पाकिस्तान के पूर्व विदेश मंत्री शाह महमूद क़ुरैशी पर पांच साल के लिए चुनाव लड़ने पर प्रतिबंध लगा दिया गया

पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान और उनकी पार्टी पीटीआई को बड़ा झटका लगा है, क्योंकि अब चुनाव के दिन गिनती के रह गए हैं। इमरान खान के करीबी और उनकी सरकार में विदेश मंत्री शाह महमूद कुरेशी को चुनाव लड़ने से रोक दिया गया है. हाल ही में गोपनीय दस्तावेज़ लीक करने के आरोप में क़ुरैशी को 10 साल जेल की सज़ा सुनाई गई थी. ऐसे में पाकिस्तान के संविधान के मुताबिक वह पांच साल तक चुनाव नहीं लड़ सकेंगे.

चुनाव आयोग ने घोषणा कर दी है

हाल ही में पाकिस्तान की एक विशेष अदालत ने इमरान खान और शाह महमूद क़ुरैशी को गोपनीय दस्तावेज़ लीक करने के मामले में दोषी ठहराया और 10 साल जेल की सज़ा सुनाई. अब कोर्ट के उस फैसले के आधार पर पाकिस्तान चुनाव आयोग ने कुरैशी पर पांच साल के लिए चुनाव लड़ने पर प्रतिबंध लगा दिया है. चुनाव आयोग ने एक बयान में कहा कि मखदूम शाह महमूद कुरेशी को पाकिस्तान के संविधान के तहत चुनाव अधिनियम के अनुच्छेद 63(1) के तहत चुनाव लड़ने से अयोग्य ठहराया गया है। कुरैशी 8 फरवरी को होने वाला आम चुनाव भी नहीं लड़ पाएंगे.

गोपनीय दस्तावेज़ लीक करने का दोषी ठहराया गया

शाह महमूद क़ुरैशी और इमरान ख़ान को पिछले साल एक रैली के दौरान गोपनीय दस्तावेज़ लीक करने का दोषी पाया गया था. दरअसल, इमरान खान ने रैली में राजनयिक चैनल का एक पत्र लहराते हुए दावा किया कि अमेरिका द्वारा उनकी सरकार को गिराने की साजिश रची गई है। उस समय शाह महमूद क़ुरैशी पाकिस्तान के विदेश मंत्री थे. इस मामले में इमरान खान को 10 साल जेल की सजा भी सुनाई गई है. इमरान खान को अब तक कुल चार मामलों में दोषी ठहराया गया है.

पाकिस्तान में आठ फरवरी को आम चुनाव के लिए मतदान होना है. पीटीआई ने पहले आरोप लगाया था कि उसकी पार्टी और उसके समर्थकों को परेशान किया जा रहा है और उन्हें निष्पक्ष रूप से चुनाव लड़ने की अनुमति नहीं दी जा रही है.