इन तरीकों से करें ‘फुट डिटॉक्स’ महंगे पार्लर जाने की नहीं पड़ेगी जरुरत

बॉडी की हैल्थ के साथ-साथ हाथों-पैरों की खूबसूरती का ध्यान रखना भी जरूरी हैं क्योंकि आपकी सुदंरता सबसे पहले इन्हीं से आंकी जाती हैं। इसलिए स्किन के साथ पैरों की भी डिटॉक्स रखें, खासकर गर्मियों में क्योंकि इस मौसम में पैरों को हर दिन टॉक्सिन्स से दो-चार होना पड़ता हैं। टॉक्सिन्स हमारे लीवर और आंत में इकट्ठे होकर न केवल हमारी हैल्थ को बिगाड़ते है बल्कि खूबसूरती भी छिन लेते हैं। स्किन को तो हम कई ट्रीटमेंट व ब्यूटी प्रॉडक्ट्स से संवार लेते है लेकिन पैरों का क्या करें। इसलिए पैरों को हैल्थी व सुदंर रखने के लिए इन दिनों फुट डिटॉक्स काफी पॉप्युलर हो रहा है। स्वास्थ्य के साथ-साथ अपनी त्वचा और सौंदर्य का ख्याल रखना भी बेहद जरुरी होता है।

हर मौसम में त्वचा संबंधी कई परेशानियां पैदा होती हैं। ऐसे में अपने चेहरे के साथ पैरों का ध्यान रखना भी आवश्यक है। आज हम बताने जा रहे हैं कि फुट डिटॉक्स करना कितना जरुरी है। ऐसा माना जाता है कि पैर का डिटॉक्स शरीर से विषाक्त पदार्थों और भारी धातुओं को पैरों के माध्यम से हटाता है। इतना ही नहीं फुट डिटॉक्स करने के लिए आपको किसी महंगे पार्लर जाने की आवश्यकता नहीं है। ये काम आप घर पर भी का फुट पैड्स इस तरह से बनाए जाते हैं जिनसे पैरों से पसीना आए। माना जाता है कि इस प्रक्रिया से शरीर से टॉक्सिन्स बाहर आते हैं।

हमारे पैर पेड़ की जड़ की तरह होते हैं जिनमें कई सारी नर्व्स होती हैं। ऐक्युप्रेशर मसाज से शरीर के कई हिस्सों में दर्द से राहत मिलती है।

पानी में पैर डालकर बैठें, इसमें थोड़ा एप्सम सॉल्ट और इसेंशल ऑइल मिला हैं। 15 मिनट तक पैरों को पानी में डाले रहें इसके बाद सुखाकर मॉइश्चराइजर लगाएं।

ये मास्क पैरों पर कुछ देर के लिए लगाए जाते हैं फिर इन्हें धो दिया जाता है। फुट मास्क पैरों की स्किन को नर्म बनाते हैं और फंगस जैसी समस्याओं को भी दूर करते हैं।

पैरों पर नियमित रूप से स्क्रब करना चाहिए। इससे डेड स्किन सेल्स निकलती है साथ ही पैरों की स्मेल भी खत्म होती है।

प्याज और लहसुन को बारीक काट कर रख लें। इसके बाद उबलते पानी में प्याज और लहसुन को डाल कर 10 मिनट के लिए उबालें। इस बात का ख्याल रखें कि इसमें पानी उतना ही डालें कि पेस्ट तैयार हो जाएं। अब इस पेस्ट को 20 मिनट ठंड़ा होने के लिए रखें। इसके बाद मिक्सचर कोमें डालें। इसके बाद इस पैड को पैर के तलवों के बीच रखें और इसके ऊपर जुराबें डाल लें ताकि यह खिसके न और रात भर इस पैच को इसी तरह लगा रहने दें और सुबह हटा दें। फुट पैड्स से पैरों से पसीना आएगा और पसीने के रास्ते से शरीर से टॉक्सिन्स बाहर आ जाएंगे।

मार्कीट से आपको फुट मास्क आसानी से मिल जाएंगे। इन फुट मास्क को कुछ देर के लिए पैरों में लगाएं और इसके बाद धो लें। फुट मास्क से पैरों की स्किन नर्म होती है और फंगस इंफैक्शन की समस्या दूर रहती हैं। इतना ही नहीं इससे बॉडी के विषैले टॉक्सिंस भी बाहर निकल जाते हैं।

Check Also

कोरोना से बचना है तो न करें इन चीजों का सेवन, कमजोर हो जाएगी आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता

कोरोना काल में सबसे ज्यादा महत्व रोग प्रतिरोधक क्षमता को दिया गया है। जब से कोरोना …