Bihar: मुकेश सहनी के NDA छोड़ कर जाने पर बोले BJP सांसद- उनके तीनों विधायक हमारे साथ

नई दिल्ली/पुलिस. विकासशील इंसान पार्टी (वीआईपी) के राष्ट्रीय अध्यक्ष और बिहार सरकार (Bihar Government) में मंत्री मुकेश सहनी (Mukesh Sahni) के राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) के सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav) के प्रति दिखाए गए प्रेम पर बीजेपी के सांसद अजय निषाद (Ajay Nishad) ने पलटवार किया है. उन्होंने कहा कि मुकेश सहनी ने कहा था कि तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) ने पीठ में छुरा घोंपा है और अब कुछ और कह रहे हैं. उन्होंने कहा कि हर समय इनकी नीति और नीयत दोनों बदलती रहती है. बीजेपी सांसद ने मुकेश सहनी को खुली चुनौती देते हुए कहा कि अगर वो सरकार छोड़कर चले जाएं तो भी सरकार की सेहत पर कोई फर्क नहीं पड़ेगा. बिहार में नीतीश सरकार (Nitish Government) पूरे पांच साल का कार्यकाल पूरा करेगी.

मुकेश सहनी को चेतावनी देते हुए अजय निषाद ने कहा कि उनके तीनों विधायक ही उनके साथ नहीं हैं. अगर वो एनडीए छोडकर जाते भी हैं तो उनके तीनों विधायक बीजेपी के साथ ही रहेंगे. वो यहीं नहीं रूके, उन्होंने कहा कि मुकेश सहनी अलग डफली बजा रहे हैं और वीआईपी पार्टी के विधायक उनके संपर्क में भी नहीं हैं. यहां तक कि बीजेपी ने बिहार विधानसभा चुनाव में 11 सीट वीआईपी को दी थी जिससे निषाद समाज के लोगों को सम्मान दिया जा सके. लेकिन उन्होंने सभी टिकट सवर्णों को बेच दिया.

मुकेश सहनी ने बोचहां सीट उपचुनाव पर दावा ठोका

बता दें कि पिछले दिनों मुकेश सहनी की पार्टी के विधायक मुसाफिर पासवान का निधन हो गया है, जिसके बाद बोंचहा विधानसभा सीट पर उपचुनाव होना है. बीजेपी ने वहां अपना दावा पहले ही ठोक दिया है. बीजेपी सांसद ने स्पष्ट कर दिया है कि उस सीट पर बीजेपी का ही उम्मीदवार मैदान में उतरेगा.

पिछली बार विधानसभा चुनाव में बोंचहा सीट मुकेश सहनी की पार्टी के खाते में गई थी. सहनी इस सीट पर फिर अपना दावा कर रहे हैं. लेकिन उत्तर प्रदेश में अकेले चुनाव लड़ने के फैसले के बाद बीजेपी इस बार वीआईपी को बोंचहा विधानसभा सीट देने से इनकार कर रही है.

उधर, जनता दल युनाइटेड (जेडीयू) की तरफ से मुकेश सहनी के ‘लालू प्रेम’ पर सांसद सुनील कुमार पिंटू ने कहा कि मुकेश सहनी एनडीए में रहे. वो यहां मान-सम्मान पाए, लेकिन वहां जाकर पीठ में खंजर न घोंपवाएं. उन्होंने कहा कि पहले भी उनको वहां प्रेम मिला था, फिर उनकी पीठ में खंजर घोपा गया था. लेकिन एनडीए में उनको मान-सम्मान मिला है. इसलिए वो यहीं पर रहें तो बेहतर होगा.

Check Also

पुलिस द्वारा यौनकर्मियों और उनके बच्चों के साथ सम्मानजनक व्यवहार किया जाना चाहिए:सुप्रीम कोर्ट

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट ने सेक्स वर्कर्स को लेकर बड़ा आदेश जारी किया है. सुप्रीम कोर्ट ने …