अलवर में विषाक्त भोजन का मामला,चिकित्सा विभाग की टीम देर रात तक लगी रही

अलवर :  खेड़ली के गारू गांव में मंगलवार की शाम एक दावत के बाद विषाक्त भोजन से करीब 150 लोग बीमार हो गए। आनन-फानन में उन्हें खेड़ली और कठूमर के अस्पताल में भर्ती कराया गया। घटना की सूचना के बाद पुलिस व प्रशासन के अधिकारी भी मौके पर पहुंचे और घटनाक्रम की जानकारी ली। ब्लॉक चिकित्सा अधिकारी रवि राज वर्मा ने बताया कि रात भर चिकित्सा विभाग की टीम उनके नेतृत्व में कार्य करती रही। टीम में डॉ खुश सोलंकी, डॉ. दिलीप कुंडारा, लक्ष्मीकांत,निशा यादव रजनी कांत शर्मा सहित करीब 10 लोग मौजूद थे। जो भी बीमार मिल रहा था उनका घर ही उपचार किया जा रहा था। अस्पताल में भी जो भर्ती किए गए थे अधिकतर मरीजों को डिस्चार्ज कर दिया गया है।

200 घरों का मेडिकल टीम ने किया सर्वे

ब्लॉक चिकित्सा अधिकारी रवि राज वर्मा ने बताया कि बुधवार सुबह गारू गांव के करीब 200 घरों का चिकित्सा विभाग की टीम ने सर्वे किया है। जिसमें सभी लोग सामान्य पाए गए हैं। कुछ दो चार लोगों को उल्टी की शिकायत थी। जिन्हें ओआरएस का घोल दिया गया है। अभी स्थिति पूरी तरह से सामान्य है।

दावत में खाना खाकर हुए बीमार

गारू गांव में एक व्यक्ति के यहां मंगलवार को रामायण पाठ का समापन और कुआं पूजन का कार्यक्रम था। जिसमें 700-800 लोगों को दावत दी गई थी। दावत में दाल, बाटी, चूरमा के साथ दाल की चंदिया भी परोसी गई। शाम करीब 3 बजे कुछ लोगों के पेट दर्द और उल्टी की शिकायत हुई। जिन्हें गांव के ही पीएचसी में भर्ती कराया था। फिर रात तक एक के बाद एक लोगों की हालत बिगड़ती गई और करीब डेढ़ सौ लोगों को अस्पताल में भर्ती कराया गया। कुछ मरीज निजी अस्पतालों में भी उपचार के लिए चले गए। हालात यह बन गए कि मरीजों की संख्या बढ़ने से एक बेड पर दो दो लोगों का उपचार करना पड़ा। मामले की गंभीरता को देखते हुए चिकित्सा प्रभारी डॉ. अंकित जेटली ने हॉस्पिटल के समस्त चिकित्सा स्टाफ को बुलाकर रात को ही उपचार शुरू कर दिया था।

Check Also

पश्चिम बंगाल में कांग्रेस नेता की हत्या के बाद भड़की हिंसा, टीएमसी नेता के पास से पिस्टल बरामद

पश्चिम बंगाल के मुर्शिदाबाद जिले में कांग्रेस के एक स्थानीय नेता की हत्या के बाद …