व्यापार – Look News India,News India Live,Live hindi news,India news in hindi,News India,Samachar,India Live News,Lucknow news live tv,lucknow samachar,लखनऊ न्यूज़ लाइव टीवी,इंडिया लाइव न्यूज़,न्यूज़ इंडिया https://newsindialive.in लखनऊ न्यूज़ लाइव टीवी,इंडिया लाइव न्यूज़,न्यूज़ इंडिया Sat, 11 Jul 2020 15:33:21 +0000 en-US hourly 1 https://wordpress.org/?v=4.9.15 वॉरेन बफेट को पीछे छोड़ दुनिया के सातवें सबसे अमीर व्यक्ति बने मुकेश अंबानी https://newsindialive.in/%e0%a4%b5%e0%a5%89%e0%a4%b0%e0%a5%87%e0%a4%a8-%e0%a4%ac%e0%a4%ab%e0%a5%87%e0%a4%9f-%e0%a4%95%e0%a5%8b-%e0%a4%aa%e0%a5%80%e0%a4%9b%e0%a5%87-%e0%a4%9b%e0%a5%8b%e0%a4%a1%e0%a4%bc-%e0%a4%a6%e0%a5%81/ Sat, 11 Jul 2020 15:16:01 +0000 https://newsindialive.in/?p=183069

नई दिल्ली-एशिया के सबसे अमीर रिलायंस इंडस्ट्रीज के मुकेश अंबानी ने अपनी जिदंगी में एक नया अध्याय जोड़ते हुए विश्व का सातवां सबसे बड़ा धनकुबेर का तमगा हासिल किया। फोर्ब्स रियल अंबानी ने बकर्शायर हैथवे के वॉरेन बफेट, गूगल के लैरी पेज और सर्जी ब्रिन को पीछे छोड़ दिया है। विश्व के सबसे 10 अमीरों की सूची में शामिल अंबानी एशिया से एकमात्र व्यक्ति हैं।

फोर्ब्स के अनुसार अंबानी की कुल संपत्ति 70 अरब डॉलर पर पहुंच गई है। बीस दिन पहले 20 जून को अंबानी नौवें स्थान पर थे। इसके बाद रिलायंस इंडस्ट्रीज के शेयरों में रिकार्ड तोड़ तेजी से अंबानी की संपत्ति में 5.4 अरब डॉलर की बढ़ोतरी हुई। बीस जून को अंबानी की कुल संपत्ति 64.5 अरब डॉलर थी। यही नहीं भारतीय कंपनी जगत में रिलायंस ने इसी सप्ताह 12 लाख करोड़ रुपए का भी इतिहास लिखा। फोर्ब्स रियल टाइम बिलिनेयर रैंकिंग्स में संपत्ति का आकलन शेयर की कीमत के आधार पर तय किया जाता है। यह हर पांच मिनट में अपडेट होता है।

रिलायंस में अंबानी का शेयर 42 फीसदी है। आज बीएसई में रिलायंस का शेयर 2.95 प्रतिशत अर्थात 53.90 रुपए बढ़कर 1878.50 रुपये पर पहुंच गया। फोर्ब्स की आज की दस सबसे बड़े धनकुबेर की सूची में जेफ बेजोस 188.2 अरब डालर के साथ पहले नंबर पर हैं। दूसरे नंबर पर बिल गेट्स 110.70 अरब डॉलर, बर्नार्ड अरनॉल्ट फैमिली तीसरे नंबर पर (108.8 अरब डॉलर), मार्क जुकरबर्ग चौथे नंबर पर (90 अरब डॉलर), स्टीव बॉल्मर पांचवे नंबर पर (74.5 अरब डॉलर), लैरी एलिसन छठे नंबर पर (73.4 अरब डॉलर), मुकेश अंबानी सातवें नंबर पर (70.10 अरब डॉलर) हैं। इसके बाद वॉरेन बफेट, उसके बाद लैरी पेज और सर्जी ब्रिन हैं।

]]>
नई बुलंदी पर पहुंचा भारत का विदेशी मुद्रा भंडार, टूट गए अभी तक के सभी रिकॉर्ड https://newsindialive.in/%e0%a4%a8%e0%a4%88-%e0%a4%ac%e0%a5%81%e0%a4%b2%e0%a4%82%e0%a4%a6%e0%a5%80-%e0%a4%aa%e0%a4%b0-%e0%a4%aa%e0%a4%b9%e0%a5%81%e0%a4%82%e0%a4%9a%e0%a4%be-%e0%a4%ad%e0%a4%be%e0%a4%b0%e0%a4%a4-%e0%a4%95/ Sat, 11 Jul 2020 14:28:55 +0000 https://newsindialive.in/?p=182668 भारत का विदेशी मुद्रा भंडार एक बार पुनः रिकॉर्ड ऊंचाई पर पहुंच गया है. रिजर्व बैंक के ताजा आंकड़ों के अनुसार विदेशी मुद्रा भंडार 6.47 अरब डॉलर के जबरदस्त उछाल के साथ 513.25 अरब डॉलर के स्तर पर पहुंच गया है. रिजर्व बैंक के मुताबिक, इस दौरान गोल्ड रिजर्व भंडार 49.5 करोड़ डॉलर की वृद्धि के साथ 34.02 अरब डॉलर का हो गया. ये आंकड़े तीन जुलाई को ख़त्म हुए सप्ताह के हैं. इससे पहले 26 जून को समाप्त हुए सप्ताह में देश का विदेशी मुद्रा भंडार 1.27 अरब डॉलर की बढ़त के साथ 506.84 अरब डॉलर पर पहुंचा था.

