इलेक्ट्रिक व्हीकल चलाना होगा अब और भी सस्ता, आधी होगी चार्जिंग कॉस्ट, IIT ने बनाई नई टेक्नोलॉजी

नई दिल्ली : देश में पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों की वजह से अब इलेक्ट्रिक व्हीकल की मांग बढ़ती जा रही है. पिछले कुछ सालों में EVs की बिक्री में काफी वृद्धि हुई है, लेकिन इसका चार्जिंग इंफ्रास्ट्रक्चर अब भी लोगों की एक बड़ी चिंता बनी हुई है. इसको लेकर बनारस हिंदू विश्वविद्यालय (IIT-BHU) में इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग विभाग के रिसर्चरों ने EVs के लिए ऑन-बोर्ड चार्जर के लिए एक नई तकनीक विकसित की है, जिसकी कीमत वर्तमान ऑन-बोर्ड चार्जर तकनीक से लगभग आधी है. इस तकनीक का सबसे बड़ा फायदा ये है कि इससे 2-व्हीलर और 4-व्हीलर  EVs की कीमत में बेहद कमी आएगी.

 

आईआईटी बीएचयू के मुख्य परियोजना अन्वेषक डॉ. राजीव कुमार सिंह ने कहा कि पेट्रोल की बढ़ती कीमत और प्रदूषण स्तर में वृद्धि को देखते हुए इलेक्ट्रिक व्हीकल एक बेहतर विकल्प है. इस तकनीक से ऑन बोर्ड चार्जर की कीमत अपने आप 40 से 50 फीसदी तक कमी हो जाएगी. इसका प्रभाव यह पड़ेगा कि ईंधन पर निर्भरता कम होगी. अभी व्यावसायिक उत्पाद तैयार करके इसे मौजूदा इलेक्ट्रिक वाहनों पर लगाने की बात चल रही है.

 

यह होगा फायदा
सिंह ने बताया कि नई तकनीक से ऑन बोर्ड चार्जर की कीमत करीब 50 फीसदी तक कम की जा सकती है. इससे वाहन की लागत में काफी कमी आएगी. यह टेक्नोलॉजी पूरी तरह से स्वदेशी होगी और भारतीय सड़कों पर बड़े पैमाने पर इलेक्ट्रिक वाहन चलाने पर महत्वपूर्ण प्रभाव डालेगी. बीएचयू में कार्यरत टीम ने लैब स्तर पर तकनीक का सफल परीक्षण कर लिया है. बस सुधार और व्यवसाय के स्तर पर काम चल रहा है.

 

आगे आईं देश की बड़ी कंपनी
सिंह ने बताया कि देश के बड़े इलेक्ट्रिक व्हीकल निर्माताओं ने इस नई तकनीक में इंटरेस्ट दिखाया है. वे इस टेक्नोलॉजी के जरिए पूरी तरह से कमर्शियल प्रोडक्ट डेवलप करने के लिए तैयार हैं, जिसे मौजूदा इलेक्ट्रिक वाहनों पर लागू किया जा सकता है. इस टेक्नोलॉजी के विकास के लिए IIT गुवाहाटी और IIT भुवनेश्वर के विशेषज्ञों ने भी सहयोग किया है.

Check Also

इलेक्ट्रिक या सीएनजी कार खरीदने के लिए कोई पंजीकरण शुल्क नहीं लिया जाएगा

मुंबई: इलेक्ट्रिक और सीएनजी वाहन: इलेक्ट्रिक या सीएनजी कार खरीदने वालों के लिए बड़ी खबर. पश्चिम बंगाल …