हल्के में न लें Relationship Anxiety, रिश्ते में पड़ सकती है दरार

Relationship: कुछ लोग अपनी मैरिड लाइफ (Married Life) और रिलेशनशिप (Relationship) को लेकर थोड़ा ज्यादा कॉन्शस रहते हैं। कई बार रिलेशनशिप में हमारी असुरक्षा की भावना इतनी बढ़ जाती है कि हम अपने पार्टनर (Partner) पर विश्वास ही नहीं कर पाते। इस कारण हम अपनी रिलेशनशिप को लेकर काफी दुविधा में रहते हैं। वैसे तो अपने रिलेशनशिप में एक दूसरे के प्रति ध्यान देना एक अच्छा साइन है, लेकिन इस कॉन्शस का ज्यादा बढ़ जाना आपके शादीशुदा जीवन के लिए काफी खतरनाक हो सकता है। ऐसे में अगर टाइम रहते इसका समाधान ना किए जाएं तो आपके रिलेशनशिप में दरार आ सकती है। तो आइए इस समस्या से निबटने के लिए इसे विस्तार से समझते हैं।

क्या है रिलेशनशिप एंग्जाइटी

साइकोथैरेपिस्ट और रिलेशनशिप काउंसलर एस्ट्रीड रॉबर्टसन का कहना है कि कुछ लोग नए रिश्ते की शुरुआत में पार्टनर के बिहेवियर, नेचर और अपने रिलेशन को हमेशा मजबूत बनाए रखने को लेकर आशंकित रहते हैं। जबकि सब कुछ ठीक-ठाक चल रहा होता है। कई बार ये भावना आपके मन में रिश्ते की शुरुआत में ही नही बल्कि लंबे समय से ठीक-ठाक चल रहे रिश्ते में भी आ जाती है। इस आशंका की भावना को ही रिलेशनशिप एंग्जाइटी कहते हैं, जिसमें आप हर समय अपने रिलेशनशिप को लेकर के तनाव में रहते हैं।

ये होते हैं लक्षण

रिलेशनशिप एंग्जाइटी से ग्रस्त पति या पत्नी में कई तरह के लक्षण दिखाई देते हैं। जैसे इस तनाव में रहना वाला व्यक्ति बार- बार अपने पार्टनर की लाइफ में अपनी वैल्यू जानने की कोशिश करता रहता है। ऐसा वह नए-नए तरीके अपनाकर करते हैं। कई बार रिलेशनशिप एंग्जाइटी के कारण पति या पत्नी को अपने पार्टनर की फीलिंग्स पर शक होनें लगता है। उन्हें ऐसा लगता है कि उनका पार्टनर उनके लिए अब कुछ फील नहीं करता। वहीं जर्नल ऑफ एक्सपेरिमेंटल एंड सोशल साइकोलॉजी में प्रकाशित रिसर्च में बताया गया है कि रिलेशनशिप एंग्जाइटी से ग्रस्त पति या पत्नी अपने पार्टनर के साथ अकसर चुप्पी साधे रहता है। खासतौर पर अगर वह अपने पार्टनर से किसी बात पर असहमत है, तो वह बिल्कुल चुप रहता है। दरअसल, उनके मन में यह डर रहता है कि पार्टनर नाराज होकर उनसे बात करना बंद ना कर दे या कहीं उसका साथ ना छोड़ दे।

क्या होते हैं कारण

  • आपको यह भी पता होना चाहिए कि किन स्थितियों में कोई व्यक्ति इस एंग्जाइटी से ग्रस्त हो सकता है।
  • जब पति या पत्नी अपने पार्टनर से बिल्कुल परफेक्ट होने की उम्मीद करने लगे तो इसकी संभावना बढ़ जाती है।
  • कई बार लोगों के मन में ऐसा शक बैठ जाता है कि सुंदर ना लगने की वजह से पार्टनर कम चाहता है। ऐसा अक्सर रंग-रूप, नैन-नक्श, बॉडी शेप को लेकर आत्महीनता के कारण होता है।
  • कई बार ज्यादा चिंता और तनाव ग्रस्त लोगों में अपनी मैरिड लाइफ को लेकर एंग्जाइटी को बढ़ते हुए देखा गया है।

ये हैं बचाव

अब आपको उन उपायों के बारे में बताते हैं, जिन्हें फॉलो करके आप रिलेशनशिप एंग्जाइटी की कंडीशन से खुद को दूर रख सकते हैं।

  • सेल्फ रिव्यू करें- अपने पार्टनर में खामी ढूंढ़ने के बजाय खुद का आकलन करें। जरा सोचें कि आप पूरे दिन में कितनी बार अपने पार्टनर से उनके व्यवहार को लेकर शिकायत करते हैं? क्या वह भी आपके साथ ऐसा ही करते हैं? अगर नहीं तो आपको खुद के नेचर में बदलाव लाना चाहिए।
  • सेल्फ कॉन्फिडेंस बढ़ाएं- अपने सेल्फ कॉन्फिडेंस को हमेशा हाई रखें। आप यह कभी ना सोचें कि आप किसी से कम हैं। इस बात पर भरोसा करें कि आप जैसे हैं, वैसे ही आपके पार्टनर आपको प्यार करते हैं।
  • खुद को मोटिवेट करें- कभी भी अपने मन पर नेगेटिव फीलिंग्स को हावी न होनें दें। खुद को हमेशा पॉजिटिव रखें।
  • सोशल लाइफ- हम सबके लिए सोशल होना बहुत जरूरी है। इसलिए आप अपनी दुनिया अपने पार्टनर के इर्द-गिर्द ना समेटें और ना ही पार्टनर को सोशल होने से रोकें। एक सुकून भरी हैप्पी मैरिड लाइफ के लिए सोशल लाइफ होना बहुत जरूरी है।

Check Also

औषधीय गुणों का खजाना है नींबू, इसके नियमित सेवन से होंगे ये फायदें

छोटा-सा दिखने वाला नींबू औषधीय गुणों का खजाना है। इसके रस का इस्तेमाल जायकेदार व्यंजनों …