) की डॉ गौरी नाथ (Shefali Shah) के अंडर हाल ही में एक नई डॉक्टर आती हैं डॉ.सायरा सभरवाल (कीर्ति कुल्हारी). इन दोनों किरदारों के साथ दवा ट्रायल को लेकर कहानी इनके इर्द-गिर्द घूमती है. कहानी में शुरुआत में सब अच्छा होता है, डॉ सभरवाल अस्पताल में काम करके बेहद खुश है कि तभी स्टोरी में एक नया मोड़ आता है जब ट्रायल कैंप से बाहर एक लड़के की मां को रिएक्शन हो जाता है. दरअसल, दिल के मरीजों की नई दवा बनाने के लिए गिन पिग्स के अलावा इंसानों में भी ट्रायल कराया जा रहा होता है. यहां वह लड़का कोई और नहीं बल्कि विशाल जेठवा (Vishal Jethwa) हैं.

 

विशाल जेठवा सीरीज में एक गरीब लड़के की भूमिका में है जिसका नाम मंगू है. स्लम से आया ये लड़का अपने परिवार को एक इंजेक्शन लगने के हजारों रुपए दिलाता है, इससे वह खुश है. एक के बाद एक कई लोग वो इंजेक्शन लगवाते हैं लेकिन उस दवा का असर उलट होना शुरू हो जाता है. कई लोगों की इस बीच मौत भी हो जाती है. अब सवाल ये है कि इन लोगों को इसका मुआवजा कौन देगा? आखिर में कहानी में क्या होता है? ये जानना बेहद दिलचस्प है.

ये फिल्म क्यों देखनी चाहिए

थ्रिलर ड्रामा ह्यूमन में दवाइयों के बाजार में कैसे एक इंसान की जान की कीमत कुछ नहीं होती सीरीज में दिखाया गया है. दवाइयों के ट्रायल किए जाते हैं जिसका हिस्सा गरीब इंसान बनते हैं. दवा का प्रयोग पहले गरीब पर किया जाता है. वह मेडिकल की दुनिया में एक्सपेरिमेंट का हिस्सा बन जाता है. दवाइयों की कंपनियां इन ट्रायल्स को मानव शरीर पर कराने के लिए पैसे देती है और फिर मुनाफा कमाती हैं. एक्सपेरिमेंट के लिए लाए गए लोगों को पैसे छापने वाली मशीन समझा जाता है. इस काले धंधे में कई बार बड़े अस्पताल भी शामिल होते हैं.

Check Also

‘3 इडियट’ के ‘रेंचो’ के स्कूल को 20 साल बाद भी नहीं मिली CBSE से मान्यता, जानें क्यों?

नई दिल्ली. फिल्म ‘3 इडियट’ में दिखाए गए रेंचो के स्कूल ‘ड्रुक पद्मा कार्पो’ को स्थापना …