एशियाई विकास बैंक ने आर्थिक वृद्धि दर का अनुमान घटाकर 7 फीसदी किया

21gdp2_855

नई दिल्ली, 21 सितंबर (हि.स)। अर्थव्यवस्था के मोर्चे पर सरकार के लिए झटका लगने वाली खबर है। एशियाई विकास बैंक (एडीबी) ने वित्त वर्ष 2022-23 के लिए देश की आर्थिक वृद्धि दर के अनुमान को घटाकर अब 7 फीसदी कर दिया है। एडीबी ने पहले 7.2 फीसदी विकास दर का अनुमान जताया था।

एडीबी ने बुधवार को जारी अपनी ताजा रिपोर्ट में कहा कि अनुमान से ज्यादा महंगाई दर और मौद्रिक सख्ती की वजह से आर्थिक वृद्धि दर में ये कमी आएगी। एडीबी ने कहा कि वित्त वर्ष 2022-23 की पहली तिमाही में भारतीय अर्थव्यवस्था सालाना आधार पर 13.5 फीसदी की दर से बढ़ी है, जो सेवाओं में मजबूत वृद्धि को दर्शाता है।

एशियाई विकास बैंक ने (मार्च 2023 में खत्म होने वाले वर्ष) चालू वित्त वर्ष के लिए सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) वृद्धि दर का अनुमान घटाकर 7 फीसदी कर दिया है। हालांकि, वित्त वर्ष 2023-24 (मार्च 2024 में खत्म होने वाले वर्ष) के लिए आर्थिक वृद्धि दर का अनुमान 7.2 फीसदी रखा है। इसके अलावा एडीबी ने कहा है कि चीन की अर्थव्यवस्था 2022 में 3.3 फीसदी की दर से वृद्धि करेगी, जो पहले के पांच फीसदी वृद्धि दर के अनुमान से कम है।

एडीबी के मुताबिक कीमतों के दबाव की वजह से घरेलू खपत प्रभावित होगी, जबकि वैश्विक मांग में कमी तथा तेल की ऊंची कीमतें शुद्ध निर्यात को प्रभावित करेंगे। इसके बावजूद वित्त वर्ष 2022-23 में भारत की जीडीपी वृद्धि दर 7 फीसदी रहेगी। गौरतलब है कि इससे एक दिन पहले देश के मुख्य आर्थिक सलाहकार (सीईए) वी. अनंत नागेश्वर ने भी कहा कि वित्त वर्ष 2022-23 में देश की अर्थव्यवस्था 7 फीसदी की दर से बढ़ेगी।

उल्लेखनीय है कि रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (आरबीआरई) ने चालू वित्त वर्ष में सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) 7.2 फीसदी रहने की संभावना जताई है। इसके अलावा कई रेटिंग्स एजेंसियों ने भी मौजूदा वैश्विक परिदृश्य में भारत के आर्थिक वृद्धि दर के अपने पूर्वानुमान को घटाया है।

Check Also

27_09_2022-27_09_2022-guatm_adani_9140136

गौतम अडानी ने कहा, चीन बहुत जल्द दुनिया से अलग-थलग पड़ जाएगा, भारत के पास अपार संभावनाएं

भारतीय उद्योगपति और दुनिया के दूसरे सबसे अमीर व्यक्ति गौतम अडानी ने कहा है कि …