भारत में अमेरिका के राजदूत हो सकते हैं LA के मेयर एरिक गार्सेटी, US का राष्ट्रपति बनने की जताई थी इच्छा

अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन (Joe Biden) भारत में राजदूत (Ambassador to India) के तौर पर लॉस एंजलिस (Los Angeles) के मेयर एरिक गार्सेटी (Eric Garcetti) के नाम का विचार कर रहे हैं. अमेरिकी न्यूज वेबसाइट एक्सियस ने इस मामले से संबंधित लोगों का हवाला देते हुए कहा, गार्सेटी उन लोगों में शामिल हैं, जिनके नाम का इस पद के लिए विचार किया जा रहा है.

राष्ट्रपति चुनाव में बाइडेन के अभियान के सह अध्यक्ष रहे गार्सेटी ने दिसंबर में कहा था कि उन्होंने लॉस एंजलिस का मेयर रहने के लिए प्रशासन द्वारा ऑफर किए गए एक पद को ना बोल दिया था. एक्सियस की रिपोर्ट में कहा गया कि अगर गार्सेटी की नियुक्ति भारत में अमेरिका के राजदूत के तौर होती है तो वह ऐसे समय में इस पद को संभालेंगे, जब 1.36 अरब की आबादी वाला ये मुल्क बढ़ते कोरोना मामलों से जूझ रहा है.

नियुक्ति को लेकर बाइडेन ने नहीं लिया है अंतिम फैसला

एक्सियस ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि मार्च में बाइडेन को संभावित राजदूतों की लिस्ट सौंपी गई थी, लेकिन अभी तक नियुक्त को लेकर कोई आखिरी निर्णय नहीं लिया गया है. बाइडेन प्रशासन ने संकेत दिया है कि भारत हिंद-प्रशांत क्षेत्र में चीन की महत्वाकांक्षाओं का मुकाबला करने में मदद करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा. मार्च में राष्ट्रपति बाइडेन ने क्वाड नेताओं संग बैठक की थी, ताकि हिंद-प्रशांत में चीन के बढ़ते दबदबे से निपटने की योजना बनाई जा सके.

2022 में खत्म होगा मेयर पद का कार्यकाल

एक समय एरिक गार्सेटी खुद राष्ट्रपति पद की दौड़ में शामिल होने की योजना बना रहे थे. बता दें कि गार्सेटी को मार्च 2017 में दोबारा लॉस एंजलिस का मेयर चुना गया. इस तरह जनता ने उन्हें एक बार फिर साढ़े पांच साल तक अपनी सेवा करने का मौका दिया. इस तरह अभी उनका कार्यकाल 2022 में खत्म होने वाला है. ऐसे में अभी उनके पास करीब डेढ़ साल का कार्यकाल बचा हुआ है. हाल के दिनों में शहर में बढ़ते प्रदर्शनों से भी गार्सेटी को दो चार होना पड़ा है.

कोरोना संकट में भारत की मदद के लिए आगे आया अमेरिका

भारत और अमेरिका के बीच हाल के सालों में रिश्ते काफी मजबूत हुए हैं. ऐसे में अगर एरिक गार्सेटी को भारत में राजदूत नियुक्त किया जाता है तो उन्हें इस द्विपक्षीय रिश्ते को आगे ले जाने की जरूरत होगी. गौरतलब है कि कोरोना से बिगड़ते हालात में अमेरिका ने भारत की तरफ मदद का हाथ बढ़ाया है. हर दिन बड़ी संख्या में मेडिकल सप्लाई अमेरिका से भारत पहुंच रही है. बाइडेन ने भी भारत को संभव मदद पहुंचाने का वादा किया है.

Check Also

इस्लामिक देश वाक़ई इसराइल को झुका पाने की हालत में हैं?

सऊदी अरब और तुर्की की दुश्मनी ऑटोमन साम्राज्य से ही है जबकि दोनों सुन्नी मुस्लिम …