पत्ता गोभी की खेती कर अच्छा मुनाफा कमा रहे हैं किसान, जानिए किसानों की सफलता की कहानी

उत्तर प्रदेश के कई जिलों में किसान सब्जी की खेती से अच्छा मुनाफा कमा रहे हैं। हरदोई के किसानभी इस काम में पीछे नहीं हैं। यहां उगाई जाने वाली सब्जियों की आपूर्ति कई राज्यों को की जाती है। हरदोई के बिलग्राम तहसील क्षेत्र के किसान रामजीवन ने बताया कि वह लंबे समय से गोभी की खेती कर रहे हैं. बरसात के दिनों में इसकी पत्ता गोभी बहुत ही मंहगी बिकती है। किसान ने बताया कि इन दिनों फसल 4000 रुपये प्रति क्विंटल तक बिक रही है. जिससे अच्छी आमदनी हो रही है।

पत्ता गोभी अब नकदी फसल है। हरदोई के अलावा उनकी गोभी मध्य प्रदेश के ग्वालियर और बिहार के सीवान समेत लखनऊ, कानपुर और आगरा जा रही है. पास के कन्नौज जिले के कई बड़े व्यापारी उनके पास आते हैं और खेत से ही फसल खरीद लेते हैं। किसान ने बताया कि गोभी की खेती में 100 से 120 दिन लगते हैं।

खेत कैसे तैयार किया जाता है?

रामजीवन ने बताया कि एक हेक्टेयर में करीब 300 क्विंटल गोभी की फसल प्राप्त हो रही है। खेत की तैयारी के लिए वह पहले गाय के गोबर की खाद से खेत की जुताई करते हैं। हम मिट्टी को ढीला करने के बाद उसमें खरपतवारों को नियंत्रित करते हैं। गोभी के पौधे निश्चित आकार की क्यारियां बनाकर रोपते हैं। पौधे की दूरी लगभग 40 सेमी रखी जाती है। एक हेक्टेयर में 110 किलो पोटाश, 110 किलो नाइट्रोजन और 25 किलो फास्फोरस मिलाकर खेत तैयार करते हैं।

बीज की कीमत कितनी है?

सुविधानुसार खेत की नमी को ध्यान में रखते हुए स्ट्रेचिंग भी की जाती है। किसान ने बताया कि एक हेक्टेयर में करीब 600 ग्राम बीज का उपयोग होता है। पत्ता गोभी की खेती के लिए बलुई दोमट मिट्टी सबसे अच्छी मानी जाती है। खेत की मिट्टी का pH लगभग 7 होना चाहिए। किसान ने कहा कि समय पर खरपतवार और कीट नियंत्रण के लिए खेत की देखभाल करना बहुत जरूरी है. गोभी की खेती से उनकी आर्थिक स्थिति में काफी सुधार हुआ है।

Check Also

05dl_m_384_05102022_1

प्रतापगढ़ में सवारियों को लेकर जा रहे पिकअप और ट्रैक्टर सीज

प्रतापगढ़, 05 अक्टूबर (हि.स.)। कानपुर में ट्रैक्टर ट्रॉली हादसे के बाद भी जनपद के लोग …