हृदय रोग से बचने के लिए करें ये व्यायाम

अपनी दिनचर्या में नियमित व्यायाम को शामिल करने से आपकी सेहत को कई प्रकार के लाभ होते हैं,| दिल को दुरुस्त रखने के लिए शारीरिक व्यायाम यानी एक्सरसाइज़ पर काफ़ी ज़ोर दिया जाता है| एक्सरसाइज़ करने से हार्ट की मांसपेशियां मज़बूत बनती हैं, ब्लड प्रेशर को काबू में करने में मदद मिलती है, और हार्ट की ख़ून को पंप करने की क्षमता भी बढ़ती है जिससे पूरे शरीर तक ख़ून अच्छी तरह से पहुंच पाता है| दिल को दुरुस्त रखने के लिए शारीरिक व्यायाम यानी एक्सरसाइज़ पर काफ़ी ज़ोर दिया जाता है|

एक्सरसाइज़ करने से हार्ट की मांसपेशियां मज़बूत बनती हैं, ब्लड प्रेशर को काबू में करने में मदद मिलती है, और हार्ट की ख़ून को पंप करने की क्षमता भी बढ़ती है जिससे पूरे शरीर तक ख़ून अच्छी तरह से पहुंच पाता है| आज हम खासतौर से आपको बताएंगे उन व्यायाम के बारे में जो आपके दिल को दुरुस्त रखेंगे। आइए, जानते हैं ऐसी एक्सरसाइज के बारे में, जो खासतौर से आपके हृदय को फायदा पहुंचाती हैं-

एक्सरसाइज़ कई तरह की होती हैं: आइसोटोनिक, आइसोमेट्रिक और स्ट्रेचिंग. आइसोटोनिक एक्सरसाइज़ में चलना, टहलना और तैराकी शामिल हैं. ये एक्सरसाइज़ मांसपेशियों को मज़बूती देती है और आपके पूरे शरीर पर इसका असर नज़र आता है. चलना शायद सबसे आसान आइसोटोनिक एक्सरसाइज़ है जिसके साथ आप शुरुआत कर सकते हैं. धीरे-धीरे वक़्त के साथ, आप अपने दिन भर के क़दमों की गिनती बढ़ा सकते हैं.”

1. यदि संभव हो तो रोजाना और अगर संभव न हो तो कम से कम सप्ताह में एक दिन 30 मिनट एरोबिक्स करें। जॉगिंग करना, दौड़ना, साइकल चलाना आदि भी एरोबिक्स में शामिल है।

2. रोटेटिंग डेडलिफ्ट एक्सरसाइज़ करने के लिए दोनों पैरों को खोल कर सीधे खड़े हो जाएं। अब एक पैर को थोड़ा आगे बढ़ाकर रखें। दोनों हाथों को सिर के पीछे ले जाएं। अब आगे की ओर झुकें। इस दौरान अपने कूल्हे को पीछे की ओर खींचने की कोशिश करें। इस प्रक्रिया को 20 बार दोहराएं। ध्यान रहे कि इस पूरी प्रक्रिया में शरीर की मांसपेशियां बिल्कुल ढीली नहीं पड़नी चाहिए वरना फायदे की जगह नुकसान ज्यादा होगा।

3. टक जंप को करने के लिए सीधे खड़े हो जाएं और दोनों हाथों को सीने की ऊंचाई तक सीधे आगे की ओर ले जाएं। इसके बाद घुटनों को थोड़ा झुकाएं। अब इसी मुद्रा में खड़े होकर कूदें। अब सीने को घुटनों तक लाइए और हाथों को सीने के सामने ही रखें। जमीन तक धीरे-धीरे जाएं और हाथों को भी ले जाएं। इस स्थिति में कूदें। करीब 30 सेकेंड तक कूदने के बाद 30 सेकेंड का आराम जरूर करें। इसे चार से पांच बार किया जा सकता है। इस व्यायाम से हृदयगति कई गुना बढ़ जाती है। इस अभ्यास से हृदय की गति कई गुना बढ़ जाती है।

4. फ्रैंकस्टाइन किक एक्सरसाइज के लिए सीधे खड़े हो जाएं और बायां पैर आगे बढ़ाएं। पैर को सीने की ऊंचाई तक ऊपर ले आएं और दाएं हाथ से उसे छूने की कोशिश करें। थोड़ी देर बाद पुरानी स्थिति में लौट जाएं। यही प्रक्रिया दाएं पैर और बाएं हाथ से करें। ध्यान रखें कि इस प्रक्रिया में आपका या सिर शरीर बिल्कुल भी नहीं झुकना चाहिए। हर चरण के बाद 30 सेकेंड का आराम जरूर करें। यह प्रक्रिया आप अपनी सुविधा के अनुसार दस से 12 बार कर सकते हैं।

5. दिल को मजबूत रखने के लिए डांसिंग एक बेहतरीन एक्सरसाइज है। इसे करते हुए आपको मजा भी आता है और साथ ही सभी बॉडी पार्ट्स को फायदा भी पहुंचता है।

6. यदि आप किसी स्वीमिंग क्लब से जुड़े हों और उसके सदस्य हों, तो नियमित आधे घंटे की स्वीमिंग आपके दिल के लिए बहुत फायदेमंद होगी। इसके बाद आपको कोई और व्यायाम करने की जरूरत नहीं पड़ेगी।

7. यदि आप किसी स्वीमिंग क्लब से जुड़े हों और उसके सदस्य हों, तो नियमित आधे घंटे की स्वीमिंग आपके दिल के लिए बहुत फायदेमंद होगी। इसके बाद आपको कोई और व्यायाम करने की जरूरत नहीं पड़ेगी।

8. आपको नियमित अपने सभी बॉडी पार्टस की स्ट्रेचिंग करनी चाहिए, लेकिन थोड़ी सतर्कता बरतते हुए। क्षमता से अधिक स्ट्रेचिंग से आपको दर्द हो सकता है।

9. इससे कोई फ़र्क नहीं पड़ता कि आप कितने दिनों से हर रोज़ एक्सरसाइज़ कर रहे हैं, आपको अपने शरीर की आवाज़ सुननी चाहिए| अगर एक्सरसाइज़ करते वक़्त अगर असहज हों या दर्द महसूस करें, तो फ़ौरन एक्सरसाइज़ रोक दें| सांस फूलना, ठंड लगना, प्यास से गला सूखना, चक्कर आना, सीने में दर्द होना, दिल की धड़कन तेज़ होना और घबराहट होना, ये सभी ख़तरे की घंटी है| अगर आपको इनमें से कोई भी परेशानी महसूस होती है, तो एक्सरसाइज़ फिर से शुरू करने से पहले अपने डॉक्टर को इस बारे में ज़रूर बताएं|

10. एक्सरसाइज़ करने के तुरंत बाद, सीधे अपने रोज़मर्रा के काम में न जुट जाएं. अपने शरीर को आराम पहुंचाने वाली एक्सरसाइज़ और गहरी सांस लेते हुए हल्की-फुल्की स्ट्रेचिंग करें ताकि आपके दिल की धड़कन नियमित हो सके यानी न धीमी और न तेज़|

Check Also

क्या आपको भी है डायबिटीज, तो इन सब्जियों को खाने से बचें

मुंबई: डायबिटीज एक ऐसी बीमारी है कि एक बार इंसान की मौत हो जाने के बाद …