‘पन्नू स्कैंडल’ के कारण अमेरिका ने भारत को नहीं दिए ड्रोन, एक सीनेटर के विरोध के कारण रुकी थी डील

वाशिंगटन: भारत और अमेरिका के बीच एक बड़े ड्रोन खरीद पर समझौता हो गया है। अमेरिका ने गुरुवार को 3.99 अरब डॉलर मूल्य के 31 एमक्यू-9 सशस्त्र ड्रोन की बिक्री को मंजूरी दे दी। अत: समुद्री मार्गों पर मानवरहित ड्रोन से निगरानी की जा सकती है। इसलिए वर्तमान और भविष्य के खतरों के खिलाफ भारत की मारक क्षमता को बढ़ाना होगा।

दरअसल, ड्रोन डील की घोषणा जून 2013 में की गई थी जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ऐतिहासिक राजनीतिक यात्रा पर गए थे, जिसमें पन्नू की हत्या की तथाकथित कोशिश की बात सामने आई थी. तो अमेरिकी सीनेट की विदेश संबंध समिति के अध्यक्ष बेन कार्डिन ने आपत्ति जताई थी, लेकिन अब उन्होंने वह आपत्ति वापस ले ली है. तो भारत को 31 ड्रोन मिल सकेंगे.

सीनेटर बेन कार्डिन ने कहा कि वह महीनों से बिडेन प्रशासन के साथ बातचीत कर रहे थे। इसके बाद उसने 3.99 अरब डॉलर के ड्रोन सौदे पर अपना विरोध वापस ले लिया। जैसा कि हमें बिडेन प्रशासन द्वारा बताया गया था, भारत ने अमेरिकी धरती पर अलगाववादी गुरुवंत सिंह पन्नू पर तथाकथित हत्या के प्रयास की जांच के लिए नियुक्त ‘न्यायिक जांच समिति’ को अपना पूर्ण समर्थन देने का वादा किया है।