योग करें पेट की चर्बी कम जमा होगी पेट और कमर की चर्बी, रोजाना करें यह आसन

12_09_2022-12_09_2022-priyanka_chakki_chalnasana_23062856_9133141

नई दिल्ली: चक्की चलनासन योग नाम संस्कृत शब्द “चक्की” से लिया गया है जिसका अर्थ है “चक्की या ग्राइंडस्टोन”, और “चलाना” का अर्थ है “मंथन या पहिया”। इस आसन को करते समय ऐसा महसूस होता है कि आप चक्की चला रहे हैं। अंग्रेजी में इसे चर्निंग द मिल योगा पोज कहते हैं। यह आसन किन समस्याओं में उपयोगी है और इसे कैसे करना है, आइए जानते हैं इसकी विधि।

कैसे करें चंकी चालानासन

इस आसन को करने के लिए अपने दोनों पैरों को सामने की ओर करके चटाई पर बैठ जाएं।

– दोनों पैरों को एक दूसरे से अलग फैलाएं।

दोनों हाथों की अंगुलियों को मिलाकर हाथों को मिला लें।

जैसे ही आप सांस लेते हैं, अपने ऊपरी शरीर को आगे लाएं और अपनी बाहों को अपने पैरों के पीछे सीधा करें। मतलब आपको पैरों को ढँकते हुए अपने हाथों से एक बड़ा घेरा बनाना है।

आगे बढ़ते समय श्वास लेनी चाहिए और वापस आते समय श्वास छोड़ना चाहिए।

– घड़ी की दिशा में 10 बार और घड़ी की विपरीत दिशा में 10 बार गोला बनाएं।

चक्की चलानासन के लाभ

इस आसन को करने से पेट की चर्बी बहुत तेजी से कम होती है।

साइटिका के दर्द में यह आसन बहुत मददगार होता है।

यह आसन महिलाओं में गर्भाशय की मांसपेशियों को मजबूत करने के लिए उपयोगी है और इसके नियमित अभ्यास से मासिक धर्म में होने वाले दर्द से बचाव होता है।

यह आसन हाथ, पैर, पीठ के दर्द को कम करने में मदद करता है।

चकीचलानासन का अभ्यास करने से रीढ़ की हड्डी लचीली बनती है।

यह आसन बढ़ती उम्र के लक्षणों को कम करने में भी मदद करता है।

अगर आपको नींद न आने की समस्या है तो उसमें भी यह आसन फायदेमंद है।

चकीचलानासन योग का अभ्यास करने से मन को शांत और संतुलित करने में मदद मिलती है, एकाग्रता बढ़ती है।

Check Also

Husband-Wife_1

टिप्स / अगर आप अपने दांपत्य जीवन में खुश रहना चाहते हैं तो कभी न करें ऐसा नहीं तो पछताएंगे

दाम्पत्य जीवन को सुखी रखना पति-पत्नी के लिए एक कठिन कार्य है सुखी दाम्पत्य जीवन …