‘बीजेपी सौदेबाजी करती है, सम्मान नहीं…’ बिहार विधानसभा में तेजस्वी यादव का तीखा हमला

बिहार फ्लोर टेस्ट: एनडीए में दोबारा शामिल होने के बाद नीतीश कुमार 9वीं बार बिहार के मुख्यमंत्री बनने में कामयाब रहे लेकिन अब उनकी सरकार को आज विधानसभा में विश्वास मत हासिल करना था। इस पर गंभीर चर्चा चल रही है. इस बहस में भाग लेते हुए पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने बीजेपी और नीतीश कुमार दोनों को घेरा.

विजय सिन्हा ने तेजस्वी को दिया जवाब

तेजस्वी यादव के आरोपों पर डिप्टी सीएम विजय सिन्हा ने प्रतिक्रिया दी है. उन्होंने कहा, ‘मैं आपको बता दूं कि पार्टी नेतृत्व ने जो भी जिम्मेदारी दी, हमने उसे ईमानदारी से पूरा करने का प्रयास किया. उन्होंने कहा, खुद को समाजवादी परिवार का कहने वाले व्यक्ति का ऐसा चरित्र नहीं है. समाजवाद का चरित्र ऐसा नहीं है कि वह कथनी और करनी में भिन्न हो। ‘ऐसे लोग हैं जो सत्ता के लिए समझौता कर लेते हैं।’

स्पीकर के खिलाफ प्रस्ताव पारित 

बिहार में अवध बिहारी चौधरी को विधानसभा अध्यक्ष पद से हटाने का प्रस्ताव ध्वनि मत से पारित हो गया. इस प्रस्ताव पर वोटिंग भी हुई और इसके बाद स्पीकर के पक्ष में 125 और विपक्ष में 112 वोट पड़े.

तेजस्वी ने पीएम मोदी से पूछा सवाल 

सम्राट चौधरी की पगड़ी के बारे में तेजस्वी ने कहा, ‘हमारे चाचा ने उन्हें पगड़ी उतारने की सलाह दी होगी. सम्राट चौधरी के पिता हमारी पार्टी में रहे हैं, उन्होंने नीतीश के बारे में क्या कहा है, हम इसका खुलासा नहीं करना चाहते. बिहार के बच्चों से पूछिए कि वे क्या शब्द इस्तेमाल करेंगे, हम नहीं बता सकते। क्या मोदी जी गारंटी देंगे कि नीतीश दोबारा हड़ताल नहीं करेंगे?’

हम बिहार में मोदी को रोकेंगे: तेजस्वी 

तेजस्वी यादव ने आक्रामक अंदाज में कहा, ‘आपको हमें बताना चाहिए था कि आप हमें छोड़ रहे हैं. हमने 2020 में गठबंधन बनाया लेकिन हमारे गठबंधन में कोई समस्या नहीं थी. अब हम ही बिहार में मोदी को रोकेंगे.’

नीतीश कुमार पर हमला बोलते हुए तेजस्वी ने कहा, ‘नीतीश कुमार ने हमें पहले आशीर्वाद दिया था कि अब हम आगे बढ़ेंगे. हमारा मानना ​​है कि हम वनवास में नहीं आये हैं. नीतीश जी ने हमसे कहा कि बीजेपी के लोग हमें फंसाने के लिए ईडी-सीबीआई का इस्तेमाल कर रहे हैं. अंततः किस कारण से आपको यह निर्णय लेना पड़ा? आपने कहा कि हमने एनडीए छोड़ा क्योंकि हमारी पार्टी को तोड़ने की कोशिश की गई. आपने कहा कि हमारा एकमात्र उद्देश्य देशभर में विपक्षी दलों को एकजुट करना है. आप अपनी बात से मुकर गए।’

हमने 17 महीनों में काम किया और दिखाया: शानदार

राजद नेता ने कहा, ‘हमने कहा कि अगर हम आपके साथ आते हैं तो आप हमें आश्वस्त करें कि हम वादे के मुताबिक 10 लाख नौकरियां देंगे, जिसके बाद सीएम ने कहा कि वित्त सचिव जा रहे हैं. यह आपको समझा देगा. वे हमें फाइल दिखाते हैं कि यह कैसे होगा. हमने कहा कि हमें ये काम हर हाल में करना है. आपने कहा था कि यह असंभव है, लेकिन हमने इसे 17 महीनों में हासिल कर लिया। हमने थके हुए मुख्यमंत्री को दौड़ाने का काम किया.’

कर्पूरी ठाकुर मामले पर हमला 

सुप्रीम कोर्ट ने बिहार में जाति आधारित जनगणना रोकने के लिए सॉलिसिटर जनरल की नियुक्ति की. हमारे पिताजी ने भी कर्पूरी ठाकुर के साथ काम किया है. क्या आप जानते हैं कि जब कर्पूरी आरक्षण बढ़ा रहे थे तब जनसंघ सरकार का हिस्सा था, जनसंघवाला ने उन्हें हटा दिया था। वही बीजेपी वाले कह रहे थे कि आरक्षण कहां से आया और मुख्यमंत्री कहां गए? 

भारत रत्न की बात पर बोला हमला 

उन्होंने कहा कि ‘भारत रत्न ने एक डील की है. भाजपा के मन में किसी के लिए कोई सम्मान नहीं है और केवल सौदेबाजी है। यह सिर्फ वोटबैंक की राजनीति के लिए किया जा रहा है। हम दृढ़ हैं क्योंकि हम सिद्धांतवादी लोग हैं। हम संघर्ष करते रहेंगे.’

जब तक सरकार स्थिर नहीं होगी बिहार में विकास संभव नहीं: तेजस्वी 

बिहार के विकास को लेकर तेजस्वी ने कहा, ‘हम बिहार के हित और प्रगति के लिए काम करना चाहते हैं. जब तक सरकार में स्थिरता नहीं होगी, विकास संभव नहीं है. हमें जदयू विधायकों पर दुख है. वे जनता को क्या जवाब देंगे? अगर कोई आपसे पूछे कि नीतीश जी आपने 3-3 बार शपथ ली तो आप क्या जवाब देंगे? तेजस्वी ने कहा कि हमें कहना होगा कि हमने नौकरियां दीं.