Coronavirus: भारत में फिर बरपेगा ‘दूसरी लहर’ का कहर! संयुक्त राष्ट्र की रिपोर्ट में दावा- कोविड मौत के मामलों में तेजी से होगी बढ़ोतरी

भारत में कोरोना संक्रमण (Coronavirus) के मामलों में तेजी से बढ़ोतरी दर्ज की जा रही है. आज देशभर से कोविड-19 (Covid-19) के 2.64 लाख नए केस दर्ज किए गए हैं और 315 मौतें हुई हैं. एक रिपोर्ट में कहा गया है कि पिछले साल डेल्टा वेरिएंट (Delta Variant) के प्रकोप से आई कोरोना की दूसरी लहर (Covid Second Wave) के दौरान जितनी मौतें देखी गईं थीं, वैसे ही कुछ आसार इस बार भी बनते नजर आ रहे हैं. संयुक्त राष्ट्र की रिपोर्ट (United Nations Report) के मुताबिक, जल्दी ही ऐसे हालात बन सकते हैं.

संयुक्त राष्ट्र की रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत में अप्रैल और जून 2021 के बीच कोविड-19 के डेल्टा वेरिएंट की घातक दूसरी लहर में 2,40,000 लोगों की मौत हो गई थी और आर्थिक सुधार भी काफी बाधित हुआ था. रिपोर्ट के अनुसार, कुछ ही समय में इसी तरह के हालात दोबारा उत्पन्न हो सकते हैं. संयुक्त राष्ट्र विश्व आर्थिक स्थिति एवं संभावनाएं (WESP) 2022 रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि कोविड-19 के अत्यधिक संक्रामक ओमिक्रॉन वेरिएंट (Omicron Variant) के संक्रमण की नई लहरों के कारण मरने वालों की संख्या और आर्थिक नुकसान में फिर से वृद्धि होने की संभावना है.

‘डेल्टा’ के कारण 2.40 लाख लोगों की हुई थी मौत 

रिपोर्ट के मुताबिक, ‘भारत में डेल्टा वेरिएंट के संक्रमण की एक घातक लहर ने अप्रैल और जून के बीच 2,40,000 लोगों की जान ले ली थी और आर्थिक सुधार में बाधा उत्पन्न हुई थी. कुछ समय में इसी तरह के हालात पैदा हो सकते हैं.’ संयुक्त राष्ट्र के आर्थिक एवं सामाजिक मामलों के विभाग के अवर महासचिव लियु जेनमिन ने कहा, ‘कोविड-19 को नियंत्रित करने के लिए एक समन्वित और निरंतर वैश्विक दृष्टिकोण के बिना यह महामारी वैश्विक अर्थव्यवस्था के समावेशी और स्थायी उभार के लिए सबसे बड़ी जोखिम बनी रहेगी.’

फरवरी में खत्म होगी मौजूदा लहर!

देश में रोजाना कोरोना संक्रमण (Coronavirus) के मामलों में भारी उछाल देखा जा रहा है. एकाएक बढ़े मामलों ने सरकार की चिंता में खासा इजाफा कर दिया है. इंडिया टुडे के मुताबिक, मिशिगन विश्वविद्यालय की डेटा साइंटिस्ट और एपिडेमियोलॉजिस्ट प्रोफेसर भ्रमर मुखर्जी ने कहा है कि जनवरी के आखिर तक कोरोना की तीसरी लहर (Corona Third Wave) भारत में पीक पर होगी. जबकि फरवरी तक इसके समाप्त होने के आसार हैं. मुखर्जी ने कहा, ‘अगर आप अन्य देशों के आंकड़ों को देखें, तो पाएंगे कि ओमिक्रॉन से संक्रमित उन लोगों को अस्पताल में भर्ती होने की जरूरत पड़ी है, जिन्होंने वैक्सीनेशन नहीं करवाया है. इसलिए, मैं लोगों से अपील करना चाहती हूं कि अपना वैक्सीनेशन जरूर करवाएं.’

Check Also

ईडी की चार्जशीट में कहा गया कि महाराष्ट्र के पूर्व गृहमंत्री ने दी ट्रांसफर और पोस्टिंग के लिए अधिकारियों की सूची

मुंबई, 29 जनवरी (आईएएनएस) प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने 100 करोड़ पीएमएलए मामले में महाराष्ट्र के पूर्व …