आपको यहां बता दें कि पांच जून को समाप्त हुए सप्ताह में पहली दफा देश का विदेशी मुद्रा भंडार 500 अरब डॉलर के स्तर के पार पहुँच गया था. उस वक़्त यह 8.22 अरब डॉलर की जबरदस्त उछाल के साथ 501.70 अरब डॉलर पहुंचा था. रिजर्व बैंक ऑफ़ इंडिया (RBI) के अनुसार, देश के विदेशी मुद्रा भंडार में वित्त वर्ष 2019-20 के दौरान 64.9 अरब डॉलर का इजाफा हुआ, जबकि इसमें वित्त वर्ष 2018-19 के दौरान 11.7 अरब डॉलर की गिरावट दर्ज की गई थी. आपको बता दें कि वर्तमान में भारत का विदेशी मुद्रा भंडार विश्व के कई विकाशील देशों से अधिक हो गया है.

आपको बता दें क।  विदेशी मुद्रा भंडार में इजाफा किसी भी देश की अर्थव्यवस्था के लिए अच्छी बात है. इसमें करंसी के रूप में ज्यादातर डॉलर होता है. डॉलर के माध्यम से ही दुनियाभर में कारोबार किया जाता है. फिलहाल, डॉलर के अनुपात में भारतीय करंसी 75 रुपये से अधिक है. मतलब ये कि एक US डॉलर की कीमत 75 रुपये से अधिक है.

]]>
प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना में मुफ्त सिलेंडर के लिए पहले चुकाने होंगे पैसे https://newsindialive.in/%e0%a4%aa%e0%a5%8d%e0%a4%b0%e0%a4%a7%e0%a4%be%e0%a4%a8%e0%a4%ae%e0%a4%82%e0%a4%a4%e0%a5%8d%e0%a4%b0%e0%a5%80-%e0%a4%89%e0%a4%9c%e0%a5%8d%e0%a4%9c%e0%a5%8d%e0%a4%b5%e0%a4%b2%e0%a4%be-%e0%a4%af%e0%a5%8b/ Sat, 11 Jul 2020 14:03:49 +0000 https://newsindialive.in/?p=182648

केंद्र सरकार ने प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना (PMUY) की अवधि 30 सितंबर तक बढ़ा दी है। इससे 8 करोड़ लोगों को फायदा होगा, जिन्हें PMUY के तहत मुफ्त गैस सिलेंडर मिलते हैं। हालांकि इस बार व्यवस्था में थोड़ा बदलाव रहेगा। दरअसल, केंद्र सरकार ने घोषणा की थी कि PMUY के तहत गरीब महिलाओं को 1 अप्रैल से 30 जून के बीच तीन मुफ्त गैस सिलेंडर दिए जाएंगे। 30 जून की इसी अवधि को अब 30 सितंबर तक बढ़ाया गया है। अब तक सरकार इन गरीबों के खाते में एडवांस पैसा जमा कर देती थी, ताकि ये खाली सिलेंडर भरवा सकें, लेकिन अब ऐसा नहीं होगा। इन खाताधारकों को पहले गैस सिलेंडर का भुगतान करना होगा और फिर सरकार वह पूरा पैसा खाते में जमा करेगी।

सरकार ने जून में यह बदलाव कर दिया था, जो अब अवधि बढ़ने पर भी लागू होगा। सरकार ने पहले दो मुफ्त गैस सिलेंडर का पैसा खातों में जमा कर दिया था, लेकिन देखा गया कि लोगों ने वह राशि कहीं और खर्च कर दी और रसोई गैस सिलेंडर का उपयोग बंद कर दिया। इसके बाद ही तय हुआ कि लोग पहले सिलेंडर खरीदेंगे, फिर राशि दी जाएगी। इसके लिए सरकार ने पुख्ता व्यवस्था कर ली है। जैसे ही संबंधित रसोई गैस एजेंसी के यहां डाटा अपडेट होगा, पैसा संबंधित के खाते में पहुंच जाएगा।

प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना  की शुरुआत 2016 में की गई थी। शुरू में गरीबी रेखा के नीचे रहने वाले को मुफ्त रसोई गैस कनेक्शन दिए गए और फ्री रसोई गैस सिलेंडर की व्यवस्था भी की गई। इसके बाद PMUY का दायरा बढ़ाकर अनुसूचित जाति एवं जनजाति परिवारों के साथ ही प्रधानमंत्री आवास योजना तथा अंत्योदय योजना के लाभार्थियों को भी शामिल कर लिया गया। इसके बाद एक और विस्तार देते हुए सभी गरीब परिवारों को इसमें शामिल कर लिया गया।

]]>
एयरटेल के इन तीन प्रीपेड प्लान्स की कीमत 200 रुपये से कम, जानें खास बेनिफिट्स! https://newsindialive.in/%e0%a4%8f%e0%a4%af%e0%a4%b0%e0%a4%9f%e0%a5%87%e0%a4%b2-%e0%a4%95%e0%a5%87-%e0%a4%87%e0%a4%a8-%e0%a4%a4%e0%a5%80%e0%a4%a8-%e0%a4%aa%e0%a5%8d%e0%a4%b0%e0%a5%80%e0%a4%aa%e0%a5%87%e0%a4%a1-%e0%a4%aa/ Sat, 11 Jul 2020 14:03:06 +0000 https://newsindialive.in/?p=182645

टेलिकॉम कंपनी एयरटेल (Airtel) ने कुछ समय पहले अपने यूजर्स के लिए तीन प्रीपेड प्लान्स पेश किए थे, जिनमें 99 रुपये, 129 रुपये और 199 रुपये वाले प्लान्स शामिल हैं। शुरुआती में कंपनी ने इन प्लान्स को कुछ चुनिंदा सर्किल्स में ही लॉन्च किया था लेकिन अब इनका दायदा बढ़ा दिया गया है। अब यह प्लान्स कई अन्य सर्किल्स में भी उपलब्ध होंगे। इन प्लान्स में यूजर्स को कॉलिंग और डाटा की सुविधा मुहैया कराई जा रही है। आइए जानते हैं इनमें मिलने वाले बेनिफिट्स के बारे में डिटेल से।

