Heart Attack: देश में क्यों बढ़ी हार्ट अटैक की दर….

मुंबई:  कभी हार्ट अटैक को बूढ़े लोगों की बीमारी माना जाता था। लेकिन कोरोना के बाद युवाओं में हार्ट अटैक की दर चिंताजनक है। क्या बढ़ता हार्ट अटैक कोरोना से जुड़ा है? आइए देखते हैं एक रिपोर्ट। 

कभी शादी में डांस करते हुए, कभी रामलीला में अभिनय करते हुए, कभी जिम में वर्कआउट करते हुए, कभी टहलते हुए लोगों को अचानक हार्ट अटैक आ जाता है। वे मर रहे हैं। खासतौर पर युवाओं में हार्ट अटैक की दर अचानक से बढ़ रही है। लेकिन ऐसा क्यों हो रहा है? 2 साल में अचानक हार्ट अटैक की दर क्यों बढ़ गई है, क्या इसका कोरोना से कोई लेना-देना है, इसे लेकर कुछ चौंकाने वाली रिपोर्ट सामने आई हैं। विशेषज्ञों की मानें तो हार्ट अटैक के अचानक बढ़ने को कोरोना का साइड-इफेक्ट कहा जा सकता है। 

कोरोना की वजह से बढ़ा हार्ट अटैक?

कोरोना के कारण गंभीर रूप से बीमार मरीजों में रक्त के थक्के जमने की दर सामान्य मरीजों की तुलना में 27 गुना अधिक है. ठीक होने के बाद कोरोना के मरीजों में हार्ट फेल होने की संभावना 21 गुना ज्यादा होती है। गंभीर कोरोना रोगियों को ठीक होने के बाद स्ट्रोक होने की संभावना 17 गुना अधिक होती है।

 

विशेषज्ञों के मुताबिक कोरोना से ठीक हो चुके मरीजों के इम्यून सिस्टम पर विपरीत असर पड़ा है, जिसका सीधा असर दिल पर पड़ता है. इतना ही नहीं, कोरोना के बाद ब्लड क्लॉटिंग की समस्या शुरू हो जाती है और हृदय रोग का खतरा बढ़ जाता है। भारत में कोरोना महामारी और हार्ट अटैक के कनेक्शन पर कोई शोध नहीं हुआ है, लेकिन अंतरराष्ट्रीय स्तर पर देखा जाने वाला हार्ट अटैक का यही चलन भारत में भी देखा जा रहा है। यह बहुत चिंताजनक है।

Check Also

High Cholesterol: हाई कोलेस्ट्रॉल की ये चेतावनी आपके चेहरे पर दिखती है, इसे बिल्कुल भी इग्नोर न करें

 उच्च कोलेस्ट्रॉल: शरीर में यकृत द्वारा निर्मित वसा को कोलेस्ट्रॉल या लिपिड कहा जाता है। शरीर के …