खाद्य अधिकारी के फर्जी हस्ताक्षर कर एक करोड़ 60 लाख निकालने का प्रयास

27dl_m_406_27092022_1

झांसी,27 सितम्बर(हि. स.)। जिले के अधिकारी के फर्जी हस्ताक्षर कर बैंक से एक करोड़ 60 लाख का लोन निकालने का प्रयास किया गया, लेकिन जिले के अधिकारी को फर्जी हस्ताक्षर कर लोन निकालने की जानकारी मिलते ही हड़कम्प मच गया। अधिकारी ने कार्यवाही करने की बात कही है।

झांसी में तैनात जिला खाद्य एवं औषधि अधिकारी चितरंजन ने बताया कि उनके ही विभाग में तैनात उपमा यादव जो कि टहरौली तहसील में विभाग में ही तैनात हैं। उनके पति का ग्राम रेवन तहसील मऊरानीपुर में एक महाविद्यालय भी है। उपमा यादव अपने पति के लोन के आवेदन में गारंटर भी है। इसमें उन्होंने झांसी के इलाइट सीपरी रोड स्थित केनरा बैंक से एक करोड़ 60 लाख के लोन के लिए आवेदन किया था। उपमा यादव द्वारा उक्त दस्तावेजों में स्वयं को गारंटर के रूप में प्रस्तुत किया गया। गारंटर बनने हेतु उनके द्वारा खाद्य सुरक्षा एवं औषधि विभाग में कार्यरत बाबू योगेंद्र यादव के साथ मिलकर चीफ मैनेजर केनरा बैंक को अभिहित अधिकारी व आहरण वितरण अधिकारी खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन विभाग झांसी उत्तर प्रदेश के नाम से कूट रचना कर पत्र प्रस्तुत किया गया। जिस पर उनके द्वारा अभिहित अधिकारी के जाली हस्ताक्षर किए गए। जिसकी शिकायत जिले के अभिहित अधिकारी चितरंजन ने उत्तर प्रदेश सरकार में पत्राचार के माध्यम से की है तो वहीं इस पूरे मामले को दबाने का भी भरकस प्रयासकिया जा रहा है।

जब इस संबंध में केनरा बैंक के मैनेजर विनोद पाटीदार से जानकारी चाही तो उन्होंने बताया कि उनके पास लोन के लिए आवेदन किया गया था, लेकिन दिए गए दस्तावेजों से वह संतुष्ट नहीं थे। जिसके बाद उनके दस्तावेजों को वापस कर दिया गया था। फिलहाल मामला जो भी हो लेकिन यह एक जांच का विषय है क्योंकि एक अधिकारी पर अपने ही जिले के अधिकारी के फर्जी हस्ताक्षर करने का आरोप लगाया गया है।

Check Also

यूपी: सपा विधायक के दो बेटों और बहू पर लगे गंभीर आरोप, प्राथमिकी दर्ज

विधायक महबूब अली के दो बेटों, एक बहू और दो समर्थकों पर धोखाधड़ी, अपहरण और …