99 रुपये वाले प्लान में मिलने वाला बेनिफिट्स
इस प्लान में मिलने वाले बेनिफिट्स की बात करें तो इसमें यूजर्स 1GB डाटा और अनलिमिटेड लोकल कॉल्स के साथ एसटीडी कॉलिंग की भी सुविधा मिलेगी। यूजर्स किसी भी नेटवर्क पर अनलिमिटेड कॉलिंग का लाभ उठा सकते हें। इसके अलावा प्लान के साथ 100 एसएमएस डेली भी मिलेंगे। इस प्लान की वैलिडिटी 18 दिनों की है और इसमें यूजर्स को Airtel Xstream, Wynk Music, और Zee5 Premium का फ्री एक्सेस भी दिया जा रहा है।

129 रुपये के प्लान में मिलेंगे ये बेनेफिट्स
129 रुपये वाले प्लान में यूजर्स को डेली 300 एसएमएस उपलब्ध कराए जा रहे हैं। साथ ही इसमें 1GB डाटा और सभी नेटवर्क पर अनलिमिटेड कॉलिंग की भी सुविधा उपलब्ध है। यह प्लान 24 दिनों की वैलिडिटी के साथ आता है। इसमें भी Airtel Xstream, Wynk Music, और Zee5 Premium का फ्री सब्सक्रिप्शन ऑफर किया जा रहा है।

199 रुपये वाला प्लान
एयरटेल के 199 रुपये के प्लान की वैलिडिटी 24 दिन की है। इन 24 दिनों में यूजर्स कुल 24GB डाटा का लाभ उठा सकते हैं। क्योंकि इसमें भी आपको 1GB डेली डाटा प्राप्त होगा। इसके अलावा डेली 100 एसएमएस फ्री मिलेंगे। साथ ही फ्री हेलो ट्यून्स और Airtel Xstream, Wynk Music, और Zee5 Premium का फ्री एक्सेस भी उपलब्ध होगा।

एयरटेल के 99 रुपये वाले प्लान को पहले कोलकाता, वेस्ट बंगाल, राजस्थान, यूपी ईस्ट, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में लॉन्च किया गया था। लेकिन अब कंपनी ने इनको बिहार, झारखंड और ओडिशा में भी उपलब्ध करा दिया है। वहीं 129 और 199 रुपये वाले प्लान की बात करें तो अब इन प्लान्स को भी दिल्ली-एनसीआर, आसाम, बिहार, झारखंड, मुंबई, नॉर्थ ईस्ट और ओडिशा के यूजर्स के लिए उपलब्ध करा दिया गया है।

]]>
13 जुलाई को रियलमी X50 प्रो 5G की पहली सेल, फरवरी में हुई लॉन्चिंग से लेकर अब तक 3 हजार रुपए तक महंगा हुआ https://newsindialive.in/13-%e0%a4%9c%e0%a5%81%e0%a4%b2%e0%a4%be%e0%a4%88-%e0%a4%95%e0%a5%8b-%e0%a4%b0%e0%a4%bf%e0%a4%af%e0%a4%b2%e0%a4%ae%e0%a5%80-x50-%e0%a4%aa%e0%a5%8d%e0%a4%b0%e0%a5%8b-5g-%e0%a4%95%e0%a5%80-%e0%a4%aa/ Sat, 11 Jul 2020 11:29:07 +0000 http://e3b9c343b9d3f777ac9b4023511746b5

 

नई दिल्ली. रियलमी X50 प्रो 5G स्मार्टफोन 13 जुलाई को भारत में बिक्री के लिए तैयार है। इसे फरवरी में लॉन्च किया गया था और तब से इसे फ्लैश सेल के माध्यम से ही बेचा जा रहा था। इसकी आखिरी फ्लैश सेल मार्च में आयोजित की गई थी। उपलब्धता ने होने के कारण चार महीने से अधिक समय के बाद अब कंपनी इसकी पहली रेगुलर सेल आयोजित कर रही है। बाजार से इसकी अनुपस्थिति के दौरान, रियलमी X50 प्रो 5G में भी 12 प्रतिशत से 18 प्रतिशत तक स्मार्टफोन पर जीएसटी दर में बढ़ने के कारण इसकी कीमत में बढ़ोतरी हुई है।

रियलमी X50 प्रो 5G: भारत में कीमत और सेल डेट

  • नई कीमत की बात करें तो रियलमी X50 प्रो 5G के बेस  6GB+128GB स्टोरेज वैरिएंट की कीमत 39,999 रुपए है। जबकि 8GB+128GB स्टोरेज वैरिएंट 41,999 रुपए में और 12GB+256GB स्टोरेज वैरिएंट 47,999 रुपए में बेचा जाएगा।
  • फोन 13 जुलाई को दोपहर 12 बजे फ्लिपकार्ट और रियलमी डॉट कॉम के माध्यम से खरीदा जा सकेगा। यह दो कलर ऑप्शन- मॉस ग्रीन और रस्ट रेड में उपलब्ध होगा।
  • रियलमी X50 प्रो की कीमत में 3,000 रुपए तक भी बढ़ोतरी हुई है। लॉन्चिंग के समय 6GB+128GB वैरिएंट 37,999 रुपए का था जबकि 8GB+128GB वैरिएंट 39,999 रुपए और टॉप-स्पेक 12GB+256GB वैरिएंट 44,999 रुपए का था।

रियलमी X50 प्रो 5G: नई कीमत और अंतर 

वैरिएंट नई कीमत पुरानी कीमत अंतर
6GB+128GB 39,999 रु. 37,999 रु. 2,000 रु.
8GB+128GB 41,999 रु. 39,999 रु. 2,000 रु.
12GB+256GB 47,999 रु. 44,999 रु. 3,000 रु.

