डॉक्टर को बंधक बनाकर डकैती का मामलाः मास्टरमाइंड महिला सहित तीन बदमाश आए पुलिस गिरफ्त में

img_20220920_wa0003_584

जयपुर, 20 सितंबर (हि.स.)। वैशाली नगर थाना पुलिस ने डॉक्टर को बंधक बनाकर डकैती डालने के मामले का पर्दाफाश करते हुए मास्टर माइंड नेपाली महिला सहित तीन बदमाशों को गिरफ्तार किया है। पकड़े गए बदमाशों में डकैती की मास्टर माईन्ड पूर्व नौकरानी हैं। फिलहाल पूछताछ जा रही है।

डीसीपी (पश्चिम) वंदिता राणा ने बताया कि वैशाली नगर थाना पुलिस ने डॉक्टर मोहम्मद इकबाल भारती को बंधक बनाकर डकैती डालने के मामले का पर्दाफाश करते हुए मास्टर माइंड नेपाली महिला अन्नू उर्फ खिन्तु धामी निवासी खखरोल कैलाली नेपाल और सुरेश शाही और प्रकाश उर्फ पुष्पा कैलाली नेपाल को गिरफ्तार किया है। इस डकैती की वारदात की मास्टर माइन्ड अन्नू है। अनु डॉक्टर इकबाल भारती के घर पर तीन बार पूर्व में काम कर चुकी हैं। पहले वर्ष 2006 में लगभग डेढ़ वर्ष तक डॉक्टर इकबाल भारती के घर पर काम किया। फिर वर्ष 2009 में भी कुछ समय के लिए डॉक्टर इकबाल भारती के यहां नौकरी की। वर्ष 2021 में अन्नू ने दो महीने तक डॉक्टर इकबाल भारती के घर पर काम किया। अनु को लगा कि परिवार के सभी लोग डॉक्टर है और अच्छा पैसा कमा रहे है। इसलिए उसने घर पर वारदात करने की योजना बनाई। रक्षाबंधन के दिन एक नेपाली परिवार के घर में पार्टी के दौरान काफी नेपाली लोग शामिल हुए, जिसमें सुरेश शाही भी मौजूद था।

 

अन्नू से सुरेश की मुलाकात इसके साथ ढाबा चलाने वाले कालू सिंह ने करवाई थी। अन्नू ने सुरेश को अपनी योजना से अवगत करवाया। इस पर सुरेश ने दीपक से बात की, जिसने अपने साथियों से बात कर उनको इस योजना में शामिल कर लिया। योजना के मुताबिक दो साथी दिल्ली से भी वारदात से एक दिन पहले आ गए और जयपुर में रुक गए। वारदात के दिन खिरनी फाटक पर यह सभी लोग इकट्ठे हुए वहां पर शराब पी और आगे की योजना बनाई। डकैती डालने के लिए हथियार की व्यवस्था के लिए दिल्ली से आने वाले दोनों व्यक्तियों को दिया गया। वह लोग एक लोहे की रॉड जैसी नकब और दो पेचकस खरीद कर लाए। डकैती में शामिल पांच व्यक्ति अन्नू, सुरेश शाही, प्रकाश उर्फ पुष्पा और दिल्ली से आने वाले प्रेम सिंह उर्फ पीयूष तथा धीरेन्द्र खिरणी फाटक पर इकट्ठे हुए। वहां पर शराब पी और आगे की योजना बनाई। डॉक्टर इकबाल भारती के घर पर पहुंचे, चूकि अन्नू इस परिवार से पहले से परिचित थी। इसलिए वह सबसे पहले घर में गई और डॉक्टर इकबाल भारती को अपनी आंख दिखाने की बात कही। तभी पीछे से सुरेश, प्रेम सिंह और धीरेन्द्र भी डॉक्टर के घर पहुंचे गए। जबकि दो बदमाश दीपक ठाकुर और प्रकाश उर्फ पुष्पा निगरानी के लिए दूर खड़े हो गए। उसी समय घर में प्रवेश कर चुके महिला और तीन अन्य ने डॉक्टर इकबाल भारती के साथ मारपीट कर बाथरूम में बंद कर दिया। जहां पर नौकरानी मीना परिहार किचन में काम कर रही थी।

 

जिसको साथ लेकर यह डॉक्टर इकबाल भारती के बैडरूम में पहुंची और अलमारी से सोने चांदी के आभूषण निकालकर अपने जेबों में डालकर वहां से भाग निकले। नौकरानी मीना ने बाथरूम का दरवाजा खोला और पड़ोसियों की सहायता से इकबाल भारती को इलाज के लिए भिजवाया। पुलिस को वारदात के बाद ही पता चल गया था कि वह नेपाल भाग सकते है। डकैतों द्वारा स्वयं का अपना और किराए का वाहन साथ नहीं होने की जानकारी होने पर उनके बस और ट्रेन से भागने की पूरी संभावनाओ को देखते हुए शहर के सभी बस स्टैण्ड, रेलवे स्टेशन सर्च अभियान चलाया गया। जहां पुलिस को जानकारी कि तीन बजे एक बस जयपुर से नेपाल बॉर्डर की ओर से गई हैं। इस पर पुलिस ने चालक परिचालक के नंबर प्राप्त कर उनको सूचित किया। इसके बाद पुलिस टीम भरतपुर पहुंच कर बस को रुकवाया गया और बस में बैठे लोगों से पूछताछ की तो बस में डकैती की वारदात करने वाले मास्टर माइन्ड अन्नू मौजूद मिली जिसे राउण्डअप किया गया। इसी दौरान भरतपुर जिले के सेवर के पास जयपुर से भरतपुर की एक टैक्सी कार आई जिसमें दो व्यक्ति उतरकर खेत की तरफ भागने लगे। पुलिस ने पीछा किया तो वह झाड़ियों में छिप गए। पुलिस ने सघन तलाशी अभियान चलाकर कैलाली नेपाल निवासी सुरेश शाही और प्रकाश उर्फ पुष्पा को गिरगप्तार कर लिया। बदमाशों के अन्य साथी दिल्ली में जाने की सूचना पर एक टीम दिल्ली भेजी गई हैं।

Check Also

d2268d9d609632d5a2138e4604c8509a1662949423717248_original

वेल डन इंडिया! कोरोना के दौरान गरीब देशों की मदद का हाथ, विश्व बैंक ने की तारीफ

भारत पर विश्व बैंक covid:  भारत को कोरोना महामारी में उसके काम के कारण विश्व स्तर …