Goa Assembly Election: ‘शरद पवार की पार्टी महाराष्ट्र के साढ़े तीन जिलों तक सीमित’, बोले फडणवीस तो उखड़े अजित पवार

पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों को लेकर देश भर में सरगर्मियां तेज हो गई हैं. ऐसे में नेताओं के बीच बयानबाजियां भी बढ़ -चढ़ कर हो रही हैं. बीजेपी की ओर से गोवा चुनाव (Goa Assembly Election 2022) के प्रभारी देवेंद्र फडणवीस (BJP Devendra Fadnavis) ने शिवसेना पर यह बयान दिया था कि शिवसेना की गोवा में लड़ाई बस इतनी  है कि इस बार उनके उम्मेदवारों को ‘नोटा’ के बराबर भी वोट मिल पाता है या नहीं और उनकी जमानत जब्त होने से बच पाती है या नहीं. अब उन्होंने गोवा में एनसीपी के चुनाव लड़ने की बात पर भी तंज कसे हैं. फडणवीस ने कहा है कि शरद पवार (NCP Chief Sharad Pawar) की पार्टी महाराष्ट्र के साढ़े तीन जिलों में फैली गली-मोहल्लों की पार्टी है. उनकी पार्टी के बारे में यही कहा जा सकता है कि पानी रे पानी तेरा रंग कैसा, जिसमें मिला दो उस रंग जैसा. उत्तर प्रदेश में वो सपा के साथ मिलकर सपा जैसी हो जाती है और महाराष्ट्र में वो कांग्रेस और शिवसेना के साथ मिल कर उन जैसी हो जाती है. उनका अपना कोई वजूद नहीं है. इसलिए उनकी अपनी कोई ताकत भी नहीं है. ऐसे में गोवा में उन्हें सीरियसली लेने की जरूरत नहीं है.’

देवेंद्र फडणवीस के इस ताने का जवाब आज (15 जनवरी, शनिवार) राज्य के उप मुख्यमंत्री अजित पवार (Deputy CM Ajit Pawar) ने दिया है. अजित पवार ने कहा कि शरद पवार की ऊंचाई और राष्ट्रीय स्तर पर उनके द्वारा किए गए कामों की अहमियत को देखते हुए नई पीढ़ी के लोगों को उन पर कुछ बोलने से पहले थोड़ा ध्यान रखना चाहिए.

‘महाराष्ट्र में हमारा काम अच्छी तरह से शुरू, आप कहां चले गए गुरु’

देवेंद्र फडणवीस महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री थे लेकिन महा विकास आघाड़ी सरकार बनने की वजह से वे मुख्यमंत्री नहीं रहे. अब वे  बीजेपी की ओर से गोवा के चुनाव प्रभारी हैं. इस पर चुटकी लेते हुए अजित पवार ने कहा, ‘ महाराष्ट्र के बारे में आप मुझसे कुछ भी पूछिए, मैं उसका ठोस और सटीक जवाब दूंगा. देश की राजनीति पर हमारे वरिष्ठ नेता बोलते हैं. लेकिन इतना जरूर कहूंगा कि किसी को भी छोटा समझने की भूल ना करें. अगर हम कहना चाहें तो बहुत कुछ कहा जा सकता है. राजनीतिक जीवन में मैंने 30 साल गुजारे हैं. मुझे बारामती के लोगोंं ने सांसद बना कर भेजा था. लेकिन छह महीने में मैं वापस आ गया. शरद पवार को दिल्ली जाना पड़ा और मैं महाराष्ट्र की राजनीति में आ गया. महाराष्ट्र के काम से मैं संतुष्ट हूं. मेरा काम यहां अच्छी तरह से चल रहा है.’

 

‘शरद पवार पर दें बयान तो रखें उनके काम और सम्मान का ध्यान’

फिर देवेंद्र फडणवीस के ताने का जवाब देते हुए अजित पवार ने कहा, ‘ फडणवीस के बयानों का जवाब एनसीपी प्रवक्ता नवाब मलिक, प्रफुल्ल पटेल या राष्ट्रीय राजनीति से जुड़ी हमारी बहन सुप्रिया सुले जैसे लोग देंगे. शरद पवार के कद की ऊंचाई का ध्यान रखते हुए और देश के लिए उनके किए हुए काम और उनके सम्मान का भान रखते हुए नई पीढ़ी को उन पर बात  करनी चाहिए.’

Check Also

Punjab Election: आप CM पद की दौड़ में भगवंत मान को टक्कर दे रहे हैं हरपाल सिंह चीमा

नई दिल्लीः आम आदमी पार्टी (आप) अपने मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार आज ऐलान कर देगी। इस …