रियलमी X50 प्रो 5G: स्पेसिफिकेशन और फीचर्स

  • इसमें क्वालकॉम स्नैपड्रैगन 865 प्रोसेसर है। इसका ऑनटूटू स्कोर करीब 6 लाख है, यानी यह अबतक का सबसे पावरफुल प्रोसेसर है। यह स्नैपड्रैगन 855+  से 25% ज्यादा एफिशिएंट है।
  • फोन में कुल 6 कैमरे मिलेंगे। इसमें चार रियर कैमरे हैं, जिसमें 64 मेगापिक्सल का प्रायमरी कैमरा, 12 मेगापिक्सल का टेलीफोटो सेंसर, 8 मेगापिक्सल का वाइड-एंगल कैमरा और 2 मेगापिक्सल का डेप्थ सेंसर है। सेल्फी के लिए दो पंच होल कैमरे मिलेंगे, जिसमें 32 मेगापिक्सल का फ्रंट कैमरा और 8 मेगापिक्सल का वाइड एंगल सेल्फी शूटर हैं। यह स्मार्टफोन 20x हाइब्रिड जूम सपोर्ट करता है। लो लाइट फोटोग्राफी के लिए इसमें अल्ट्रा नाइटस्केप मोड मिलेगा।
  • फोन वाई-फाई 6 सपोर्ट करेगा। इसमें UFS3.0 स्टोरेज मिलेगा। इसमें 12 जीबी तक की रैम और 256 जीबी तक का स्टोरेज मिलेगा। फोन में 4200 एमएएच बैटरी मिलेगा वहीं बॉक्स में 65 वॉट का फास्ट चार्जर मिलेगा। कंपनी का दावा है कि यह फोन को 35 मिनट में 0 से 100% चार्ज करेगा।
  • फोन रियलमी यूआई बेस्ड एंड्रॉयड 10 ऑपरेटिंग सिस्टम पर काम करेगा। इसमें डुअल म्यूजिक मोड मिलेगा, जिसकी बदौलत इसमें एक साथ वायर्ड हेडफोन और ब्लूटूथ हेडफोन पर गाने सुन सकेंगे।
डिस्प्ले साइज 6.44 इंच
डिस्प्ले टाइप सुपर एमोलेड फुल एचडी+ डिस्प्ले
सिम टाइप डुअल नैनो सिम
ओएस रियलमी UI बेस्ड एंड्रॉयड 10
प्रोसेसर क्वालकॉम स्नैपड्रैगन 865
रैम 6 जीबी/ 8जीबी/ 12जीबी
स्टोरेज 128 जीबी/ 256 जीबी
रियर कैमरा 64MP(प्राइमरी)+12MP(टेलीफोटो)+8MP(वाइड0-एंगल)+2MP(डेप्थ सेंसर)
फ्रंट कैमरा 32MP+8MP(वाइड-एंगल)
बैटरी 4200mAh सपोर्ट  65W फास्ट चार्जर
]]>
ओवरऑल रिकवरी में 2 से 3 साल का समय लगेगा, अधिक वित्तीय मदद की जरूरत: सुनील मुंजाल https://newsindialive.in/%e0%a4%93%e0%a4%b5%e0%a4%b0%e0%a4%91%e0%a4%b2-%e0%a4%b0%e0%a4%bf%e0%a4%95%e0%a4%b5%e0%a4%b0%e0%a5%80-%e0%a4%ae%e0%a5%87%e0%a4%82-2-%e0%a4%b8%e0%a5%87-3-%e0%a4%b8%e0%a4%be%e0%a4%b2-%e0%a4%95%e0%a4%be/ Sat, 11 Jul 2020 11:04:22 +0000 http://954045b6380fdb9c71e413b910873925

 

नई दिल्ली. हीरो एंटरप्राइजेज के चेयरमैन सुनील कांत मुंजाल ने शुक्रवार को कहा कि अर्थव्यवस्था में पूर्ण रिकवरी में 2 से 3 साल तक का समय लग सकता है। हालांकि, कुछ सेक्टर्स में तेज रिकवरी हो सकती है। उन्होंने अर्थव्यवस्था को रिवाइव करने के लिए अधिक वित्तीय मदद की जरूरत पर जोर दिया।

बिना मदद रिकवर नहीं कर पाएंगे बड़े सेक्टर

एसबीआई की ओर से आयोजित ‘कोविड-19 का कारोबार और अर्थव्यवस्था पर प्रभाव’ वर्चुअल कॉन्क्लेव में बोलते हुए मुंजाल ने कहा कि कुछ प्रमुख बड़े सेक्टर अभी भी संघर्ष कर रहे हैं। यह सेक्टर वास्तव में बिना मदद इस समय रिकवर नहीं कर पाएंगे। उन्होंने कहा कि इस समय ढांचागत और लंबी अवधि की स्थायी जरूरतों के लिए हस्तक्षेप करने की जरूरत है। सरकार को न केवल मौद्रिक सहायता प्रदान करने के लिए तैयार रहने की आवश्यकता है, बल्कि वित्तीय सहायता की कम से कम दो और खुराक देने के लिए तैयार रहना चाहिए। सरकार को सेक्टोरल और यहां तक कि व्यक्तिगत संस्थाओं का चयन कर उनकी मदद के लिए भी तैयार रहना चाहिए।

