एक और पुलिसकर्मी की करतूत आई सामने, Video Call पर करता था अश्लील हरकतें

Ajmer: राजस्थान पुलिस के डीएसपी हीरालाल सैनी (DSP Hiralal Saini) के महिला कांस्टेबल के साथ स्विमिंग पूल के वायरल हुए अश्लील वीडियो का मामला अभी चल ही रहा था कि राजस्थान के अजमेर में एक और पुलिसकर्मी की अश्लील व्हाट्सऐप चैटिंग (Whatsapp Chats) और वीडियो कॉल (Porn Video Calls) का खुलासा हुआ है. मिली जानकारी के अनुसार, आरोपी कांस्टेबल विक्रम सिंह अजमेर जिले के पीसांगन थाने में ड्राइवर के पद पर था.

जानकारी के अनुसार, अजमेर का आरोपी कांस्टेबल विक्रम सिंह (Vikram Singh) लगभग आठ महीने से इलाके के युवा उम्र के छात्र को डराकर उससे देर रात तक अश्लील चेटिंग करता और कांस्टेबल ने छात्र को वीडियो कॉलिंग के माध्यम से खुद के नग्न हालत के वीडियो भी भेजे. यह मामला सामने आते ही एसपी जगदीशचंद्र शर्मा ने पुलिसकर्मी को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया.

 

 

साथ ही कांस्टेबल के खिलाफ पोक्सो एक्ट के साथ अन्य धाराओं में मुकदमा दर्ज जांच नसीराबाद सदर पुलिस को सौंपी गई है. इस मामले की जानकारी आठ महीने पहले दिसंबर में ही पीसांगन थाना पुलिस को छात्रों ने दे दी थी, लेकिन शिकायत पर कोई कार्रवाई नहीं की गई.

इसी के चलते आरोपी कांस्टेबल विक्रम सिंह छात्र पर थाने में कमरे में आने के लिए दबाव डाल रहा था. इतना ही नहीं एक दिन उसने रात करीब 10 बजकर 35 मिनट पर छात्र को मैसेज करके कहा कि मेरे कार्नर वाले रूम में आ जाओ. मैं कुंडी खोलकर रखता हूं. इस पर छात्र ने सोमवार को पुलिस उपाधीक्षक अजमेर ग्रामीण आईपीएस सुमित मेहरड़ा को पूरे मामले की जानकारी दी.

इस मामले पर प्रदीप कुमावत ने बताया कि 22 दिसंबर 2020 को इलाके के छात्रों ने पीसांगन थाने में लिखित शिकायत दी थी. इसमें कांस्टेबल की हरकतों के बारे में बताया गया था. छात्र ने बताया कि जब वह मार्निंग और इवनिंग वॉक पर जाता है तो कांस्टेबल उसे शारीरिक और मानसिक तौर पर परेशान करता है और झूठे मामले में फंसाने की धमकी देता है.

Check Also

जम्मू कश्मीर: जमात-ए-इस्लामी टेरर फंडिंग मामले में सात जिलों में 17 जगहों पर NIA की छापेमारी, कई दस्तावेज-इलेक्ट्रॉनिक सामान जब्त

नेशनल इन्वेस्टिगेशन एजेंसी (National Investigation Agency) ने बुधवार को जमात-ए-इस्लामी के टेरर फंडिंग मामले (Terror …