सितंबर में जीएसटी संग्रह रु. 1.4 लाख करोड़, पिछले वर्ष की तुलना में 26 प्रतिशत की वृद्धि

GST

कोरोना महामारी के प्रभाव से निकल रही सरकार का राजस्व ठप होता नजर आ रहा है. सितंबर में लगातार सातवें महीने जीएसटी संग्रह रु . 1.4 लाख करोड़ का आंकड़ा पार कर लिया है। वित्त मंत्रालय ने आज यह जानकारी दी। मंत्रालय के मुताबिक सितंबर महीने में जीएसटी कलेक्शन 1.47 लाख करोड़ रुपये पर पहुंच गया है, जो पिछले साल के मुकाबले 26 फीसदी ज्यादा है. इसके साथ ही सितंबर माह में ई-बिल और ई-चालान की संख्या भी 11 करोड़ को पार कर गई है। अप्रैल में ही कुल जीएसटी संग्रह रु. 1.67 लाख करोड़, जो एक सर्वकालिक रिकॉर्ड स्तर है।

क्या हैं जीएसटी के आंकड़े?

वित्त मंत्रालय की ओर से जारी आंकड़ों के मुताबिक सितंबर महीने में जीएसटी से कुल राजस्व 1,47,686 करोड़ रुपये रहा. जीएसटी लागू होने के बाद से यह 8वां महीना है जब जीएसटी संग्रह रु। 1.4 लाख करोड़ का आंकड़ा पार कर लिया है। इस संग्रह में सीजीएसटी रु। 25271 करोड़, एसजीएसटी रु. 31813 करोड़, आईजीएसटी रु. 80464 करोड़ और उपकर रु. 10137 करोड़। सितंबर महीने का कुल कलेक्शन पिछले साल के इसी महीने के मुकाबले 26 फीसदी ज्यादा है.

सितंबर के दौरान ही एक दिन में 49453 करोड़ रुपये का कलेक्शन किया गया है, जो किसी भी दिन का दूसरा सबसे ज्यादा कलेक्शन है। राज्य के जीएसटी कलेक्शन पर नजर डालें तो बिहार में पिछले साल के मुकाबले 67 फीसदी की बढ़ोतरी देखी गई है. नागालैंड में 61 प्रतिशत की वृद्धि देखी गई है। जीएसटी संग्रह में महाराष्ट्र अव्वल जहां महीने के दौरान 21403 करोड़ रुपये की वसूली की गई है.

कैसा रहा इस वित्तीय वर्ष का कलेक्शन?

अप्रैल में जीएसटी संग्रह रु. 1,67,540 करोड़ रुपये की कमाई इस वित्त वर्ष की धमाकेदार शुरुआत के साथ हुई। वहीं, मई में कलेक्‍शन रु. 1,40,885 करोड़, जो इस वित्तीय वर्ष में सबसे कम आंकड़ा था। जून माह में 56 प्रतिशत की वृद्धि के साथ संग्रह रु. 1,44,616 करोड़ तक पहुंच गया था। जून में पिछले साल की तुलना में सबसे तेज वृद्धि देखी गई। जुलाई में कलेक्शन रु. 1,48,995 करोड़ और अगस्त में रु। 1,43,612 करोड़ का संग्रह किया गया है।

Check Also

बैंक ने अलर्ट पर ध्यान नहीं दिया और फिर…; उप प्रबंधक ने बिजली बिल के नाम पर की बड़ी ठगी

ऑनलाइन फ्रॉड: पिछले कुछ दिनों से ऑनलाइन फाइनेंशियल फ्रॉड की घटनाओं में काफी इजाफा हुआ है. नागरिकों …