रिकवरी के रास्ते में चट्टानों की अड़चन

मुंजाल ने कहा कि रिकवरी के रास्ते में चट्टानों की अड़चन है क्योंकि कुछ सेक्टर्स ऐसे हैं जो रिकवर नहीं कर पाएंगे। यह एक नकारात्मक बात है जो चिंताजनक है। कुछ कंपनियां अपनी दुकान बंद कर रही हैं और हम यह भी नहीं जानते कि वे ऐसा क्यों कर रही हैं। वे रिकवर करने की स्थिति में नहीं हैं और इनमें बड़ी संख्या स्मॉल एंड मीडियम साइज की कंपनियां शामिल हैं। मुंजाल ने कहा कि आंशिक रूप से बेस इफेक्ट और मांग बढ़ने के कारण कुछ कारोबारों में तेज रिकवरी होगी। उन्होंने कहा कि हम यह चीज मोटरसाइकिल और बाइसाइकिल सेगमेंट में देख रहे हैं।

मांग में कमी के कारण नौकरियां जाएंगी

उन्होंने कहा कि मांग में कमी के कारण लोगों की नौकरियां जाएंगी। नौकरी छूटने की संभावना काफी डरावनी है और यह 20 फीसदी से ऊपर पहुंच सकती है। मुंजाल ने कहा कि मैं इस बात को लेकर निश्चित नहीं हूं कि सोशल फॉलआउट के लिए हमने काफी काम किया है। उन्होंने कहा कि हमने अभी तक ऐसा अनुभव महसूस नहीं किया है। स्मॉल एंड मिड साइज कंपनियां लोगों को वापस लाने को लेकर सशंकित हैं।

]]>
मोराटोरियम से बढ़ेगी बैंकों की मुसीबत, वित्त वर्ष 2021 में पांच बड़े प्राइवेट बैंकों का एनपीए हो जाएगा दोगुना से ज्यादा  https://newsindialive.in/%e0%a4%ae%e0%a5%8b%e0%a4%b0%e0%a4%be%e0%a4%9f%e0%a5%8b%e0%a4%b0%e0%a4%bf%e0%a4%af%e0%a4%ae-%e0%a4%b8%e0%a5%87-%e0%a4%ac%e0%a4%a2%e0%a4%bc%e0%a5%87%e0%a4%97%e0%a5%80-%e0%a4%ac%e0%a5%88%e0%a4%82/ Sat, 11 Jul 2020 11:04:06 +0000 http://75911101e944daf438b0096f71405ea5

 

नई दिल्ली. कोविड-19 से निपटने के लिए लागू की गई लोन मोराटोरियम की सुविधा बैंकों के लिए मुसीबत बन सकती है। इंडिया रेटिंग्स की ओर से शुक्रवार को जारी ताजा रिपोर्ट के मुताबिक, मोराटोरियम के कारण नेट इंटरेस्ट मार्जिन और लोन वितरण में कमी के चलते देश के पांच बड़े बैंकों का नॉन परफॉर्मिंग एसेट्स (एनपीए) बढ़कर 5 फीसदी से ज्यादा हो सकता है। इसमें एचडीएफसी बैंक, आईसीआईसीआई बैंक, एक्सिस बैंक, कोटक महिंद्रा बैंक और इंडसइंड बैंक शामिल हैं। इन पांचों बैंकों की सामूहिक रूप से बैंकिंग सिस्टम में 25 फीसदी और प्राइवेट बैंकिंग स्पेस में 75 फीसदी हिस्सेदारी है।

वित्त वर्ष 2020 में 2.7 फीसदी रहा इन बैंकों का एनपीए

इंडिया रेटिंग्स की रिपोर्ट में अनुमान जताया गया है कि इन बैंकों का एनपीए वित्त वर्ष 2020 के 2.7 फीसदी से बढ़कर चालू वित्त वर्ष में 5 फीसदी के करीब पहुंच सकता है। वित्त वर्ष 2019 में इन बैंकों का एनपीए 2.3 फीसदी रहा था। रिपोर्ट के मुताबिक, एनपीए की बढ़ोतरी भले ही कम हो सकती है लेकिन रिफाइनेंसिंग की चुनौती बनी रहेगी। इसका नतीजा यह होगा कि नेट इंटरेस्ट मार्जिन में 4 फीसदी की कमी होगी। लोन की मांग कम होने के कारण बैंक अपनी अतिरिक्त लिक्विडिटी को लो-यील्ड जैसे विकल्पों में निवेश कर रहे हैं। इसमें सरकारी बॉन्ड और अच्छी रैंकिंग वाली कॉरपोरेट सिक्युरिटीज शामिल हैं।

वित्त वर्ष 2020 में डिपॉजिट में 18.8 फीसदी की ग्रोथ

रिपोर्ट के मुताबिक, वित्त वर्ष 2020 में इन पांच बैंकों की डिपॉजिट ग्रोथ 18.8 फीसदी रही है। वित्त वर्ष 2019 में डिपॉजिट ग्रोथ 18.5 फीसदी रही थी। वहीं, इस अवधि में लोन ग्रोथ 19.1 फीसदी से घटकर 15 फीसदी पर आ गई है। इसके अतिरिक्त पिछले 6 महीनों में आरबीआई ने बैंकिंग सिस्टम में 1.7 लाख करोड़ रुपए की लिक्विडिटी डाली है। यह लिक्विडिटी ओपन मार्केट ऑपरेशन और सेकेंडरी मार्केट पर्चेस के जरिए डाली गई है।

