रामकथा में बोले ब्रिटेन के प्रधानमंत्री मोरारी बापू, ‘मैं यहां प्रधानमंत्री के तौर पर नहीं बल्कि एक हिंदू के तौर पर आया हूं’

ब्रिटिश प्रधानमंत्री ऋषि सुनके मंगलवार को भारतीय स्वतंत्रता दिवस पर आध्यात्मिक गुरु मोरारी बापू की राम कथा में शामिल हुए। इस राम कथा का आयोजन इंग्लैंड स्थित कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी में किया गया है। ऋषि सुनक जैसे ही मंच पर आए तो सबसे पहले उन्होंने जय राम कहा। इसके बाद उन्होंने कहा कि मैं प्रधानमंत्री के रूप में नहीं बल्कि हिंदू के रूप में हूं.

आध्यात्मिक गुरु ने प्रधानमंत्री का स्वागत करते हुए कहा कि एक सामान्य व्यक्ति की तरह यहां हमारे ऋषि साहब हैं. आपका बहुत स्वागत है। भगवान हनुमान आपका कल्याण करें। और ब्रिटेन के लोगों को फायदा होगा. सुनक ने आगे कहा कि आज भारतीय स्वतंत्रता दिवस पर कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी में मोरारी बापू की रामकथा में शामिल होना वास्तव में सम्मान और खुशी की बात है।

ऋषि सुनक ने कहा कि उनकी हिंदू आस्था हर क्षेत्र में उनका मार्गदर्शन करती है। उन्हें ब्रिटेन के प्रधान मंत्री के रूप में अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने का साहस देता है। आस्था मेरे लिए व्यक्तिगत है. यह मेरे जीवन के हर कदम का मार्गदर्शन करता है। प्रधानमंत्री बनना बड़े सम्मान की बात है. लेकिन ये कोई आसान काम नहीं है. कठिन निर्णयों का सामना कठिन विकल्पों से होता है। मुझे अपने देश के लिए अपना सर्वश्रेष्ठ करने का साहस और लचीलापन देता है