फिशिंग हार्बर में सिलेंडर फटा, 25 से ज्यादा नावें जलीं, जानें कितना हुआ नुकसान

विशाखापत्तनम फिशिंग हार्बर : आंध्र प्रदेश के विशाखापत्तनम शहर में स्थित मछली पकड़ने के बंदरगाह में सोमवार को एक बड़ा हादसा हो गया। यहां एक मछली पकड़ने वाले बंदरगाह पर भीषण आग लग गई, जिससे बंदरगाह पर खड़ी मछली पकड़ने वाली 25 मशीनीकृत नावें जलकर राख हो गईं। आग रविवार देर रात लगी, जो सोमवार सुबह तक जारी रही। पूरी घटना का वीडियो भी सामने आया है, जिसमें नाव को जलते हुए देखा जा सकता है.

इससे आग और फैल गई

आग लगने के बाद बंदरगाह पर मौजूद स्थानीय मछुआरों ने तुरंत स्थानीय पुलिस को फोन किया और घटना की सूचना दी. मछुआरों ने कहा कि आग एक नाव से शुरू हुई, जो जल्द ही अन्य नावों तक फैल गई। आग तेजी से फैल गई क्योंकि जिस नाव में आग लगी उसके आसपास अन्य नावें बंधी हुई थीं। ज्यादातर नावें लकड़ी की बनी थीं या उन पर प्लास्टिक लगा हुआ था जिससे आग और फैल गई।

आग लगने का कारण क्या है?

दरअसल, बताया जा रहा है कि आग एलपीजी सिलेंडर में ब्लास्ट की वजह से लगी. नाव में पड़े एलपीजी सिलेंडर में जोरदार विस्फोट हो गया. जिससे अफरा-तफरी का माहौल पैदा हो गया. सिलेंडर फटने की आवाज दूर तक सुनाई दी। 25 से ज्यादा नावें आग की चपेट में आ गईं. हालांकि, एलपीजी सिलेंडर में विस्फोट किस वजह से हुआ इसकी जांच चल रही है। 

एक नाव की कीमत 40 लाख रुपये है 

आग से हुए नुकसान को समझने के लिए पुलिस उपायुक्त के आनंद रेड्डी ने कहा कि आग पर काबू पाने के लिए चार से अधिक दमकल गाड़ियों को तैनात किया गया है. अभी तक जानमाल के नुकसान की कोई खबर नहीं है. मछुआरों ने बताया कि आग के कारण मछली पकड़ने वाली करीब 40 नौकाएं क्षतिग्रस्त हो गईं. हर नाव की कीमत कम से कम 40 लाख रुपये है. पुलिस और अग्निशमन सेवा कर्मियों ने कहा कि वे आग पर काबू पाने के बाद आग लगने के सही कारण का पता लगाएंगे।