अर्थव्यवस्था में संकट के कारण नाजुक एसेट्स में बढ़ोतरी होगी 

रिपोर्ट में अनुमान जताया गया है कि कोविड-19 महामारी का बैंकिंग क्षेत्र की जीडीपी पर विनाशकारी प्रभाव पड़ेगा। इससे अर्थव्यवस्था पर गहरी मुसीबत आ जाएगी और नाजुक एसेट्स में बढ़ोतरी होगी। इसके अतिरिक्त बैंकों ने अपनी सरप्लस लिक्विडिटी में से एक बड़ा हिस्सा रिवर्स रेपो रेट में लगाया है। पिछले एक साल में रिवर्स रेपो रेट 215 बेसिस पॉइंट घटकर 3.35 फीसदी पर आ गया है। इसके अलावा कॉस्ट ऑफ फंड्स में 5 से 6 फीसदी की गिरावट आई है। यह नकारात्मकता की ओर ले जा सकता है।

आरबीआई गवर्नर ने भी दिए एनपीए बढ़ने के संकेत

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के गवर्नर ने भी कोरोना महामारी के कारण एनपीए बढ़ने का संकेत दिया है। शनिवार को एसबीआई की ओर से आयोजित ‘कोविड-19 का कारोबार और अर्थव्यवस्था पर प्रभाव’ वर्चुअल कॉन्क्लेव में बोलते आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा कि कोरोनावायरस महामारी के कारण एनपीए में बढ़ोतरी होगी और कैपिटल में कमी आएगी। उन्होंने कहा कि महामारी के कारण उभरते जोखिम की पहचान के लिए ऑफसाइट सर्विलांस मैकेनिज्म को मजबूत किया जा रहा है।

]]>
तीन महीनों से बंद सिनेमाघर अब रेवेन्यू के लिए दूसरे व्यवसाय पर कर रहे हैं फोकस, एफएंडबी से लेकर क्लाउड किचन जैसे बिजनेस में उतरेंगे https://newsindialive.in/%e0%a4%a4%e0%a5%80%e0%a4%a8-%e0%a4%ae%e0%a4%b9%e0%a5%80%e0%a4%a8%e0%a5%8b%e0%a4%82-%e0%a4%b8%e0%a5%87-%e0%a4%ac%e0%a4%82%e0%a4%a6-%e0%a4%b8%e0%a4%bf%e0%a4%a8%e0%a5%87%e0%a4%ae%e0%a4%be%e0%a4%98/ Sat, 11 Jul 2020 10:08:59 +0000 http://c95927a07e78a215abad54910b0924ac

 

नई दिल्ली. कोरोना की मार से पिछले 3 महीनों से बंद सिनेमाघर अब रेवेन्यू के नए रास्ते तलाश रहे हैं। अब यह सिनेमाघर फूड एवं बेवरेज से लेकर किचन क्लाउड तक के बिजनेस में उतर रहे हैं। इसके जरिए आनेवाले दिनों में ये थिएटर आपके घरों तक खाने पीने की सामानों की डिलिवरी और पार्सल करते नजर आएंगे। इस कड़ी में मल्टीप्लेक्स ऑपरेटर पीवीआर अपने एफएंडबी (फूड एंड बेवरेज) ब्रांड को बढ़ाने की योजना बना रहा है।

कुल रेवेन्यू में एफएंडबी का हिस्सा 30 प्रतिशत है

पीवीआर के चेयरमैन अजय बिजली ने कहा कि हमारे कुल रेवेन्यू में एफएंडबी का हिस्सा 30 प्रतिशत है। एफएंडबी एक ऐसा सेगमेंट है, जिससे लोग प्रोडक्ट को घर पर भी ले जा सकते हैं। हम प्रोपराइटरी फूड प्रोडक्ट के एक अच्छे बकेट को ऑफर करेंगे, जिसे लोग स्टोर के साथ ऑन लाइन भी खरीद सकते हैं।

वर्तमान में एफएंडबी की खपत केवल सिनेमाघरों में होती है

बिजली ने कहा कि वर्तमान में हम तीन बातों (आर) पर काम कर रहे हैं – रेस्क्यू, रिवाइवल और रिइनवेंशन। रिइनवेंशन में जो खास बात है वह यह कि इसका रेवेन्यू शटर बंद होने पर भी आता है और शटर खुलने पर भी आता है। वर्तमान में एफएंडबी की खपत केवल सिनेमाघरों में होती है। इसके एफएंडबी से केवल पॉपकार्न को लोग घर पर लेकर जाते हैं। हम पीवीआर में इसे और ऐसे प्रोडक्ट पर फोकस करेंगे जो घर पर ले जाने के लिए सही रहे।

पीवीआर में F&B की एक बड़ी चेन है

बता दें कि पीवीआर में F&B की एक बड़ी चेन है और यह सिर्फ पॉपकॉर्न और बेवरेज तक ही सीमित नहीं है। सेलिब्रिटी शेफ द्वारा तैयार किए गए लाइव किचन मेनू से लेकर पीवीआर अपने एफएंडबी ऑफर पर बड़ा दांव लगा रहा है। वित्त वर्ष 2020 की एक रिपोर्ट के अनुसार, एफएंडबी सेगमेंट मल्टीप्लेक्स के लिए रेवेन्यू का दूसरा सबसे बड़ा सोर्स बना रहा है जिसमें ग्रॉस मार्जिन 70 से 75 प्रतिशत के बीच है।

वैश्विक स्तर पर टिकट और गैर-टिकट वाले रेवेन्यू का अनुपात आम तौर पर 1: 1 है। हालांकि, भारत में गैर-टिकट का रेवेन्यू आम तौर पर बड़ी मल्टीप्लेक्स चेन के लिए 40-50 प्रतिशत तक होता है। यह भविष्य के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकते हैं।

