डायबिटीज के मरीजों को इन बातों का विशेष ध्यान रखना चाहिए, नहीं तो किडनी पर बुरा असर पड़ेगा

मधुमेह हमारे शरीर के कई अंगों को सिर से पैर तक नुकसान पहुंचाता है। ब्लड शुगर लेवल को फिल्टर करने के लिए किडनी को ज्यादा मेहनत करनी पड़ती है। धीरे-धीरे इस उच्च दबाव के कारण किडनी खराब होने लगती है। जब पेशाब में प्रोटीन की मात्रा बढ़ जाती है तो स्थिति गंभीर हो जाती है, ऐसे में किडनी काम करना बंद कर देती है इसलिए डायबिटीज के मरीज कुछ खास बातों का ध्यान रख कर किडनी को बचा सकते हैं।

“उच्च रक्त शर्करा” के कारण गुर्दे की क्षति से बचने के लिए अनुशंसित आहार योजना का पालन करना बहुत महत्वपूर्ण है, खाने की आदतों से बचें। निश्चित रूप से इस समस्या से पीड़ित लोगों को अपने आहार में अधिक चीनी और अधिक नमक वाले उच्च कैलोरी वाले खाद्य पदार्थों से बचना चाहिए। अपने आहार में ताजे फल, अनाज और सब्जियों को शामिल करने से शरीर को आवश्यक पोषक तत्व मिल सकते हैं, इस प्रकार उच्च कैलोरी सेवन से बचा जा सकता है।

धूम्रपान छोड़ने

यदि कोई व्यक्ति धूम्रपान करता है, तो उसके फेफड़े, गुर्दे आदि बुरी तरह प्रभावित होते हैं। ऐसे में मधुमेह रोगियों के स्वास्थ्य पर धूम्रपान का अधिक प्रभाव पड़ता है और यह प्रभाव बहुत तेजी से शुरू होता है, जिससे किडनी खराब होने की संभावना बढ़ जाती है, इसलिए धूम्रपान छोड़ना बहुत जरूरी है। 

शुगर और ब्लड प्रेशर को करें कंट्रोल,

डॉक्टर की सलाह के अनुसार अपने ब्लड शुगर लेवल की नियमित जांच करें और दवाइयाँ लें, उचित आहार और व्यायाम पूरे दिन में किया जा सकता है। इसी तरह मधुमेह के रोगी भी अपने रक्तचाप को नियंत्रित कर सकते हैं।

नियमित रूप से व्यायाम करें

मधुमेह के रोगी चाहते हैं कि उनकी किडनी स्वस्थ रहे, इसलिए उन्हें व्यायाम के रूप में अधिक मेहनत करनी पड़ती है। मधुमेह रोगियों के लिए दौड़ना, तेज चलना, साइकिल चलाना, तैरना, टहलना जैसे सरल व्यायाम बेहद फायदेमंद होते हैं। रोजाना कम से कम 30 मिनट एक्सरसाइज करने से शुगर लेवल कंट्रोल में रहता है और किडनी पर असर कम होता है।

दवाएं नियमित लेनी चाहिए 

भले ही आपका ब्लड शुगर लेवल नियंत्रण में हो और आपका स्वास्थ्य अच्छा हो, आपको नियमित रूप से दवा लेनी चाहिए। अगर एक दिन कोई दवा छूट जाती है तो उसका असर अलग तरह से दिखने लगता है। शरीर के अन्य अंग प्रभावित हो सकते हैं, जैसे कि किडनी।

Check Also

सोयाबीन की कीमतों में लगातार गिरावट ने किसान को कम दाम पर बेचने को मजबूर

किसान इस साल सोयाबीन की कीमतों पर स्टॉक कर रहे हैं , लेकिन बाजारों में सोयाबीन का राजस्व …