अनुपम खेर ने शेयर की ‘मां का पल्लू’ की कहानी, फैंस हो रहे हैं भावुक, देखें VIDEO

अनुपम खेर (Anupam Kher) बॉलीवुड के वो अभिनेता है, जो सोशल मीडिया (Social Media) पर काफी एक्टिव रहते हैं. देश-विदेश में चल रहे मामलों पर अपनी प्रतिक्रिया के साथ वह अक्सर अपनी मां दुलारी (Anupam Kher mother Dulari) के साथ वीडियो सोशल मीडिया पर शेयर करते हैं, जिनको लोग काफी पसंद करते हैं. हाल ही में उन्होंने मां को लेकर एक इमोशनल वीडियो शेयर किया है. वीडियो में उनकी मां दुलारी तो नहीं हैं, लेकिन मां के बारे में उन्होंने ऐसी बात की है, जिसको सुनने के बाद फैंस भावुक (Anupam Kher emotional video on Mother) हो रहे हैं.

सोशल मीडिया पर वायरल
अनुपम खेर (Anupam Kher)अक्सर अपनी मां के साथ खट्टी मीठी नोकझोक करते रहते हैं, हाल ही में उन्होंने एक वीडियो शेयर किया जो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है. अनुपम खेर इस वीडियो में मां की साड़ी की पल्लू के बारे में बात कर रहे हैं.

अनुपम खेर ने बयां किया क्या है मां का पल्लू
वीडियो में अभिनेता अनुपम खेर कह रहे हैं, ‘मैं एक छोटे से शहर से हूं. छोटे-छोटे शहरों में मां की साड़ी का पल्लू किस-किस काम आता था? जरा ये सुनिए! शायद आपमें से कुछ लोगों के दिलों को छू जाए, दरअसल मां के पल्लू की बात ही निराली थी. मां का पल्लू बच्चों का पसीना, आंसू पोछने के काम आता ही था, पर खाना खाने के बाद मां के पल्लू से मुंह साफ करने का अपना एक मजा होता था. कभी आंख में दर्द होने पर मां अपनी साड़ी के पल्लू का गोला बनाकर फूंक मारकर गरम करके आंख पे लगाती थी तो दर्द उसी समय पता नहीं कहां उड़न छू हो जाता था. जब बच्चों को बाहर जाना होता था तब मां की साड़ी का पल्लू पकड़ लो, कमबख्त गूगल मैप की किसको जरूरत पड़ेगी. जब तक बच्चे ने हाथ में मां का पल्लू थाम रखा होता था ऐसी लगती थी जैसे सारी कायनात बच्चे की मुट्ठी में होती थी. ठंड में मां का पल्लू हिटिंग और गर्मियों में कूलिंग का काम करता था. बहुत बार मां की पल्लू का काम इस्तेमाल पेड़ों से गिरने वाली नाशपाती , सेब और फूलों के लाने के लिए भी किया जाता था. मां के पल्लू में धान, धान प्रसाद भी जैसे- तैसे इकट्ठा हो ही जाता था.  पल्लू में गांठ लगाकर मां अपने साथ एक चलता-फिरता बैंक रखती थी. अगर आपकी किस्मत अच्छी हो तो उस बैंक से कुछ पैसे आपको मिल ही जाते थे. मैंने कई बार मां को अपनी पल्लू में हंसते, शरमाते तो कभी कभी रोते हुए देखा है. मुझे नहीं लगता की मां की पल्लू का विकल्प या अल्टरनेट कभी भी कोई ढूंढ पाएगा. असल में मां का पल्लू अपना एक जादुई एहसास लेकर आता था. आज की जनरेशन को मां के पल्लू की इम्पोर्टेंश समझ में आती या नहीं, पर मुझे पूरा यकीन है कि आप में से बहुत से लोगों को यह सब सुनकर मां की और मां की पल्लू की बहुत याद आएगी.’

Koo App

 

 

मां की जय हो
इस वीडियो को शेयर करते हुए उन्होंने कैप्शन में लिखा- मां का पल्लू: आप में से कितनो ने बचपन में #मांकापल्लू कभी ना कभी इस्तेमाल किया है? जरूर बताइए! #मांकापल्लू- मां और बच्चों के बीच की एक महत्वपूर्ण कड़ी होता था. कितनी यादें जुड़ी है इसके साथ! ये अभी भी मेरी सुरक्षा कंबल है!’ इसके साथ उन्होंने लिखा है, अपनी मां का नाम मेरे साथ साझा करें. मां की जय हो! इस कैप्शन के साथ उन्होंने हार्ट इमोजी के साथ हाथ जोड़ सभी मां को प्रणाम कहा है. इस वीडियो को सुन फैंस भावुक हो रहे हैं.

Check Also

फिल्म लाल सिंह चड्ढा को बैसाखी पर ही रिलीज किया जाएगा

-आमिर खान प्रोडक्शन्स तले बनी फिल्म का निर्देशन अद्वैत चंदन ने किया है   मुंबई(ईएमएस) …