Eric Garcetti: भारत में अमेरिकी राजदूत होंगे एरिक गार्सेटी, US कांग्रेस ने दी मंजूरी, जानें इनके बारे में सबकुछ

कांग्रेस (US Congress) की एक अहम समिति ने भारत में अमेरिका के राजदूत (US Ambassador to India) के तौर पर लॉस एंजिलिस (Los Angeles) के मेयर एरिक एम गार्सेटी (Eric M Garcetti) के नामांकन को मंजूरी दी है. गार्सेटी के अलावा सीनेट की शक्तिशाली विदेशी संबंध समिति ने बुधवार को 11 अन्य राजदूतों के नामांकन को मंजूरी दी. इनमें जर्मनी में अमेरिका के राजदूत के तौर पर एमी गुटमैन, पाकिस्तान (Pakistan) में डोनाल्ड आर्मिन ब्लोम तथा होली सी में जोए डोनेली के नाम शामिल हैं. अब इन नामों को अंतिम मंजूरी के लिए सीनेट के पटल पर रखा जाएगा.

सीनेट की विदेश संबंधों की समिति के अध्यक्ष सीनेटर बॉब मेनेंदेज ने इस पर नाराजगी जतायी कि समिति के समक्ष 55 नामांकन अब भी लंबित हैं और दुनियाभर में कई चुनौतियां उनका इंतजार कर रही हैं. उन्होंने कहा, ‘जैसा कि मैने इस समिति और सीनेट के समक्ष कई बार कहा है कि लंबे समय तक पदों को रिक्त रखना हमारे हित में नहीं है.’ बुधवार की सुनवाई की अध्यक्षता न्यू जर्सी के सीनेटर सेन मेनेंडेज ने की. बता दें कि समिति 22 सीनेटरों से बनी है, जिसमें डेमोक्रेट और रिपब्लिकन सीनेटर्स की बराबर की भागीदारी रही. राष्ट्रपति जो बाइडेन (Joe Biden) ने नौ जुलाई को गार्सेटी के नामांकन का ऐलान किया था.

कौन हैं एरिक गार्सेटी?

एरिक एम. गार्सेटी 2013 से लॉस एंजिल्स के 42वें मेयर रहे हैं. वह 12 सालों तक सिटी काउंसिल के सदस्य भी रहे हैं. इसमें काउंसिल के अध्यक्ष के तौर पर छह बार उन्होंने सेवा दी है. 50 वर्षीय गार्सेटी को 2013 में लॉस एंजिल्स के मेयर के रूप में चुना गया था और 2017 में वह इस पद पर फिर से चुने गए. वह शहर के पहले निर्वाचित यहूदी मेयर हैं और इसके लगातार दूसरे मैक्सिकन अमेरिकी मेयर हैं. मेयर की आधिकारिक वेबसाइट के अनुसार, लॉस एंजिल्स शहर के वैश्विक संबंधों का विस्तार करने के लिए उन्हें अंतरराष्ट्रीय मामलों के लिए लॉस एंजिल्स का पहला डिप्टी मेयर नियुक्त किया गया था.

एक एक्टिविस्ट, शिक्षक, नौसेना अधिकारी एरिक एम गार्सेटी का जन्म 4 फरवरी 1971 को हुआ था. वह यूरोप, एशिया और अफ्रीका में रह चुका है और काम कर चुका है. इसके अलावा, वह 30 सालों में पहली बार 2028 के समर ओलंपिक और पैरालंपिक खेलों को अमेरिका में लाने के अपने प्रयास में सफल रहे हैं. गार्सेटी ने ‘क्लाइमेट मेयर्स’ की सह-स्थापना की और पेरिस जलवायु समझौते (Paris Climate Agreement) को अपनाने के लिए 400 से अधिक अमेरिकी मेयर्स का नेतृत्व किया. गार्सेटी ने यूनाइटेड स्टेट्स नेवी रिजर्व में एक खुफिया अधिकारी के रूप में भी काम किया है. इसके अलावा, उन्होंने दक्षिणी कैलिफोर्निया यूनिवर्सिटी और ऑक्सिडेंटल कॉलेज में बच्चों को पढ़ाया भी है.

Check Also

526158-vihir

विज्ञान के तथ्य : कुएं का आकार गोल क्यों होता है? जानिए वैज्ञानिक कारण!

रोचक विज्ञान तथ्य: एक कुआँ गोल क्यों होता है? क्या आपने कभी इसे देखने के बाद इसके …