कॉर्निवल सिनेमा क्लाउड किचन में एंट्री कर रहा है

देशभर में सिनेमा घर बंद होने के कारण कार्निवल सिनेमा राजस्व के लिए अब अपने 100 सिनेमाघरों में क्लाउड किचन स्थापित कर रहा है। कॉर्निवल अपने मूवी-सिनेमा मेनू के तहत मूवी मेनू और फ्रेश काउंटर की पेशकश कर रहा है। इसके जरिए कॉर्निवल सिनेमाघरों के बंद होने पर भी रेवेन्यू जनरेट करने की योजना बना रहा है। कॉर्निवल ने हाल ही में घोषणा की थी कि वह अगले दो वर्षों में 15 करोड़ रुपए का निवेश करेगा।

चार चरण के विस्तार के पहले चरण में कॉर्निवल ने पांच राज्यों में नौ स्थानों पर क्लाउड रसोई स्थापित की है। इसके अतिरिक्त अगले तीन महीनों में कंपनी मुंबई और पुणे में 8 और आउटलेट्स को खोलने की योजना बना रही है।

]]>
महिंद्रा की 6 SUV पर मिल रही है 3.05 लाख रुपए तक की छूट, Alturas G4 पर 2.40 लाख रु. का कैश डिस्काउंट https://newsindialive.in/%e0%a4%ae%e0%a4%b9%e0%a4%bf%e0%a4%82%e0%a4%a6%e0%a5%8d%e0%a4%b0%e0%a4%be-%e0%a4%95%e0%a5%80-6-suv-%e0%a4%aa%e0%a4%b0-%e0%a4%ae%e0%a4%bf%e0%a4%b2-%e0%a4%b0%e0%a4%b9%e0%a5%80-%e0%a4%b9%e0%a5%88-3-05/ Sat, 11 Jul 2020 09:41:47 +0000 http://270f24f045fa409a957874d21721365c

नई दिल्ली. महिंद्रा जुलाई महीने में अपनी बिक्री बढ़ाने के लिए एसयूवी लाइन-अप पर डिस्काउंट और बेनेफिट्स ऑफर कर रही है। लॉकडाउन के बाद लगभग सभी डीलरशिप में दोबारा कामकाज शुरू हो चुका है, ऐसे में कंपनी ग्राहकों को लुभाने के लिए अपने मॉडलों पर 3.05 लाख रुपए कर का डिस्काउंट ऑफर कर रही है, हालांकि वास्तविक बेनेफिट मॉडल और वैरिएंट के आधार पर अलग-अलग हैं। आइए जानते हैं महिंद्रा कौनसी एसयूवी पर कितना डिस्काउंट दे रही है….

1. महिंद्रा अल्टुरस G4, 3.05 लाख रुपए तक का बेनेफिट

 

महिंद्रा की बड़ी 7-सीटर फ्लैगशिप एसयूवी अल्टुरस G4 कई एडवांस्ड फीचर्स से लैस है और इसकी कीमत इसके मुख्य प्रतिद्वंद्वियों जैसे टोयोटा फॉर्च्यूनर और फोर्ड एंडेवर से कम है। जुलाई के लिए यह एसयूवी पर 3.05 लाख रुपए तक का बेनेफिट दिया जा रहा है, जिसमें 2.4 लाख रुपए का कैश डिस्काउंट और 50,000 रुपए का एक्सचेंज बोनस शामिल है।
जब बीएस 6 महिंद्रा अल्टुरस G4 के लिए कीमतों की घोषणा की गई थी, तो यह केवल फोर-व्हील ड्राइव वैरिएंट में उपलब्ध थी। अब ग्राहकों के पास इसका अधिक किफायती टू-व्हील ड्राइव वैरिएंट का विकल्प भी उपलब्ध है।

2. महिंद्रा XUV300, 65 हजार रुपए तक का बेनेफिट

पिछले साल के अंत में 1.2 लीटर टर्बो-पेट्रोल वैरिएंट को अपग्रेड किए जाने के बाद महिंद्रा XUV300 (सब-फोर मीटर एसयूवी) बीएस 6 एमिशन नॉर्म्स को फॉलो करने वाली पहली मॉडल थी। XUV300 एक दमदार पैकेज के साथ आती है, जिसमें 1.5-लीटर डीजल इंजन और विभिन्न प्रकार के इक्विपमेंट्स हैं, जो सभी वैरिएंट में उपलब्ध हैं हालांकि हाई वैरिएंट थोड़ा महंगा है। जबकि दोनों इंजनों पर 6-स्पीड मैनुअल स्टैंडर्ड मिलता है, हालांकि डीजल इंजन में 6-स्पीड ऑटोमैटिक गियरबॉक्स का विकल्प भी मिलता है।
XUV300 डीजल मॉडल 42,500 रुपए तक का बेनेफिट दिया जा रहा है, जिसमें 25,000 रुपए का एक्सचेंज बोनस भी शामिल है। वैरिएंट के हिसाब से पेट्रोल मॉडल पर 65,000 रुपए तक का डिस्काउंट दिया जा रहा है।

3. महिंद्रा KUV100 NXT, 62 हजार रुपए तक का बेनेफिट

महिंद्रा का एंट्री-लेवल मॉडल अपने अनोखे 6-सीटर कॉन्फ़िगरेशन की बदौलत भीड़ से अलग है। यह अब पूरी तरह से बीएस 6 कंप्लेंट पेट्रोल इंजन के साथ अवेलेबल है, KUV पर 33,000 रुपए तक का कैश डिस्काउंट मिल सकता है। अपने पुराने व्हीकल बदलने पर खरीदारों को एक्सचेंज बोनस के रूप में 20,000 रुपए का अतिरिक्त ऑफर दिया जा रहा है।

