बिजली पर नाराज बीजेपी का सदन से वॉकआउट:ऊर्जा मंत्री ने बिजली पर विपक्ष के आरोपों को लेकर घंटे भर विधानसभा में जवाब दिया, बीजेपी विधायक जवाब से संतुष्ट नहीं हुए

 

विधानसभा सदन से वॉकआउट करते बीजेपी विधायक। - Dainik Bhaskar

विधानसभा सदन से वॉकआउट करते बीजेपी विधायक।

विधानसभा में ऊर्जा मंत्री बीडी कल्ला के जवाब से असंतुष्ट बीजेपी विधायकों ने मंगलवार को सदन से वॉकआउट किया। बीजेपी विधायकों के सोमवार को स्थगन प्रस्ताव के जरिए बिजली खरीद और बिजली संकट पर उठाए गए मुद्दों का उर्जा मंत्री ने घंटे भर तक जवाब दिया। लंबे जवाब से भी बीजेपी विधायक संतुष्ट नहीं हुए और मंत्री पर केवल अफसरों का लिखा हुआ पढ़ने का आरोप लगाते हुए नाराजगी जताई। कल्ला ने कोयला संकट के लिए केंद्र को जिम्मेदार ठहराते हुए कहा कि केंद्र सरकार की गलत नीतियों की वजह से कोयला महंगा हो गया। राजस्थान में कोयले की कमी हुई। अगस्त में कोल इंडिया की खानों में पानी भर जाने के कारण कोयले की सप्लाई प्रभावित हुई। राजस्थान ही नहीं, बल्कि उत्तर भारत में भी बिजली उत्पादन प्लांट कोयले की कमी के चलते बंद रहे। इसमें एनटीपीसी भी शामिल है। केंद्र में भाजपा की सरकार है। राजस्थान ने भाजपा को 25 सांसद दिए हैं। ऐसे में नेता प्रतिपक्ष और 25 सांसदों की जिम्मेदारी बनती है कि वह केंद्र सरकार से मांग करें कि वह राजस्थान को पर्याप्त कोयले की आपूर्ति करें। ताकि बिजली का उत्पादन सुचारु हो सके। कल्ला ने दावा किया कि बिजली खरीद में किसी तरह की कोई गड़बड़ी नहीं हुई। बिजली की खरीद में कोई भ्रष्टाचार नहीं हुआ है।

कटारिया बोले- जो अफसरों ने लिखकर दिया मंत्री ने वही पढ़ दिया
मंत्री के जवाब पर नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया ने कहा कि आपका विभाग डूबो रहा है। सब दंड राजस्थान की जनता पर ही है। घंटे भर से हम केवल बखान सुन रहे हैं। केवल जो अफसरों ने लिखकर दिया, वह पढ़ दिया। उपभोक्ता की परेशानी के लिए जिम्मेदार कौन होगा? बिजली उपभोक्ताओं को लूटा जा रहा है। उस पर एक शब्द नहीं बोला। अफसरों ने जो लिखकर दिया, उस पर सवाल क्यों नहीं किए। इसके बाद बीजेपी विधायकों ने सदन से वॉकआउट किया।

 

खबरें और भी हैं…

Check Also

आपके घर के पास जो मोबाइल टावर लगे हैं, इनका काम क्या होता है? किसी को फोन करने में ये कैसे मदद करते हैं

आपके इलाके में आपने देखे होंगे कि मोबाइल टावर लगे होते हैं. अब तो इसका …