यहाँ पर मिलती है पत्नी से मुक्ति, जगह का नाम है ‘पत्नी मुक्ति घाट’

वैसे तो काशी में 84 घाट है लेकिन हम आपको बता रहे है काशी के एक घाट के बारे में जिसे “पत्नी मुक्ति घाट” के रूप में जाना जाता है। यह घाट बहुत ही प्रसिद है।

इस घाट को कुवाई घाट के नाम से जाना जाता है। यहाँ के पुरोहितों का यह मानना है कि यहां पर यदि पति-पत्नी साथ में स्नान कर लेते है तो फिर उनके बीच मतभेद बढ़ जाते हैं। ये मतभेद कई बार यहाँ तक पहुँच जाते है कि दोनों को रिश्ता ही खत्म करना पड़ता है। इस कारण ही इस घाट को “पत्नी मुक्ति घाट” कहा जाता है।

यहां पुरोहित बताते है कि इसके चलते ही इस घाट पर पति पत्नी साथ में नहाने से डरते है। और इस घाट के बारे में खुद पुरोहित भी घाट के पास से गुजरने वाले पति-पत्नी को पहले से ही अगाह कर देते हैं। इस घाट को नारद घाट के नाम से भी जाना जाता है।

कहते है कि नारद ने यहां पर सबसे पहले नारदेश्वर मंदिर का निर्माण करवाया था। अब यह तो हुई शास्त्रों की बातें, लेकिन हम तो आपको यही कहेंगे कि पति-पत्नी का रिश्ता बहुत ही खूबसूरत रिश्ता है। इसे ऐसे ही बनाए रखे और हाँ ये “पत्नी मुक्ति घाट” पर साथ में ना नहाए।

Check Also

जब मां के साथ मासूम हाथी के बच्चे ने पार की सड़क की ये मुश्किल, लोगों को आया ऐसा रिएक्शन

सोशल मीडिया पर एक हाथी संग उसके बच्चे का वीडियो लोगों को सोचने पर मजबूर …