वडोदरा की मांजलपुर सीट से बीजेपी की खींचतान सुलझ गई है, योगेश पटेल को लगातार 8वीं बार टिकट मिलने पर बड़ा दावा किया

Gujarat Election 2022: गुजरात विधानसभा की 182 सीटों में से बीजेपी ने 181 सीटों पर उम्मीदवारों का ऐलान कर दिया है. वडोदरा की केवल मांजलपुर सीट पर ही पेंच फंसा हुआ था. लेकिन योगेश पटेल ने आज सुबह वडोदरा की मांजलपुर सीट से बीजेपी को टिकट देने का दावा किया है. उन्होंने कहा है कि मौदी मंडल से मेरे पास फोन आया है। इसलिए आज से योगेश पटेल ने फॉर्म भरने की तैयारी शुरू कर दी है.

मंझलपुर सीट पर बीजेपी ने एक बार फिर योगेश पटेल को मैदान में उतारा है. योगेश पटेल ने दावा किया कि आज सुबह मोवड़ी मंडल से फोन आया। इतना ही नहीं योगेश पटेल ने आधिकारिक तौर पर घोषणा भी कर दी है कि उन्हें जनादेश मिल गया है. इसके साथ ही बीजेपी ने योगेश पटेल को लगातार 8वीं बार टिकट दिया है. योगेश पटेल आज फार्म भरने के लिए समर्थकों के साथ जाएंगे।

बीजेपी ने 181 सीटों पर उम्मीदवारों की घोषणा की थी, लेकिन वडोदरा की केवल एक मांजलपुर सीट पर योगेश पटेल के कारण असमंजस की स्थिति बनी हुई थी. इससे पहले मंझलपुर सीट के मौजूदा विधायक योगेश पटेल ने घोषणा की कि वह आज मंझलपुर से भाजपा की ओर से पर्चा भरेंगे. पार्टी ने मुझ पर भरोसा जताया है।

वड़ोदरा में जहां तीन सीटें थीं, वहीं विधायक योगेश पटेल रावपुरा सीट से 4 बार चुने गए थे। उसके बाद वड़ोदरा की पांच विधानसभा सीटों पर रह कर पिछले 2 कार्यकाल से मांजलपुर सीट से निर्वाचित होते रहे हैं. उनके मुताबिक पार्टी ने उन्हें आठवां मौका दिया है।

दूसरे चरण के मतदान के लिए फॉर्म भरने का आज आखिरी दिन है. इस बैठक में अनार पटेल के नाम पर चर्चा हुई थी. यह भी बताया गया कि जब अनार पटेल के नाम की चर्चा हुई तो योगेश पटेल भी नाराज हो गए। जिसके चलते बीजेपी ने अब तक आधिकारिक उम्मीदवार की घोषणा नहीं की है. अब पूर्व मंत्री ने दावा किया है कि फोन से योगेश पटेल को सूचना दी गई थी.

कौन हैं योगेश पटेल?

  • 23 जुलाई 1946 को जन्म
  • गुजरात के बड़े राजनीतिक चेहरों में से एक
  • लगातार सात बार विधायक
  • वे रावपुरा से 5 बार विधायक बने
  • मांजलपुर से लगातार दो बार विधायक
  • इकलौता बीजेपी नेता जो 35 साल से लगातार विधायक हैं
  • रूपाणी सरकार में मंत्री बने
  • इलाके में अपने जुझारू स्वभाव के लिए जाने जाते हैं
  • 1990 से विधान सभा सदस्य
  • बेहद सादा जीवन जीते हैं 
  • एक ऐसा नेता जिसने बीजेपी में रहते हुए सिस्टम के खिलाफ आवाज उठाई थी     

मंझलपुर सीट

  • मांजलपुर सीट 2012 में अस्तित्व में आई
  • इस सीट पर पाटीदार, हिंदी भाषी और मराठी मतदाताओं का दबदबा है
  • सीट पर बीजेपी की पकड़ मजबूत है
  • मांजलपुर में जातिवाद का कोई सवाल ही नहीं है
  • सीट पर कुल 3 लाख 23 हजार 93 लोग रहते हैं 

Check Also

जीडीसीडब्ल्यू कठुआ ने सम्मान समारोह का आयोजन किया

कठुआ 08 दिसंबर (हि.स.)। गवर्नमेंट डिग्री कॉलेज फॉर वुमन कठुआ में गुरुवार को सम्मान समारोह …