यहां पर पीरियड के पहले दिन ही लड़की की करवा दी जाती है शादी, वजह जानकर रह जाओगे हैरान

भारत के एक गांव में पहली बार पीरियड आने पर लड़कियों के साथ एक बड़ी ही अजीबो-गरीब परंपरा निभाई जाती है।असम के बोगांइ जिले के सोलमारी गांव में पहले बार लड़की के पीरियड आने पर लोग नाचते गाते हैं। यहां के लोग इस अजीबोगरीब परंपरा को सालों से निभाते आ रहे है।

कहते है कि पहली बार पीरियड आने पर लड़की की शादी केले के पेड़ से करवा दी जाती है। इस अनोखी शादी को तोलिनी शादी कहा जाता है। यह शादी तब की जाती है जब लड़की किशोरवस्था में कदम रखती है।

पीरियड के पहले दिन ही लड़की की शादी करवा दी जाती है। उसके बाद परंपरा के अनुसार लड़की को एेसे कमरे में बंद कर दिया जाता है जहां सूरज की रोशनी न पड़ सकें। यहां पर परंपरा के अनुसार शादी के बाद लड़की को पका हुआ खाना भी नहीं दिया जाता।

लड़की को केवल सिर्फ दूध और फल खाने को देते है। यहीं नहीं, लड़की को पीरियड के दौरान जमीन पर सोना पड़ता है। इस दौरान वह किसी का चेहरा तक नहीं देख सकती है।भारत के एक गांव में पहली बार पीरियड आने पर लड़कियों के साथ एक बड़ी ही अजीबो-गरीब परंपरा निभाई जाती है।असम के बोगांइ जिले के सोलमारी गांव में पहले बार लड़की के पीरियड आने पर लोग नाचते गाते हैं। यहां के लोग इस अजीबोगरीब परंपरा को सालों से निभाते आ रहे है।

कहते है कि पहली बार पीरियड आने पर लड़की की शादी केले के पेड़ से करवा दी जाती है। इस अनोखी शादी को तोलिनी शादी कहा जाता है। यह शादी तब की जाती है जब लड़की किशोरवस्था में कदम रखती है।

पीरियड के पहले दिन ही लड़की की शादी करवा दी जाती है। उसके बाद परंपरा के अनुसार लड़की को एेसे कमरे में बंद कर दिया जाता है जहां सूरज की रोशनी न पड़ सकें। यहां पर परंपरा के अनुसार शादी के बाद लड़की को पका हुआ खाना भी नहीं दिया जाता।

लड़की को केवल सिर्फ दूध और फल खाने को देते है। यहीं नहीं, लड़की को पीरियड के दौरान जमीन पर सोना पड़ता है। इस दौरान वह किसी का चेहरा तक नहीं देख सकती है।

Check Also

जम्मू-कश्मीर का अधिवास कानून बाहरी से शादी करने वाली महिलाओं के लिए फायदेमंद

आजादी के बाद पहली बार ऐसा होगा, जब केंद्र शासित प्रदेश (यूटी) के बाहर के …