Chandrachur Singh: एक हादसे ने कर दिया इस उभरते सुपर स्टार का करियर तबाह

चंद्रचूर सिंह का जन्म 11 अक्टूबर 1968 को नई दिल्ली में हुआ था। वह एक सिख परिवार से हैं। उनके पिता बलदेव सिंह एक राजनीतिज्ञ हैं। उनके दो भाई हैं जिनका नाम आदित्य और अभिमन्यु है। उनके भाई आदित्य भी एक अभिनेता हैं।
Chandrachur Singh
उनके पूर्वज उत्तर प्रदेश के एक गाँव से थे। उनके नाना ओडिशा के महाराजा थे। उसे दोस्तों के साथ गाना, खाना बनाना और पार्टी करना पसंद है। उन्होंने देहरादून के वेल्हम बॉयज़ स्कूल से अपनी स्कूली शिक्षा पूरी की। उन्होंने दिल्ली के सेंट स्टीफन कॉलेज से स्नातक की पढ़ाई पूरी की। उन्होंने अपने स्कूल के दिनों में विभिन्न नाटकों और नाटकों में भाग लिया। उन्होंने अपने गाँव में आयोजित पौराणिक नाटक रामायण में भी भाग लिया। उनका सपना सरकारी नौकर या व्यापारी बनना था। वह शाहरुख खान और कैटरीना कैफ जैसे फिल्मस्टार के बहुत बड़े प्रशंसक हैं। उसे नॉन वेज फूड और मिठाइयां खाना बहुत पसंद है। वह अपने स्कूल और कॉलेज के दिनों में शानदार छात्र थे। वह ईमानदार और मिलनसार स्वभाव वाले व्यक्ति हैं। उन्हें उनके परिवार और दोस्तों द्वारा रॉकी के रूप में भी जाना जाता है।
उन्होंने कुछ कॉलेजों में संगीत और इतिहास के शिक्षक के रूप में काम किया। चंद्रचूड़ के सोशल साइट्स पर उनके कई प्रशंसक हैं। उन्होंने बॉलीवुड में अपनी शुरुआत 1996 में फिल्म तेरे मेरे सपने से की थी। उन्होंने कई फिल्मों में काम किया जैसे आमदनी अठानी खारचा रुपैया, मोहब्बत हो गई है तुम्हारी, सिलसिला है प्यार का, चार दिन की चांदनी, यादवी- द डिग्निफाइड प्रिंसेस आदि। फिल्म दाग: द फायर से बहुत प्रसिद्धि प्राप्त की। उन्होंने फिल्म में अपनी भूमिका से कई लोगों का दिल जीता और जनता से कई सकारात्मक समीक्षा भी प्राप्त की। उन्होंने सहायक और नकारात्मक दोनों भूमिकाओं में अभिनय किया। उन्होंने वेबरीज़ आर्या में भी काम किया। उन्हें कई पुरस्कारों के लिए नामांकित किया गया था और 1996 में सर्वश्रेष्ठ पुरुष पदार्पण के लिए फिल्मफेयर पुरस्कार जीता। उन्होंने 2005 में अवंतिका कुमारी से शादी की। उनका एक बेटा है जिसका नाम श्रनजाई है।

Check Also

मुकेश खन्ना ने अक्षय कुमार की फिल्म ‘लक्ष्मी बॉम्ब’ के नाम पर उठाए सवाल, कहा- सभी को करना चाहिए इसका विरोध

अक्षय कुमार की फिल्म ‘लक्ष्मी बॉम्ब’ रिलीज होने से पहले ही विवादों में घिर चुकी …