जंगली जानवरों के अंगों की तस्करी कर रहे थे कॉलेज के छात्र

523617

नासिक :  मध्यम वर्ग के माता-पिता बच्चों का मौजूदा महंगा शोक बर्दाश्त नहीं कर सकते. लेकिन बच्चे अपने दुख को पूरा करने के लिए अपराध में बदल गए हैं। साइबर क्राइम में तेजी से पैसा आने के कारण युवा बड़े पैमाने पर ऑनलाइन क्राइम की ओर मुड़े हैं। अब युवकों ने जंगली जानवरों के अंगों की तस्करी भी शुरू कर दी है और नासिक में तीन कॉलेज छात्रों को वन विभाग ने गिरफ्तार कर लिया है.  

कालेज के छात्र कर रहे थे तस्करी

दो दिन पहले वन विभाग को सूचना मिली थी कि नासिक कॉलेज के छात्रों के पास तेंदुए की खाल, चिंकारा और नीलगाय के सींग हैं. वन विभाग को मिली गोपनीय सूचना के आधार पर वन परिक्षेत्र अधिकारी विवेक भडाने व कर्मचारियों ने फर्जी ग्राहक बनाकर संदिग्धों से संपर्क किया. शुरुआत में जंगली जानवरों के अंगों की कीमत 20 लाख रुपये बताई गई थी। लेकिन समझौता करने के बाद 4 लाख रुपये देने का फैसला किया गया.

 

मंगलवार (20 सितंबर) को कृषि नगर जॉगिंग ट्रैक के पास तीन संदिग्ध आरोपियों को गिरफ्तार करने के लिए जाल बिछाया गया, जिसका इस्तेमाल शहर के कुलीन समुदाय द्वारा किया जाता है। आखिरकार शाम करीब पांच बजे तीन युवकों को वन्य जीवों के अंगों के साथ रंगेहाथ गिरफ्तार कर लिया गया। जब संदिग्ध आरोपियों से पूछताछ की गई तो पता चला कि वे नासिक के एक कॉलेज में पढ़ रहे थे। वन विभाग ने तीन साथी होने का संदेह जताया है।

कौन हैं ये तीन युवक?

 

वन विभाग द्वारा गिरफ्तार किए गए तीनों आरोपी नासिक शहर के रहने वाले हैं। इनमें से दो युवक कॉलेज में पढ़ रहे हैं। एक युवा बी. फार्मेसी, जबकि एक अन्य बी. एस। सी। कर रही है जबकि तीसरे युवक का नासिक शहर में निजी कारोबार है।

जिले में तीसरी घटना

नासिक जिले में 15 दिनों में यह तीसरी कार्रवाई है। इससे पहले, इगतपुरी और डिंडोरी तालुकों में भी कार्रवाई की गई थी। इसमें तेंदुए की खाल भी मिली थी। यह घटना तब सामने आई है जब ग्रामीण इलाकों में जंगली जानवरों के अंगों की तस्करी करने वाला गिरोह अब शहर में भी सक्रिय है।

नासिक जिले में तेंदुओं की संख्या में उल्लेखनीय वृद्धि हुई है। साथ ही राजापुर क्षेत्र में हिरण और मृग अभ्यारण्य में संख्या में वृद्धि हुई है। नतीजतन, पिछले छह महीनों में कई घटनाएं सामने आई हैं कि जंगली जानवरों और उनके अंगों को बड़े पैमाने पर बेचा जा रहा है। अंधविश्वास के बाजार में ऐसी वस्तुओं की मांग बढ़ने के कारण कहा जा रहा है कि इसके पीछे नासिक में कुछ हस्तियां हैं।

Check Also

d2268d9d609632d5a2138e4604c8509a1662949423717248_original

वेल डन इंडिया! कोरोना के दौरान गरीब देशों की मदद का हाथ, विश्व बैंक ने की तारीफ

भारत पर विश्व बैंक covid:  भारत को कोरोना महामारी में उसके काम के कारण विश्व स्तर …