4. महिंद्रा XUV500, 39 हजार रुपए तक का बेनेफिट

महिंद्रा XUV500 भी BS6 इंजन के साथ उपलब्ध है, लेकिन इसकी लाइनअप में काफी फेरबदल किया गया है। एसयूवी अब केवल महिंद्रा के 2.2-लीटर mHawk डीजल इंजन और एक मैनुअल गियरबॉक्स के साथ उपलब्ध है। ऑटोमैटिक ट्रांसमिशन और ऑल-व्हील ड्राइव वाले वैरिएंट लाइन-अप से हटा दिए गए हैं। एसयूवी पर ग्राहकों को 39,000 रुपए तक का बेनेफिट दिया जा रहा है।

5. महिंद्रा स्कोर्पियो, 30 हजार रुपए तक का बेनेफिट

XUV500 के साथ स्कॉर्पियो लाइन-अप को भी बीएस 6 कंप्लेंट होने के साथ बदल दिया गया है। पुराना 2.5-लीटर डीजल अब उपलब्ध नहीं है और 2.2-लीटर डीजल अब सिंगल स्टेट में उपलब्ध है और फोर-व्हील ड्राइव ऑप्शन में भी नहीं है। स्कॉर्पियो पर ग्राहकों को 30,000 रुपए तक का बेनेफिट ऑफर किया जा रहा है। अगले साला तक एक नया मॉडल आने की भी उम्मीद है।

6. महिंद्रा बोलेरो, 13500 रुपए तक का बेनेफिट

बोलेरो महिंद्रा के पुराने मॉडल में से एक है, जो लंबे समय से बाजार में अपनी जगह बनाए हुए हैं। इसे भी बीएस 6 एमिशन नॉर्म्स के अनुसार अपग्रेड कर दिया गया है। अब केवल सब-फोर-मीटर फॉर्म में उपलब्ध है, बोलेरो 1.5 लीटर mHawk75 डीजल इंजन के साथ आती है। इसमें 7 लोग आराम से बैठ सकते हैं। बीएस 6 बोलेरो पर इस महीने 13,500 रुपए तक का बेनेफिट दिए जा रहा है।

Disclaimer: छूट शहर दर शहर अलग और स्टॉक की उपलब्धता के अधीन होती है। कृपया सटीक छूट के आंकड़ों के लिए अपने स्थानीय डीलर से संपर्क करें।

]]>
गवर्नर शक्तिकांत दास बोले- कोरोना बीते 100 साल का सबसे बड़ा संकट, इसका उत्पादन और नौकरियों पर नकारात्मक असर पड़ेगा https://newsindialive.in/%e0%a4%97%e0%a4%b5%e0%a4%b0%e0%a5%8d%e0%a4%a8%e0%a4%b0-%e0%a4%b6%e0%a4%95%e0%a5%8d%e0%a4%a4%e0%a4%bf%e0%a4%95%e0%a4%be%e0%a4%82%e0%a4%a4-%e0%a4%a6%e0%a4%be%e0%a4%b8-%e0%a4%ac%e0%a5%8b%e0%a4%b2/ Sat, 11 Jul 2020 09:24:32 +0000 http://fcc9cee42507a1ea01f0db2c066473c4

 

नई दिल्ली. भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के गवर्नर शक्तिकांत दांस ने शनिवार को कहा कि कोविड-19 बीते 100 साल का सबसे बड़ा संकट है। इसका उत्पादन और नौकरियों पर नकारात्मक असर पड़ेगा। इससे मौजूदा वैश्विक ऑर्डर, ग्लोबल वैल्यू चेन और पूरी दुनिया में लेबर-कैपिटल मूवमेंट प्रभावित होगा।

आरबीआई की ओर से उठाए जा रहे कई कदम

एसबीआई की ओर से आयोजित ‘कोविड-19 का कारोबार और अर्थव्यवस्था पर प्रभाव’ वर्चुअल कॉन्क्लेव में बोलते हुए दास ने कहा कि कोविड-19 के कारण पैदा हुए मौजूदा संकट से वित्तीय सिस्टम को बचाने के लिए कई कदम उठाए जा रहे हैं। अर्थव्यवस्था में रिकवरी के लिए मदद की जा रही है। उन्होंने कहा कि ग्रोथ आरबीआई की सबसे बड़ी प्राथमिकता है। वित्तीय स्थिरता भी उतनी ही अहम है।

नई रिस्क का पता लगाने के लिए मैकेनिज्म बना रहे

आरबीआई गवर्नर ने कहा कि महामारी की वजह से होने वाले जोखिम की पहचान के लिए ऑफसाइट सर्विलांस मैकेनिज्म को मजबूत किया जा रहा है। कोरोनावायरस के असर की वजह से एनपीए में बढ़ोतरी होगी और कैपिटल में कमी आएगी। उन्होंने कहा कि पंजाब एंड महाराष्ट्र को-ऑपरेटिव (पीएमसी) बैंक की समस्या का समाधान करने के लिए आरबीआई सभी स्टेकहोल्डर्स से बातचीत कर रहा है।

आरबीआई गवर्नर ने ये 6 बातें भी कहीं

  • वित्तीय सिस्टम में लचीलापन लाने और क्रेडिट फ्लो को सुनिश्चित करने के लिए पूंजी जुटाई जा रही है।
  • प्रतिबंधों में छूट के कारण भारतीय अर्थव्यवस्था के सामान्य स्थिति की ओर लौटने के संकेत मिल रहे हैं।
  • तनावग्रस्त एसेट्स की समस्या दूर करने के लिए स्ट्रक्चर्ड मैकेनिज्म की आवश्यकता है। इसके लिए कानूनी सपोर्ट भी होना चाहिए।
  • भारतीय कंपनियां और उद्योग इस संकट में बेहतर रेस्पॉन्स दे रहे हैं।
  • आरबीआई ने फरवरी 2019 से अब तक रेपो रेट में 250 बेसिस पॉइंट की कटौती की।
  • इस वर्ष रेपो रेट में अब तक 135 बेसिस पॉइंट की कटौती की।
]]>