क्या आपको भी लगता है जुकाम-खांसी के दौरान अमरूद खाने से सेहत को होता है नुकसान ?

जिन लोगों को ये लगता है कि अमरूद (Guava) का सेवन सर्दी, खांसी या जुकाम होने पर नहीं करना चाहिए, उनको बता दें कि अमरूद विटामिन सी, ए, ई, फाइबर, आयरन, कैल्शियम, मैग्नीज और अन्य तमाम खनिजों का भंडार है. अगर आप रोजाना एक अमरूद का सेवन करते हैं तो ये आपके इम्यून सिस्टम (Immune System) को मजबूत करने का काम करता है और शरीर को सर्दी और खांसी (Cold and Cough) के प्रभाव से बचाता है. सर्दी, जुकाम और खांसी के समय इसे खाने से काफी आराम मिलता है. लेकिन खांसी के दौरान आप ज्यादा पके अमरूद की बजाय थोड़े कच्चे अमरूद का सेवन करने की सलाह दी जाती है क्योंकि ये बलगम को कम करने का काम करता है.

अगर आपके दिमाग में इस​की तासीर को लेकर कोई कन्फ्यूजन है तो आप इसे हल्का सा आंच पर गर्म करके खा सकते हैं. इतना ही नहीं, अमरूद की पत्तियां भी औषधीय गुणों से समृद्ध होती हैं. आयुर्वेद में इसकी पत्तियों का इस्तेमाल खांसी व अन्य बीमारियों में दवा के तौर पर किया जाता है. यहां जानिए सर्दियों में फलों का राजा कहे जाने वाले अमरूद के बेमिसाल फायदों के बारे में.

जानें अमरूद के 5 बड़े फायदे

1- डायबिटीज के मरीज को अमरूद खाना चाहिए या नहीं, ये शंका भी अक्सर लोगों के मन में होती है. ये सच है कि डायबिटीज के मरीजों को ज्यादा मीठा नहीं खाना चाहिए, लेकिन ज्यादातर विशेषज्ञ इन मरीजों को भी दिनभर में कम से कम एक फल खाने की सलाह देते हैं. ऐसे में एक अमरूद खाया जा सकता है. तमाम स्टडीज बताती हैं कि अमरूद डायबिटीज को नियंत्रित करने का काम करता है.

2- अगर आपका पेट साफ नहीं होता तो आपको अमरूद का सेवन जरूर करना चाहिए. अमरूद में डायटरी फाइबर होता है जो आपके पेट को दुरुस्त करने का काम करता है. लेकिन इसे रात में खाने से पूरी तरह परहेज करें.

3- अगर आप अपना वजन कम करना चाहते हैं तो आपको अमरूद का सेवन जरूर करना चाहिए. इसमें ज्यादा कैलोरी नहीं होती, साथ ही डायटरी फाइबर की वजह से ये पेट को ज्यादा समय तक भरा हुआ महसूस कराता है. ऐसे में ये वजन को नियंत्रित करने में मददगार है.

4- अमरूद को कैंसर से बचाव करने में भी फायदेमंद माना जाता है. इसमें पाए जाने वाले शक्तिशाली एंटीऑक्सिडेंट्स फ्री रेडिकल्स से बचाते हैं. साथ ही लाइकोपीन, क्वेरसेटिन और पॉलीफेनोल्स भी कैंसर कोशिकाओं को बढ़ने से रोकता है. इसकी पत्तियों को भी कैंसर के इलाज में प्रभावी माना गया है.

5- अमरूद में केले के बराबर पोटेशियम पाया जाता है जो दिल की सेहत में अहम भूमिका निभाता है. इसके सेवन से शरीर में बैड कोलेस्ट्रॉल कम होता है और गुड कोलेस्ट्रॉल बढ़ता है. ऐसे में दिल की सेहत दुरुस्त रहती है.

Check Also

हर मर्ज की दवा हैं कलोंजी, जाने इसके सेवन से होने वाले फायदों के बारे में

भारत की रसोई तरह-तरह के मसालों से भरी रहती है इसलिए हम कह सकते है …