उत्तराखंड को वर्ष 2025 तक नंबर का राज्य बनाएंगे: मुख्यमंत्री

23dl_m_1084_23092022_1

हरिद्वार, 23 सितंबर (हि.स.)। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने शुक्रवार को लघु उद्योग भारती के उत्तराखण्ड उद्यमी व श्रमिक सम्मान समारोह में उद्यमियों व श्रमिकों को सम्मानित किया।

इस अवसर पर उन्होंने कहा कि लघु उद्योग भारती संगठन सूक्ष्म व लघु उद्योगों की पैरवी करने में हमेशा आगे रहता है। बड़े उद्योगों के साथ ही सूक्ष्म व लघु उद्योगों की समस्याओं के निदान के लिये हम हमेशा तत्पर रहते हैं। पिछले वर्ष के संवाद कार्यक्रम में उद्योगों से जुड़ी जो विभिन्न समस्याएं सामने आयी थीं, उनमें से 90 प्रतिशत का समाधान कर लिया गया है। उन्होंने कहा कि हमारी सरकार विकल्प रहित संकल्प के तहत सरलीकरण, समाधान, निस्तारीकरण तथा सन्तुष्टि के मूल मंत्र के तहत कार्य कर रही है।

उन्होंने कहा कि उत्तराखण्ड में उद्योगों के लिये काफी अच्छा वातावरण बन रहा है तथा अब उत्तराखण्ड देवभूमि के साथ-साथ उद्योगों की भूमि भी बन रहा है। उन्होंने कहा कि यहां उद्योगों के लिये हर तरह से काफी अच्छा वातावरण है। उन्होंने कहा कि सड़कों के क्षेत्र में काफी अच्छा काम हो रहा है तथा रेल व हवाई कनक्टविटी में तेजी से विकास हो रहा है। वर्ष 2025 तक हम उत्तराखण्ड को हिन्दुस्तान का नंबर राज्य बनायेंगे।

कार्यक्रम में मुख्य वक्ता डॉ0 कृष्ण गोपाल ने कहा कि लघु उद्योग भारती संगठन की भारत के 500 जिलों में 700 से अधिक इकाइयां हैं। आज यह संगठन बहुत बड़ा हो है। उन्होंने भारत वर्ष के इतिहास का उल्लेख करते हुये कहा कि पूर्व में भारत के हर गांव में उद्योग थे तथा पूरे देशभर में लघु उद्योग फैले हुये थे तथा हम विदेशों को स्टील का निर्यात करते थे। हमारी अर्थव्यवस्था विश्व में सबसे आगे थी। आज पुनः हम धीरे-धीरे शिखर की ओर बढ़ रहे हैं।

लघु उद्योग भारती के अध्यक्ष बलदेव भाई प्रजापति ने कहा कि पूर्व में भारत के हर घर में उद्योग होने की वजह से ही इसको सोने की चिड़िया कहा जाता था। उन्होंने कहा कि भारत की अर्थव्यवस्था की रीढ़ सूक्ष्म व लघु उद्योग हैं। इस अवसर पर लघु उद्योग भारती के प्रदेश अध्यक्ष कैलाश मैलाना, सचिव औद्योगिक विकास डॉ पंकज कुमार पाण्डेय, जिलाधिकारी विनय शंकर पाण्डेय, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक डॉ योगेन्द्र सिंह रावत सहित सम्बन्धित पदाधिकारी एवं अधिकारीगण मौजूद थे।

Check Also

Medical-Courses-With-NEET-Low-Marks

नीट में कम अंक लेकर भी बन सकते हैं डॉक्टर, ये हैं टॉप 13 मेडिकल करियर विकल्प

हर साल 15 लाख से ज्यादा छात्र नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (NTA) की मेडिकल एंट्रेंस एग्जाम NEET …