विटमिन डी का सही मात्रा में सेवन करेगा मोटापा कम

नई दिल्ली : महिलाओं को मोटापे और डाइबिटिज की परेशानियों से बचने का तरीका एम्स और डायबीटीज फाउंडेशन ऑफ इंडिया ने मिलकर सुझाया है। एम्स और डीएफआई की संयुक्त रूप से की गई एक रिसर्च में यह बात सामने आयी है कि अगर प्री-डायबीटिक महिलाएं विटमिन डी का सही मात्रा में सेवन करें, तो वे अपने मोटापे और शुगर दोनों को कंट्रोल में रख सकती हैं। और विटमिन डी का सबसे अच्छा सोर्स है धूप की रोशनी। यही वजह है कि विटमिन डी को सनशाइन विटमिन भी कहा जाता है। ऐसे में अगर हर रोज सही समय पर धूप में रहा जाए तो मोटापा, शुगर और डिप्रेशन जैसी दिक्कतों को आसानी से दूर किया जा सकता है।

 

अनुसंधानकर्ताओं ने अपनी इस रिसर्च में 20 से 60 साल की महिलाओं को शामिल किया, जो प्री-डायबिटिक थीं। इन महिलाओं का वजन भी सामान्य से अधिक था। शोधकर्ताओं ने पाया कि रिसर्च के दौरान जिन डायबिटिक महिलाओं को नियमित रूप से इलाज के साथ विटमिन डी के सप्लिमेंट्स भी दिए गए, उनमें ब्लड शुगर और ग्लूकोज की मात्रा नियंत्रित होती चली गई जबकि जिन महिलाओं को विटमिन डी नहीं दिया गया, उनका प्लेसबो सैंपल साफतौर पर उनमें डायबीटीज के बढ़ते स्तर को दिखा रहा था। इस शोध की खास बात ये है कि विटमिन डी के सप्लिमेंट्स से ना केवल इन महिलाओं का ग्लूकोज लेवल सामान्य के आसपास आ गया बल्कि इनके बॉडी फैट में भी काफी कमी आ गई थी।

 

वैज्ञानिकों की मानें तो रोजाना कैल्शियम और विटमिन डी सप्लिमेंट्स का सेवन करने से भूख पर इसका असर होता है और भूख कम लगती है। जाहिर सी बात है भूख कम लगेगी और आप कम खाएंगे तो वेट लॉस भी होगा और फैट और मोटापा भी कम होगा। इतना ही नहीं विटमिन डी सप्लिमेंट्स के सेवन से ओवरवेट लोगों में दिल से जुड़ी बीमारियों का खतरा भी काफी कम हो जाता है। रिसर्च की मानें तो विटमिन डी आपके मूड को रेग्युलेट करने और डिप्रेशन दूर करने में भी काफी मदद करता है। एक स्टडी में भी यह बात साबित हो चुकी है कि डिप्रेशन की समस्या से जूझ रहे लोगों को अगर विटमिन डी सप्लिमेंट्स दिया जाए तो उनके डिप्रेशन के लक्षणों में काफी इम्प्रूवमेंट देखने को मिलता है। इतना ही नहीं, जिन लोगों में विटमिन डी की कमी होती है उनमें ऐंग्जाइटी और डिप्रेशन के लक्षण भी ज्यादा देखने को मिलते हैं।

 

विटमिन डी की कमी कई लोगों के लिए एक सामान्य समस्या है। भारत ही नहीं, दुनियाभर में विटमिन डी की कमी के चलते कई तरह की परेशानियां सेहत से जुड़ी समस्या के रूप में उभर रही हैं। भारत के संबंध में माना जाता रहा है कि यहां पर्याप्त मात्रा में और लगभग पूरे साल धूप आती है, ऐसे में भारतीयों में पर्याप्त मात्रा में विटमिनडी होता है। लेकिन इस बारे में हुई रिसर्च कुछ और ही हाल बयां करती हैं। यहां बता दें कि भारत के लोगों खासकर महिलाओं को इन दिनों सेहत से जुड़ी जिस समस्या से सबसे ज्यादा जूझना पड़ रहा है, वह है मोटापा और शुगर यानी डायबीटीज की बीमारी।

Check Also

दुनिया में पहली बार एड्स को मात देने वाले शख्स ‘बर्लिन पेशेंट’ की कैंसर से हुई मौत

दुनिया में एड्स को पहली बार मात देनेवाला शख्स कैंसर से जिंदगी की जंग हार …