कान की सफाई के टिप्स: कान साफ ​​करते समय न करें ये गलती!

नई दिल्ली: शरीर को साफ रखना जरूरी है। लेकिन इस मामले में कुछ लोग बार-बार अपने कान साफ ​​करते रहते हैं। लेकिन यह गलत है। जान लें कि कान का मैल (कान का मैल) बहुत काम करता है। यह ईयरवैक्स एक प्रकार का प्राकृतिक रिसाव है।

कान के परदे को साफ करते समय अगर आप एक छोटी सी गलती भी कर देते हैं तो इससे तेज दर्द हो सकता है। इसके अलावा सुनवाई भी जा सकती है। ईयरवैक्स हमारे कानों को स्वस्थ रखता है। मलबा कान में नलियों की बाहरी परत को सूखने से रोकता है। इसके अलावा, यह गंदगी पानी और धूल के कणों को अंदर जाने से रोकती है। यह आपको संक्रमित नहीं करेगा। जानें कि अगर कान में बहुत अधिक गंदगी है तो उसे सावधानी से कैसे साफ करें।

 

कान का मैल कैसे साफ करें?

  • कान का मैल अपने आप निकल जाता है। जब हम खाना खाते और चबाते हैं तो कान की गंदगी धीरे-धीरे कान के छेद की ओर आने लगती है। सूखने पर यह मवाद कान से बाहर निकल जाता है। कई बार कान में सामान्य से ज्यादा गंदगी जमा हो जाती है। इसे साफ करने का सही तरीका जानना जरूरी है। माचिस की तीली या किसी अन्य वस्तु से कान के मैल को साफ करने का प्रयास न करें। इससे कान का पर्दा फट जाता है और तेज दर्द होता है।
  • कुछ ईयरवैक्स को कॉटन बड्स से साफ करें। लेकिन इस बात का ध्यान रखें कि ईयर कैनाल को कॉटन बड्स से साफ नहीं करना चाहिए। कॉटन बड्स के पैकेट पर भी इसके बारे में बताया गया है। 
  • कुछ लोग कान के मैल को साफ करने के लिए ईयर कैंडल का भी सहारा लेते हैं। लेकिन ईयर वैक्स को ईयर कैंडल से साफ करना खतरनाक है। आपके कान और चेहरे के जलने का खतरा होता है।
  • कानों को साफ करने के लिए आप ईयर ड्रॉप्स की भी मदद ले सकती हैं। कान की बूंदें आपके ईयरलोब को नम कर देती हैं और अपने आप ही बहना शुरू कर देती हैं। लेकिन कान की कई बूंदों में सोडियम क्लोराइड या सोडियम बाइकार्बोनेट होता है। यह याद रखना चाहिए कि यह कान की संवेदनशील त्वचा को नुकसान पहुंचा सकता है।
  • बादाम और जैतून का तेल कान का मैल साफ करने के लिए प्रभावी होते हैं। कान का पर्दा तेल से गीला हो जाता है और कान से बाहर आ जाता है। लेकिन ध्यान रहे कि कान में तेल डालने से पहले तेल का तापमान आपके शरीर के तापमान से अधिक नहीं होना चाहिए।
  • कानों की सफाई के लिए आप डॉक्टर की सलाह भी ले सकते हैं। कुछ मामलों में डॉक्टर कान को पानी से साफ करते हैं। इस प्रक्रिया को सिरिंजिंग कहा जाता है। जिसमें कान की नलिकाओं पर पानी का छिड़काव किया जाता है। लेकिन कान का पर्दा खराब होने का खतरा रहता है।

Check Also

Cabbage Juice Benefits: पत्तागोभी का जूस सिर्फ वजन ही कम नहीं करता बल्कि इसके और भी कई बड़े फायदे

कुछ डिटॉक्स ड्रिंक्स हैं, जिनके सेवन से वजन घटाने में मदद मिलती है। इन्हीं में से …