संजीवनी के नाम से जाना जाने वाला बीज, जिसमें है हर बीमारी को दूर करने की ताकत, जानिए

आज हम आपको तकमरिया के बारे में बताएंगे, जो कि एक प्रकार का बीज है, जिसका इस्तेमाल हम ज्यादातर हर घर में तरह-तरह के व्यंजन बनाने के लिए करते हैं।आयुर्वेद में कहा गया है कि कलियुग में तकमरिया में धरती पर जीवन था। यह कई बीमारियों को चुटकियों में दूर कर देता है।

आयुर्वेद के पवित्र शास्त्रों में भी इसका वर्णन किया गया है, “मौत को छोड़कर हर चीज की दवा।” तकमारिया एक वनस्पति पौधा है जिसमें बीज भी होते हैं और केवल बीज ही दवा के रूप में उपयोग किए जाते हैं। इसलिए तकामरिया के बीजों को बहुत बारीक पीसकर शहद या पानी में मिलाकर तैयार किया जाता है और तकामरिया के बीजों का तेल भी तैयार किया जाता है, जो रोगों के लिए बहुत कारगर होता है। अगर इसका तेल उपलब्ध न हो तो इसे तकमारिया के रूप में भी इस्तेमाल किया जा सकता है।

आपको बता दें कि तकामारिया तेल में अलग-अलग तरह के फैट होते हैं। यह आसानी से ऑर्गेनिक ऑयल को पानी में बदल देता है। तकामरिया के अधिकांश बीजों का उपयोग औषधि के रूप में किया जाता है। इसके बीजों में सैपोनिन नामक पदार्थ होता है।

इसके बीजों में नाइजेलिन नामक कड़वा पदार्थ भी होता है। कलौंजी पेशाब, स्खलन और मासिक धर्म के दर्द को ठीक करती है। कलौंजी का तेल कफ को नष्ट करता है।

इसके अलावा यह खून से अशुद्धियों और अनावश्यक पदार्थों को भी दूर करता है। कलौंजी का तेल सुबह खाली पेट और रात को सोते समय लेने से कई रोग दूर हो जाते हैं। गर्भावस्था के दौरान महिला को कलौंजी के तेल का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए क्योंकि इससे दुष्प्रभाव हो सकते हैं।

इसका उपयोग कैसे करना है।

सबसे पहले एक चम्मच तकामारिया के बीज को शहद में मिलाकर पानी में उबाल लें और इसे छानकर पी लें। तकामरिया के बीजों को दूध में उबालें और ठंडा होने के बाद मिला दें।

ताकामरिया के आश्चर्यजनक लाभ

टकामरिया अर्क के सेवन से मिर्गी वाले बच्चों में दौरे कम होते हैं।

ताकामरिया के बीजों की 100 या 200 मिलीग्राम दिन में दो बार लेने से उच्च रक्तचाप के रोगियों में रक्तचाप कम होता है।

आधा चम्मच तकामारिया तेल को एक कप गर्म पानी में मिलाकर दिन में दो बार पीने से ब्लड प्रेशर सामान्य रहता है।

तकामरिया को बालों के तेल में मिलाकर नियमित रूप से स्कैल्प पर लगाने से गंजेपन की समस्या दूर होती है और बालों की ग्रोथ बढ़ती है।

तकामरिया का तेल कान में डालने से कान की सूजन दूर हो जाती है। यह बहरेपन में भी लाभकारी है।

अगर आप जुकाम से पीड़ित हैं तो तकामारिया के बीजों को कपड़े में लपेटकर सुखाकर उन्हें सूंघने और जैतून के तेल की एक बूंद नाक में डालने से जुकाम जल्दी ठीक हो जाता है।

तकामरिया के बीजों को पानी में उबालकर उसका रस पीने से दमा में बहुत लाभ होता है।

तकामरिया को पीसकर रात को सोने से पहले पूरे चेहरे पर लगाएं और सुबह पानी से धो लें, कुछ ही दिनों में आपके मुंहासे दूर हो जाएंगे।

Check Also

High Cholesterol: हाई कोलेस्ट्रॉल की ये चेतावनी आपके चेहरे पर दिखती है, इसे बिल्कुल भी इग्नोर न करें

 उच्च कोलेस्ट्रॉल: शरीर में यकृत द्वारा निर्मित वसा को कोलेस्ट्रॉल या लिपिड कहा जाता है। शरीर के …