Delhi Air Pollution: दिल्‍ली को जहरीली हवा से मिली निजात, अब खुलकर लीजिए सांस, जानें AQI

नई दिल्‍ली. दिल्‍ली (Delhi Air Pollution) में पिछले कुछ दिनों तक हुई हल्‍की बारिश से ठंड में इजाफा हुआ है, तो हवा खुलकर सांस लेने लायक हो गयी है. वायु गुणवत्ता एवं मौसम पूर्वानुमान और अनुसंधान प्रणाली (SAFAR) के मुताबिक, दिल्ली का आज वायु गुणवत्ता सूचकांक (AQI) 53 है, जो कि संतोषजनक श्रेणी (Satisfactory Category) में है. इससे पहले रविवार को राजधानी का AQI 90 था. वहीं, शनिवार को राजधानी का एक्‍यूआई 132 ‘मध्यम श्रेणी’ में रहा था. जबकि शुक्रवार को वायु गुणवत्ता सूचकांक 273 ‘खराब’ श्रेणी में था.

मौसम विभाग के मुताबिक, दिल्‍ली का न्यूनतम तापमान मौसम के औसत से तीन डिग्री अधिक 9.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया. इसके साथ मौसम विभाग ने हल्की-फुल्की बारिश और मध्यम कोहरे के साथ दिन भर आसमान पर बादल छाए रहने का अनुमान व्यक्त किया है. वहीं, अधिकतम तापमान रविवार को 15 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था जो सामान्य से चार डिग्री अधिक था. जबकि न्यूनतम तापमान 13.8 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया जो सामान्य से सात डिग्री अधिक था.

जानें क्‍या है प्रदूषण का पैमाना
दिल्ली का वायु गुणवत्ता सूचकांक (AQI) 50 है, जो कि ‘अच्छा’है. पिछली बार दिल्ली की हवा इस श्रेणी में पिछले साल अक्टूबर में थी. दिल्‍ली के साथ नोएडा, ग्रेटर नोएडा, गाजियाबाद और फरीदाबाद में हवा की गुणवत्ता भी बेहतर हो गयी है.

बता दें कि शून्य से 50 के बीच एक्यूआई को ‘अच्छा’, 51 से 100 के बीच ‘संतोषजनक’, 101 से 200 के बीच ‘मध्यम’, 201 से 300 के बीच ‘खराब’, 301 से 400 के बीच ‘बहुत खराब’ और 401 और 500 के बीच ‘गंभीर’ श्रेणी में माना जाता है.

दिल्‍ली में जनवरी में 22 साल बाद रिकॉर्ड बारिश
बता दें कि पिछले कई दिनों से दिल्‍ली में रुक रुककर हुई बारिश से दिल्‍ली-एनसीआर को जहरीली हवा से निजात मिली है. वहीं, दिल्ली में शनिवार को 22 साल बाद जनवरी में एक दिन में सर्वाधिक बारिश दर्ज की गई थी. भारत मौसम विज्ञान विभाग के मुताबिक, सफदरजंग वेधशाला ने 24 घंटे की अवधि में 41 मिलीमीटर बारिश दर्ज की, जो जनवरी माह के लिए पिछले 22 वर्षों में सबसे अधिक है. इससे पहले शहर में जनवरी महीने में एक दिन में सर्वाधिक वर्षा 1999 में 46 मिलीमीटर दर्ज की गई थी.

Check Also

महाराष्ट्र | शीत लहर एक और दिन जारी रहेगी; उत्तर भारत में जलवायु परिवर्तन का प्रभाव

पुणे: उत्तर भारत में शीत लहर के परिणाममहाराष्ट्र में भी लहर के अगले दो दिनों तक …