Covid-19 vaccine में पोर्क जलेटिन के इस्तेमाल की क्या है हकीकत और कहां से शुरू हुआ विवाद?

Pork gelatin in covid-19 vaccine: जिस रफ्तार से वैक्सीन मंजूरी के चरणों में पहुंच रही हैं और टीकाकरण शुरू हो रहा है, उतनी ही तेजी से उससी जुड़ा विवाद भी सामने आ रue है. ताजा बहस वैक्सीन में पोर्क जलेटिन के इस्तेमाल को लकर है, जो सुअर के मांस से बनाया जाता है.

 

जिस समय मुस्लिम देशों और संगठनों ने इस पर आपत्ति जताई, ठीक उसी समय कैथोलिक ईसाई कुछ वैक्सीन में गर्भस्थ भ्रूण कोशिकाओं के इस्तेमाल से नाराज हैं. इन तमाम विवादों के बीच, विभिन्न देशों में सरकारें और धार्मिक संगठन सक्रिय हो गए हैं जिससे वैक्सीन के बारे में संदेह या फर्जी खबरें ना फैले.

 

सऊदी अरब की सबसे बड़ी धार्मिक संस्था फतवा काउंसिल ने कहा है कि अगर वैक्सीन में पोर्क जलेटिन का भी इस्तेमाल किया गया है, तो ये खाना नहीं है बल्कि दवा है और बतौर इंजेक्शन के लिया जाएगा. आपको बता दें कि इस्लाम में सुअर का मांस खाना हराम है और विवाद की वजह वैक्सीन में सुअर के मांस से बने उत्पादों को लेकर है.

 

यूईए फतवा काउंसिल के चेयरमैन शेख अब्दुल्लाह बिन बयाह की तरफ से जारी बयान के मुताबिक इस्लामी दृष्टिकोण से कोविड-19 वैक्सीन को लेने की इजाजत है. यहां तक कि अगर वैक्सीन में गैर हलाल सामग्री के तत्व भी शामिल हैं, तो भी शरीयत के सिद्धांत के मुताबिक उसका इस्तेमाल किया जा सकता है क्योंकि इसका कोई विकल्प नहीं है. कोविड-19 वैक्सीन का टीकाकरण लोगों के लिए सुरक्षात्मक दवा के तहत वर्गीकृत किया गया है.

 

पोर्क जलेटिन पर विवाद की शुरुआत कैसे हुई?

 

मामला अक्तबूर में उस वक्त सामने आया जब इंडोनेशिया के राजनयिकों और मुस्लिम धर्मगुरुओं का जत्था चीन पहुंचा. राजनियक इंडोनेशिया के नागरिकों के लिए वैक्सीन की लाखों खुराक डील को अंतिम रूप देने के लिए गए थे जबकि धर्मगुरू ये जायजा लेने के लिए गए थे कि क्या कोविड-19 वैक्सीन इस्लामी कानून के तहत स्वीकार्य योग्य है.

Check Also

3 पत्नियों से तंग आकर पति ने सरकारी नौकरी से दिया इस्तीफा, फिर बॉस ने निकाली तरकीब

बगदाद: कहते हैं कि आज के जमाने में सरकारी तो छोड़ दीजिए प्राइवेट नौकरी (Jobs) मिलना …